BREAKING!
  • वीरेन्द्र कुमार श्रम विभाग के उपसचिव बने
  • महापौर ने किया वार्ड 60 के सिंधिया नगर में निरीक्षण, अधिकारियों को दिए समस्या निराकरण के निर्देश
  • ग्वालियर स्टार्टअप मीट 2022 से शहर के युवाओं को मिला अंतरर्राष्ट्रीय प्लेटफार्म: महापौर
  • सौ अश्वमेघ यज्ञ से भी नहीं हटेगा कन्याभ्रूण हत्या का पाप: समीक्षा गुप्ता
  • अकेले पड़े मुन्नालाल डिफेंस मोड में, महापौर के पैलेस पर धरने की बात सिंधिया तक पहुंची
  • ग्वालियर पुलिस ने सेवानिवृत्त हुए पुलिस अधिकारी व कर्मियों को दी विदाई
  • महाराजा अग्रसेन मेला 1 अक्टूबर से, सजेगा विशाल दरबार
  • मासिक दिव्यांग मिलन बैठक का आयोजन किया
  • कैट का दीपावली मिलन समारोह 1 नवम्बर को
  • अग्रसेन जयंती के अवसर पर निकले चल समारोह का पुष्प वर्षा से स्वागत किया

Sandhyadesh

ताका-झांकी

महिला सरपंच के पति ने किया ग्राम पंचायत का संचालन तो जायेगी सरपंची : कलेक्टर

20-Sep-22 33
Sandhyadesh


ग्वालियर ।  त्रि-स्तरीय पंचायतों के लिए निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों के स्थान पर कोई और व्यक्ति ग्राम सभा व ग्राम पंचायत इत्यादि की बैठक में भाग नहीं ले सकेगा। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने जिले की सभी जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को लिखित में निर्देश जारी किए हैं कि सरपंच या पंच के पद पर निर्वाचित महिला प्रतिनिधि के स्थान पर यदि उनके पति या किसी अन्य परिजन द्वारा ग्राम पंचायत या ग्राम सभा की बैठक में भाग लिया जाए तो ऐसी महिला सरपंचों व पंचों को पद से हटाने की कार्रवाई प्रस्तावित करें। 
पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने त्रि-स्तरीय पंचायतों के लिये चुनी गईं महिला जनप्रतिनिधियों के सशक्तिकरण और ग्रामीण विकास में महिलाओं की भूमिका को मजबूती प्रदान करने के उद्देश्य से दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। विभाग ने स्पष्ट किया है कि महिला पदाधिकारियों के स्थान पर ग्राम पंचायत व ग्राम सभा की बैठकों का संचालन उनके पति अथवा परिजनों द्वारा किया जाना वर्जित है। इस सिलसिले में कलेक्टर सिंह द्वारा यह आदेश जारी किया गया है। ज्ञात हो त्रि-स्तरीय पंचायत राज संस्थाओं में महिलाओं के प्रतिनिधित्व को मजबूती प्रदान करने के उद्देश्य से जिला, जनपद व ग्राम पंचायतों में 50 प्रतिशत पद महिलाओं के लिये आरक्षित किए गए हैं। कलेक्टर सिंह ने पत्र के जरिए सभी जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को ताकीद किया है कि महिला जनप्रतिनिधियों के स्थान पर उनके पतियों द्वारा बैठकों के संचालन संबंधी शिकायतों को गंभीरता से लें। साथ ही समय – सीमा में कार्रवाई करें। उन्होंने इन निर्देशों का कड़ाई से पालन करने की हिदायत दी है। 

Popular Posts