BREAKING!
  • Breaking: पवन शर्मा इंदौर कमिश्नर, वेदप्रकाश नरसिंहपुर और अनिल खरे होंगे मंडला कलेक्टर
  • थोक कारोबार 7 बजे एवं रिटेल कारोबार 8 बजे बंद करने का प्रस्ताव प्रशासन को सौंपा:चेम्बर
  • राजमाता सिंधिया ट्रस्ट ने आज श्योपुर में वितरण की गईं पीपीई किट
  • मप्र के स्कूलों में 30 जून तक अवकाश घोषित
  • कोरोना को हराने के संकल्प के साथ मनाया जाएगा केंद्रीय मंत्री तोमर का जन्मदिन:जय सिंह कुशवाह
  • कोविड-19 के भय को दूर करने आगे आयें विश्वविद्यालय, नवाचारों और स्वदेशी का बन रहा वातावरण
  • मुख्यमंत्री ने की वीडियो कांफ्रेंस से कलेक्टर्स-कमिश्नर्स से चर्चा
  • बिपनेट क्लब ने मनाया पर्यावरण दिवस, बच्चों के लिए ऑनलाइन बाल कवि सम्मेलन एवं प्रतियोगिता
  • ग्वालियर स्मार्ट सिटी की बोर्ड मीटिंग में हुई विकास कार्यों की समीक्षा
  • ज्यादा से ज्यादा पौधरोपण से ही होगा पर्यावरण का संरक्षण - संभागायुक्त

Sandhyadesh

आज की खबर

अतिक्रमण हटाने पहुंचे प्रशासन के सामने विधायक मुन्नालाल अडे

18-Oct-19 249
Sandhyadesh

सिरौल पहाडी अतिक्रमण मामला 

ग्वालियर। सिरौल पहाडी पर अतिक्रमण को लेकर आज प्रशासन और विधायक आमने-सामने हो गये। विधायक मुन्नालाल गोयल अतिक्रमण ढहाने पहुंचे प्रशासन की टीम के सामने सख्त पड़ गये है। उन्होने स्पष्ट कर दिया है कि जब तक इनकी वैकल्पिक व्यवस्था या न्यायालय से रिव्यू पिटीशन पर फैसला नहीं आता है , तब तक वह इन गरीबों का घर नहीं उजडऩे देंगे। विधायक समाचार लिखे जाने तक सिरोल पहाडी पर ही जमा हैं, और गरीब झुग्गी वालों ने भी उनके समर्थन में अपने चूल्हे चौके जमाकर विधायक और उनके समर्थकों के लिये खुले में खाना भी बनाना शुरू कर दिया है। समाचार लिखे जाने तक कलेक्टर अनुराग चौधरी को सिरोल पहाडी पर बुलाने के लिये विधायक अडे हुये हैं। वहीं धरना स्थल पर मप्र के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव भी पहुंचे और उन्होंने पूरे मामले की जानकारी विधायक मुन्नालाल गोयल से ली। 

जानकारी के मुताबिक आज हाईकोर्ट में चल रही अतिक्रमण हटाने की एक याचिका को लेकर प्रशासन की टीम एसडीएम अनिल बनवारिया व सिरौल तहसीलदार रागिनी पांडे के नेतृत्व में वहां पहुंची , और जेसीबी व बुलडोजर से अतिक्रमण तोडने की शुरूआत की, तो वहां रहने वाले झुग्गी झोपडी निवासियों ने विरोध शुरू कर दिया। 
इसकी जानकारी लगते ही कांग्रेस विधायक मुन्नालाल गोयल भी वहां पहुंचे और उन्होंने प्रशासन की टीम से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई रोकने को कहा। उन्होंने कहा कि अब दीपावली बिल्कुल नजदीक है और त्यौहार पर गरीब लोगों को बेघर नहीं होने देंगे। इस पर बात बिगड गई । प्रशासन की टीम अतिक्रमण तोडने लगी तो विधायक गोयल प उनके समथ्ज्र्ञक जेसीबी व बुलडोजर के आगे धरने पर बैठ गये। इसके बाद एसडीएम बनवारिया व उनकी टीम को रूकना पडा। 
सिरौल पहाडी पर जिनके कच्चे पक्के मकान हैं उन्होंने भी अपने आशियाने बचाने के लिए नारेबाजी भी की और प्रशासन पर भू माफियाओं के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया। अभी भी विधायक मुन्नालाल गोयल वहां अपने समर्थकों व कांग्रेसियों के साथ जमे हैं। उनकी चौपाल के लिये अब वहां के रहवासी पहाडी पर ही चूल्हा चौका जमाकर खाना बना रहे हैं। विधायक गोयल ने स्पष्ट कहा कि यह कार्रवाई रूकनी चाहिये, इसके लिये उन्हें कुछ भी करना पउे वह करने को तैयार हैं। विधायक   के सख्त रवैये से प्रशासन के भी हाथ पैर फूल गये हैं, देर सायं तक प्रशासनिक अधिकारी वहां से लौटकर आगामी रणनीति बनाने में लगे हैं। 
सिरौल पहाडी पर तनाव की स्थिति है, और कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल भी तैनात कर दिया गया है। 

भू माफियाओं का सहयोगी प्रशासन: मुन्ना
ग्वालियर। कांग्रेस के विधायक मुन्नालाल गोयल ने सिरौल पहाडी के मामले को लेकर प्रशासन पर आरोप लगाया है कि वह भू माफियाओं के इशारे पर काम कर रहा है। गोयल ने सत्ता सुधार से बातचीत में कहा कि हमारी कांग्रेस सरकार के वचनपत्र में भी स्पष्ट है कि हम भूमिहीनों को सिर पर छत मुहैया करायेंगे, और हमारी ही सरकार में आम गरीबों की छत प्रशासन के कुछ तत्व उजाड़ रहे हैं, तो हम कैसे चुपचाप बैठ जायें। 
गोयल ने कहा कि यह लोग ३० वर्ष से यहां रह रहे है। इनकी जमीन पर कुछ भू माफियाओं की नजर है, और उन्होंने ही याचिका लगाकर इन्हें हटाकर जमीन से गरीबों को बेदखल करने का षडयंत्र रचा है। गोयल ने कहा कि चूंकि यह मामला उनके क्षेत्र का है, तो वह शांतिपूर्वक यहां इनकी समस्याएं सुनकर इनकी वैकल्पिक व्यवस्था होने तक समयावधि की बात कर रहे हैं। 
लेकिन भूमाफियाओं के इशारे पर काम करने वाला प्रशासन अपनी मनमानी पर उतारू है। मैं इन गरीबों के साथ अन्याय नहीं होने दूंगा। 

2020-06-06aaj