BREAKING!
  • क्या यही स्मार्ट सिटी है.....?
  • निकाय चुनावों से उत्साहित कांग्रेस संगठन में नई जान फूंकने का प्रयास
  • डीआरडीई में तिरंगा अभियान के तहत विभिन्न कार्यक्रम आयोजित
  • अब संजू की तैयारी विधानसभा या भिंड से लोकसभा .......?
  • ऊषा अभियान से जुड़ने पर विद्यार्थियों को मिलता है विशेष ग्रेड अभियान से जुड़े लगभग 5 लाख लोग
  • मुख्यमंत्री चौहान ने वीर सपूत शहीद खुदीराम बोस की पुण्य-तिथि पर नमन किया
  • महापौर ने ग़रीबों के बीच मनाया -रक्षा सूत्र पर्व
  • पापों के प्रायश्चित और पुण्य कामना के लिए किया श्रावणी उपाकर्म
  • व्यापारिक हितों के लिए कैट का कार्य प्रशंसनीय : मनोज तोमर
  • ग्वालियर के 12 करातेकाज़, आल इंडिया इंडिपेंडेंस कप कराते चैंपियनशिप में दिखायेंगे दम

सांसद शेजवलकर ने लोकसभा में डीबीटी प्रणाली पर रखा अपना व्यक्तव्य

03-Aug-22 42
Sandhyadesh

- डीबीटी की सफलता के लिए जन धन खाते साबित हुए अतिमहत्वपूर्ण
ग्वालियर। सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने बुधवार को लोकसभा में नियम 377 के अधीन सूचना के तहत डीबीटी (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर) प्रणाली के संबंध में प्रस्तुत अपने व्यक्तव्य में उल्लेख किया कि जिन पात्र हितग्राहियों को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा था वे सभी डीबीटी (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर) प्रणाली के माध्यम से लाभान्वित हो रहे है। डीबीटी की सफलता के लिए जन धन खाते अतिमहत्वपूर्ण साबित हुए। इसके साथ ही आधार को बैंक खाते के साथ जोड़ने पर सरकार ने बहुत ध्यान दिया, जिससे डीबीटी प्रणाली को लागू करने में मदद मिली। वर्तमान में 15 से अधिक मंत्रालयों की योजनाएं डीबीटी के अंतर्गत आती हैं। परन्तु आज भी अनेकों हितग्राही अपने अधिकारों से वंचित है। देखने में आ रहा है कि मानवीय त्रुटि के चलते सही जानकारी दर्ज न होने से पात्र हितग्राही परेशान व लाभ से वंचित है। वितरण श्रृंखला पूरी तरह डिजिटल नहीं है, श्रृंखला में मानवीय हस्तक्षेप सभी समस्याओं की जड है यह चिंता की बात है। डीबीटी को और अधिक सशक्त एवं सुचारू तरीके से क्रियान्वयन करने के लिए इसका पूरी तरह से डिजिटिलाइजेशन होना अति आवश्यक है।
सांसद शेजवलकर ने अपने व्यक्तव्य के माध्यम से सरकार से मांग की एक तंत्र स्थापित किया जाए कि शिकायतों का निराकरण जल्द से जल्द हो जाए। सरकार पूरी डिलीवरी चैन के एंड टू एंड डिलीवरी सिस्टम को पूरी तरह डिजिलिटीकरण व तत्काल त्रुटि सुधार करने हेतु कोई ठोस योजना बनाने पर विचार करना चाहिए।

Popular Posts