BREAKING!
  • वीरेन्द्र कुमार श्रम विभाग के उपसचिव बने
  • महापौर ने किया वार्ड 60 के सिंधिया नगर में निरीक्षण, अधिकारियों को दिए समस्या निराकरण के निर्देश
  • ग्वालियर स्टार्टअप मीट 2022 से शहर के युवाओं को मिला अंतरर्राष्ट्रीय प्लेटफार्म: महापौर
  • सौ अश्वमेघ यज्ञ से भी नहीं हटेगा कन्याभ्रूण हत्या का पाप: समीक्षा गुप्ता
  • अकेले पड़े मुन्नालाल डिफेंस मोड में, महापौर के पैलेस पर धरने की बात सिंधिया तक पहुंची
  • ग्वालियर पुलिस ने सेवानिवृत्त हुए पुलिस अधिकारी व कर्मियों को दी विदाई
  • महाराजा अग्रसेन मेला 1 अक्टूबर से, सजेगा विशाल दरबार
  • मासिक दिव्यांग मिलन बैठक का आयोजन किया
  • कैट का दीपावली मिलन समारोह 1 नवम्बर को
  • अग्रसेन जयंती के अवसर पर निकले चल समारोह का पुष्प वर्षा से स्वागत किया

Sandhyadesh

ताका-झांकी

मूल भाजपाईयों व बाहर से आये भाजपाइयों में जंग

14-Sep-22 436
Sandhyadesh

आजकल भाजपा के भीतर ही भीतर जंग चल रही है, यह जंग मूल भाजपाईयों व बाहर से आये कांग्रेसी भाजपाईयों के बीच है। ग्वालियर-चंबल अंचल में यह स्थिति ज्यादा गंभीर है क्योंकि सबसे ज्यादा कांग्रेस से भाजपा में आये नेता और कार्यकर्ता मूल भाजपाईयों को गिन ही नहीं रहे हैं और उनकी जडें काटने पर आमादा हैं जिसमें ग्वालियर-चंबल संभाग में भाजपा दो खेमों में बंटी सी नजर आती है।
ग्वालियर से लेकर डबरा ,दतिया, भिंड, मुरैना, शिवपुरी, श्योपुर , गुना ,अशोक नगर, में से अधिकांश स्थानों पर भाजपा खेमेबाजी में बंट गई है। ग्वालियर जिले के डबरा में तो यह स्थिति विषम है। कुल मिलाकर भाजपा में आये पूर्व कांग्रेसी अब मूल भाजपाईयों पर आंखें तरेरने लगे हैं।
यदि भाजपा में अभी भी यह स्थिति बनी रही तो २०२३ के चुनाव में पार्टी को काफी दिक्कतें आ सकती हैं। भाजपा में भी नये नवेले इन भाजपाईयों ने अपनी-अपनी विधानसभा सीटें चुन ली हैं और अपने नेता के आशीर्वाद से टिकट मिलने का दंभ भर मूल भाजपाईयों को हताश करने पर आमादा हैं, जिससे इन जिलों में केवल पदाधिकारियों को छोडकर अन्य भाजपाई अब अपने घर बैठने लगे हंै।
यह खबर भाजपा के प्रदेश आलाकमान को भी है, लेकिन प्रदेश आलाकमान अभी भी ऐसे मामलों को हल्के में ले रहा है। 

Popular Posts