BREAKING!
  • ग्वालियर बधिर सोसायटी के वार्षिक चुनाव संपन्न
  • ग्वालियर में कांग्रेस परचम फहरायेगी,शिवराज के पास विजन नहीं टेलीविजन है: कमलनाथ
  • कमलनाथ ने हॉस्पिटल पहुंचकर विधायक सिकरवार के स्वास्थ्य की जानकारी ली
  • सुरक्षा बल को ठहराने के लिये पाँच संस्थानों के परिसर अधिग्रहीत, व्यय प्रेक्षक नियुक्त
  • हरियाली अमावस्या के दिन वृक्षारोपण के लिये चलेगा महाअभियान, चिकित्सा अधिकारी एवं कर्मचारी सम्मानित
  • स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट और नगरीय निकाय के कार्य अच्छी तरह चलें, इसके लिए स्मार्ट निगम परिषद जरूरी: सुमन शर्मा
  • ग्वालियर के विकास की सुनहरे अच्छरो से लिखेंगे ऐतिहासिक इबारत - डॉ नरोत्तम मिश्रा
  • ग्वालियर पुलिस ने चलाया सायबर CRIME अवेयरनेस प्रोग्राम
  • नगरीय निकाय चुनावः ऐसा क्या हुआ कि पत्रकार वार्ता भी नहीं हुई डी.एम. की
  • श्रीधर धर्मशाला का फर्जी ट्रस्ट बनाकर दुकानों का किया आवंटन, अध्यक्ष से एसडीएम ने मांगा जवाब

हमारा संकल्प है कि कोई भी गरीब मरीज धन के अभाव में इलाज से वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान

22-May-22 53
Sandhyadesh

Sandhyadesh
मुख्यमंत्री  चौहान ने किया देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस का भूमिपूजन
केन्द्रीय मंत्री  तोमर व  सिंधिया सहित राज्य सरकार के मंत्रिगण हुए शामिल
ग्वालियर / मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमारा संकल्प है कि धन के अभाव में कोई भी गरीब बिना इलाज के नहीं रहेगा। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई आयुष्मान भारत योजना के तहत सरकार जरूरतमंद गरीब मरीज का पाँच लाख रूपए तक का नि:शुल्क इलाज निजी अस्पतालों में भी करा रही है। उन्होंने कहा सरकार जल्द ही राष्ट्रपति महोदय के कर कमलों से प्रदेश में कई अस्पतालों का लोकार्पण व शिलान्यास कराने जा रही है। मुख्यमंत्री  चौहान रविवार को ग्वालियर में देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस एवं अस्पताल के भूमिपूजन समारोह को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री  नरेन्द्र सिंह तोमर एवं केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री  ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मंचासीन थे।
    रविवार को यहाँ राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर ग्राम खुरैरी बड़ागाँव क्षेत्र में आयोजित हुए डीआईएमएस (देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस) के भूमिपूजन समारोह में जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री  तुलसीराम सिलावट, ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री  भारत सिंह कुशवाह, नगरीय विकास एवं आवास राज्य मंत्री  ओपीएस भदौरिया व लोक निर्माण राज्य मंत्री  सुरेश धाकड़, सांसद  विवेक नारायण शेजवलकर, बीज एवं फार्म विकास निगम के अध्यक्ष  मुन्नालाल गोयल, मुख्यमंत्री  चौहान की धर्मपत्नी एवं किरार समाज की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती साधना सिंह, भाजपा जिला अध्यक्ष शहर  कमल माखीजानी व ग्रामीण  कौशल शर्मा, डीआईएमएस की चेयरमेन श्रीमती शरवती सिंह किरार, सचिव डॉ. सलोनी सिंह धाकड़ व कोषाध्यक्ष श्रीमती साक्षी किरार भी मंचासीन थीं।
    भूमिपूजन समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री  चौहान ने उम्मीद जाहिर की कि यह अस्पताल केवल धन कमाने का जरिया नहीं बनेगा अपितु परोपकार की भावना के साथ ग्वालियर-चंबल संभाग सहित आस-पास के अन्य क्षेत्रों के आर्थिक रूप से कमजोर मरीजों को अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधायें मुहैया करायेगा। उन्होंने कहा यह मेडीकल कॉलेज व अस्पताल ग्वालियर-चंबल संभाग को नई दिशा देगा। हमारी शुभकामनायें हैं कि यहाँ से पढ़कर निकले विद्यार्थी अच्छे डॉक्टर बनें। मुख्यमंत्री  चौहान ने ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में निजी मेडीकल कॉलेज व अस्पताल शुरू करने के लिये  करन सिंह किरार के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने अपने पुत्र स्व. देवराज की स्मृति को चिरस्थायी बनाने के लिये अस्पताल खोलकर जनसेवा का संकल्प लिया है।
    मुख्यमंत्री  चौहान ने इस अवसर पर यह भी कहा कि ग्वालियर की पवित्र धरती पर हम संकल्प लेते हैं कि ग्वालियर-चंबल संभाग के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी। उन्होंने कहा आजादी के अमृत महोत्सव की पुण्य बेला में ग्वालियर के विकास के लिये स्वर्णिम काल चल रहा है। ग्वालियर में जल्द ही एक हजार बिस्तर का अस्पताल शुरू होगा। साथ ही एलीवेटेड रोड़, अत्याधुनिक एयरपोर्ट, केन्द्रीय स्तर की कृषि संस्थायें इत्यादि सहित अन्य विकास कार्य ग्वालियर में मूर्तरूप ले रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा प्रदेश सरकार का संकल्प है कि सभी के लिए रोटी, कपड़ा, पढ़ाई, लिखाई और रोजगार का इंतजाम हो।
    आरंभ में मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान सहित अन्य अतिथियों ने कन्या पूजन, दीप प्रज्ज्वलन एवं वैदिक मंत्रोच्चार के बीच देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस का भूमिपूजन किया।
Sandhyadesh
महिला सशक्तिकरण का उत्तम उदाहरण है यह संस्थान

    मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस महिला सशक्तिकरण का एक उत्तम उदाहरण बनने जा रहा है। उन्होंने कहा कि खुशी की बात है कि इस संस्थान की चेयरमेन श्रीमती शरवती किरार, सचिव श्रीमती डॉ. सलोनी सिंह धाकड़ व कोषाध्यक्ष श्रीमती साक्षी किरार हैं। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि हमारा हमेशा से विश्वास रहा है कि बेटियाँ अस्पताल ही नहीं सारी दुनिया चला सकती हैं।

प्रदेश में मेडीकल सुविधाओं का लगातार विस्तार हो रहा है – केन्द्रीय मंत्री  तोमर

    केन्द्रीय कृषि मंत्री  नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि हमारे देश व राज्य की बड़ी आबादी है। इतनी बड़ी आबादी को शिक्षा व स्वास्थ्य सुविधाएँ मुहैया कराना बड़ी चुनौती रहती है। केन्द्र व राज्य सरकार ने व्यापक स्तर पर मेडीकल सुविधाएँ जुटाने का काम किया है। साथ ही निजी क्षेत्र एवं स्वयंसेवी संस्थायें भी चिकित्सा सेवाएँ देने में अपना योगदान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने हर जिले में मेडीकल कॉलेज खोलने का बीड़ा उठाया है। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश में इस काम को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाया गया है। उनके नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने राज्य में पूर्व से स्थापित मेडीकल कॉलेजों में आधुनिक चिकित्सा सुविधाओं के उन्नयन के साथ-साथ सागर में मेडीकल कॉलेज खोला गया है। साथ ही रतलाम से लेकर प्रदेश के अन्य जिलों तक नए मेडीकल कॉलेज खोले गए हैं।  तोमर ने कहा कि ग्वालियर के लिये आज ऐतिहासिक दिन है। आज निजी क्षेत्र में देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस की नींव रखी गई है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि यह नया प्रतिष्ठान ग्वालियर के गौरव को और आगे बढ़ायेगा।

हवाई सेवाओं के विस्तार से बेहतर चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने में मिलेगी मदद – केन्द्रीय मंत्री  सिंधिया

    केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री  ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की पहल पर ग्वालियर सहित समूचे प्रदेश को देश भर से बेहतर हवाई सेवाओं से जोड़ा जा रहा है। आगामी 3 जून से दिल्ली, भोपाल, ग्वालियर व जबलपुर के लिये नई फ्लाइट शुरू होने जा रही हैं। साथ ही तीन दिन छत्तीसगढ़ के बिलासपुर शहर के लिये भी फ्लाइट उपलब्ध होगी। बेहतर हवाई सेवा का लाभ स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी मिलेगा। जरूरत पड़ने पर देश के अन्य शहरों से विशेषज्ञ चिकित्सक ग्वालियर बुलाए जा सकेंगे। उन्होंने आशा जताई कि देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस जीवन दाता के रूप में काम करेगा। साथ ही प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि शायद यह पहला मेडीकल संस्थान है जिसके संचालन की सम्पूर्ण बागडोर महिलाओं के हाथ में है। श्री सिंधिया ने कहा कि हमारी संस्कृति में पहला देवता चिकित्सक, दूसरा ज्ञानदाता यानि शिक्षक और तीसरा देवता अन्नदाता माना जाता है। हमारे देश के अन्नदाता अपने देश का ही नहीं दुनियाभर का पेट भर रहे हैं।

     स्वागत उदबोधन डीआईएमएस की सचिव डॉ. सलोनी सिंह धाकड़ व अंत में संस्थान की कोषाध्यक्ष श्रीमती साक्षी सिंह किरार ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया।

अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधा मुहैया करायेगा डीआईएमएस

    देवराज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस कुल 780 बैडेड होगा। जिसमें आईसीयू की सुविधा भी उपलब्ध रहेगी। अस्पताल प्रथम चरण में 300 बिस्तरों के साथ शुरू होगा। दूसरे चरण में भी 350 बिस्तरों के साथ-साथ एमबीबीएस की 150 सीटों की पढ़ाई प्रारंभ होगी। साथ ही अत्याधुनिक ट्रामा सेंटर, जनरल एवं प्राइवेट वार्ड, कैंसर, न्यूरो एवं अन्य गंभीर बीमारियों के इलाज की यूनिट, नर्सिंग कॉलेज, छात्रावास सहित अत्याधुनिक हॉस्पिटल के जरूरी सभी तरह की सुविधायें उपलब्ध होंगीं।

Popular Posts