BREAKING!
  • नेशनल हेल्थ मिशन का पेपर लीक, गिरोह के आठ सदस्य दबोचे, मास्टर माइंड प्रयागराज का
  • बदलते ग्वालियर में आप सभी का सहयोग जरूरी: ऊर्जा मंत्री
  • निगम अधिकारियों ने सुनी आमजन की समस्यायें
  • वार्ड समिति 3 की ज्योति एवं 4 के विवेक बने अध्यक्ष
  • विकास यात्रा में हितग्राहियों को किया हितलाभ का वितरण
  • स्त्री राष्ट्र की आधार शक्ति
  • कार्यों का हिसाब-किताब व विकास की सौगातें लेकर हम आपके गाँव आए हैं : कुशवाह
  • श्रीकृष्ण ने पढ़ाया था सच्ची मित्रता का पाठ, वर्तमान में बदल गयी परिभाषा:घनश्याम शास्त्री
  • मुख्यमंत्री जी बताये विकलांगजनों का कितना विकास कियाः जौहरी
  • विकास यात्रा के दौरान कलेक्टर ने किया विभिन्न शासकीय संस्थाओं का निरीक्षण

Sandhyadesh

ताका-झांकी

मूल भाजपाईयों व बाहर से आये भाजपाइयों में जंग

14-Sep-22 653
Sandhyadesh

आजकल भाजपा के भीतर ही भीतर जंग चल रही है, यह जंग मूल भाजपाईयों व बाहर से आये कांग्रेसी भाजपाईयों के बीच है। ग्वालियर-चंबल अंचल में यह स्थिति ज्यादा गंभीर है क्योंकि सबसे ज्यादा कांग्रेस से भाजपा में आये नेता और कार्यकर्ता मूल भाजपाईयों को गिन ही नहीं रहे हैं और उनकी जडें काटने पर आमादा हैं जिसमें ग्वालियर-चंबल संभाग में भाजपा दो खेमों में बंटी सी नजर आती है।
ग्वालियर से लेकर डबरा ,दतिया, भिंड, मुरैना, शिवपुरी, श्योपुर , गुना ,अशोक नगर, में से अधिकांश स्थानों पर भाजपा खेमेबाजी में बंट गई है। ग्वालियर जिले के डबरा में तो यह स्थिति विषम है। कुल मिलाकर भाजपा में आये पूर्व कांग्रेसी अब मूल भाजपाईयों पर आंखें तरेरने लगे हैं।
यदि भाजपा में अभी भी यह स्थिति बनी रही तो २०२३ के चुनाव में पार्टी को काफी दिक्कतें आ सकती हैं। भाजपा में भी नये नवेले इन भाजपाईयों ने अपनी-अपनी विधानसभा सीटें चुन ली हैं और अपने नेता के आशीर्वाद से टिकट मिलने का दंभ भर मूल भाजपाईयों को हताश करने पर आमादा हैं, जिससे इन जिलों में केवल पदाधिकारियों को छोडकर अन्य भाजपाई अब अपने घर बैठने लगे हंै।
यह खबर भाजपा के प्रदेश आलाकमान को भी है, लेकिन प्रदेश आलाकमान अभी भी ऐसे मामलों को हल्के में ले रहा है। 

Popular Posts