BREAKING!
  • क्या यही स्मार्ट सिटी है.....?
  • निकाय चुनावों से उत्साहित कांग्रेस संगठन में नई जान फूंकने का प्रयास
  • डीआरडीई में तिरंगा अभियान के तहत विभिन्न कार्यक्रम आयोजित
  • अब संजू की तैयारी विधानसभा या भिंड से लोकसभा .......?
  • ऊषा अभियान से जुड़ने पर विद्यार्थियों को मिलता है विशेष ग्रेड अभियान से जुड़े लगभग 5 लाख लोग
  • मुख्यमंत्री चौहान ने वीर सपूत शहीद खुदीराम बोस की पुण्य-तिथि पर नमन किया
  • महापौर ने ग़रीबों के बीच मनाया -रक्षा सूत्र पर्व
  • पापों के प्रायश्चित और पुण्य कामना के लिए किया श्रावणी उपाकर्म
  • व्यापारिक हितों के लिए कैट का कार्य प्रशंसनीय : मनोज तोमर
  • ग्वालियर के 12 करातेकाज़, आल इंडिया इंडिपेंडेंस कप कराते चैंपियनशिप में दिखायेंगे दम

सभापतिः आज होगा शक्ति परीक्षण, पार्षद पतियों को नो एंट्री

04-Aug-22 137
Sandhyadesh

ग्वालियर। नगर पालिका निगम के प्रथम सम्मेलन में आज शुक्रवार 5 अगस्त को स्पीकर का चुनाव होगा। इसके लिए सुबह 10.30 से 11 बजे तक नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किये जायेंगे। स्पीकर चुनाव को लेकर चल रही रस्साकशी को लेकर परिषद सभागार के आसपास पुलिस फोर्स बड़ी संख्या में तैनात रहेगा। वहीं पार्षद पतियों से लेकर नेताओं तक को सभागार में उपस्थिति की अनुमति नहीं है। लेकिन कांग्रेस और भाजपा के दिग्गज नेता आसपास ही रहकर स्पीकर निर्वाचन पर नजर रखेंगे। वहीं परिषद के पहले सम्मेलन में ही अपील समिति के चार सदस्यों का भी निर्वाचन होगा। 
यहां बता दें कि हाल ही में संपन्न नगरीय निकाय चुनाव में मेयर की कुर्सी पर कांग्रेस नेत्री डा. शोभा सतीश सिकरवार ने कब्जा जमाया था। लेकिन परिषद में भाजपा 34 पार्षद जीतकर बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। जबकि कांग्रेस के 25 पार्षद जीतकर आये थे। वहीं 7 निर्दलीय पार्षद भी जीते थे। कांग्रेस की महापौर चुने जाने के बाद तीन निर्दलीय पार्षदों ने हाथ का दामन थाम लिया था। वहीं एक बीएसपी पार्षद ने भी कांग्रेस को समर्थन देकर स्पीकर चुनाव को रोचक बना दिया। महापौर डा. शोभा सिकरवार ने दावा किया था कि स्पीकर कांग्रेस का ही बनेगा। जिससे घबराकर भाजपा ने शपथ के बाद अगले दिन सुबह ही अपने पार्षदों को हरियाणा भेज दिया था। वहां पार्षदों के साथ केन्द्रीय मंत्रीगणों नरेन्द्र सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बैठक की थी। संभावना है कि दिल्ली में भाजपा ने अपने स्पीकर प्रत्याशी को भी तय कर दिया है। इधर कांग्रेस और समर्थित पार्षद भी बीते रोज धार्मिक यात्रा पर चले गये थे। नगर निगम के स्पीकर चुनावों में यह पहली बार देखने को मिला कि इतने बड़े स्तर पर बाड़ेबंदी की गई। भाजपा को घबराकर अपने पार्षदों को हरियाणा भेजना पड़ है। फिर बाद में कांग्रेस भी अपने पार्षदों को एकजुट रखने धार्मिक यात्रा पर ले गई। अब शक्ति परीक्षण का वक्त आ गया है। 5 अगस्त को सुबह स्पीकर के लिए चुनाव होगा। परिषद सभागार के आसपास पुलिस का कड़ा पहरा रहेगा। निर्वाचन के दौरान परिषद सभागार में किसी के भी आने जाने पर पूर्णतः रोक रहेगी। पार्षद पतियों तक की एंट्री नहीं होगी। 
स्पीकर चुनने की प्रक्रिया के दौरान भाजपा और कांग्रेस के बड़े नेता आसपास ही रहकर पूरी नजर रखेंगे। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डा. गोविंद सिंह, कांग्रेस के विधायक और महापौर पति डा. सतीश सिकरवार, विधायक प्रवीण पाठक, जिलाध्यक्ष डा. देवेन्द्र शर्मा, अशोक सिंह, सुनील शर्मा स्पीकर चुनाव प्रक्रिया के दौरान पूरे समय एक्टिव रहेंगे। वहीं भाजपा भी तरह एलर्ट पर है। प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट आज ही ग्वालियर आ गये है। स्पीकर चुनाव को लेकर चल रही रस्साकशी पर 5 अगस्त को फैसला हो जायेगा कि कौन किस पर भारी पड़ता है। 

Popular Posts