BREAKING!
  • ग्वालियर बधिर सोसायटी के वार्षिक चुनाव संपन्न
  • ग्वालियर में कांग्रेस परचम फहरायेगी,शिवराज के पास विजन नहीं टेलीविजन है: कमलनाथ
  • कमलनाथ ने हॉस्पिटल पहुंचकर विधायक सिकरवार के स्वास्थ्य की जानकारी ली
  • सुरक्षा बल को ठहराने के लिये पाँच संस्थानों के परिसर अधिग्रहीत, व्यय प्रेक्षक नियुक्त
  • हरियाली अमावस्या के दिन वृक्षारोपण के लिये चलेगा महाअभियान, चिकित्सा अधिकारी एवं कर्मचारी सम्मानित
  • स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट और नगरीय निकाय के कार्य अच्छी तरह चलें, इसके लिए स्मार्ट निगम परिषद जरूरी: सुमन शर्मा
  • ग्वालियर के विकास की सुनहरे अच्छरो से लिखेंगे ऐतिहासिक इबारत - डॉ नरोत्तम मिश्रा
  • ग्वालियर पुलिस ने चलाया सायबर CRIME अवेयरनेस प्रोग्राम
  • नगरीय निकाय चुनावः ऐसा क्या हुआ कि पत्रकार वार्ता भी नहीं हुई डी.एम. की
  • श्रीधर धर्मशाला का फर्जी ट्रस्ट बनाकर दुकानों का किया आवंटन, अध्यक्ष से एसडीएम ने मांगा जवाब

राजनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम चोबर के खला मे सिद्ध बाबा के पुण्य स्थान पर हुए यज्ञ मे सम्पूर्ण भारत वर्ष एवं विदेशी श्रद्धालुओं ने दी पूर्ण आहुति

22-May-22 53
Sandhyadesh


Sandhyadesh

यज्ञ मे 101 यज्ञ वेदिका बनी हुई हैँ क्षेत्र कि सुख समृद्धि के लिए वेद पुराण मन्त्रों उच्चारणों के साथ यज्ञ अनुष्ठान किया गया जहाँ पर श्रद्धांलुओं ने पूजा अर्चना की | यज्ञ मे आस पास के सभी ग्रामो के श्रद्धांलुओं ने एवं विदेशी श्रद्धांलुओं ने जो की भगवान मतगेश्वर के परम भक्त है ने भी बढ़ चढ़कर भाग लिया उक्रांइन से आई गणेश भक्त सुश्री नतासा ने अपने यज्ञ के अनुभवों के बारे मे बताया कि मे शरीर से उक्रांइन कि हूँ पर मेरी आत्मा सनातन धर्म के परम आदरणीय श्री गणेश जी के ऊर्जा से संचालित है इसलिए मेरे तन एवं मन मे गणेश पूजन के समय मे एक असीम आध्यात्मिक ऊर्जा महसूस होती है इसलिए मेने मेरे शरीर पर गणेश जी, शिव जी एवं ॐ नमः शिवाय का टेटू बनवाया हुआ है | इसलोवेनिया के शिव भक्त श्री टीम एवं उनकी माता श्री उकरेशिया ने यज्ञ स्थल पर सिद्ध बाबा की सकारात्मक ऊर्जा एवं श्री हरिहर महराज के व्यक्तिव को साक्षात् मतंग ऋषि के रूप मे उपस्थित बताया | यज्ञ मे बड़ी संख्या मे उपस्थित संतों कि ऊर्जा को भी महसूस किया | संत प्रिय पंडित सुधीर शर्मा जी ने बताया कि यज्ञ मे बुंदेलखंड के अलावा दिल्ली, वनारस लखनऊ, मुंबई के भक्तो के साथ पूज्यनिया दद्दा जी , आचार्य श्री विद्यासागर जी, हनुमत श्री मन्नत महाराज जी, एवं वात्सल्य दीदी माँ रिताम्भारा जी के शिष्यों ने भी स्वयं सेवकों के रूप मे भूमिका निभाई | यज्ञ मे ग्राम पाय, चोबर, विक्रमपुर, भुसका, गोरा, उदयपुरा, जमुनया, के ग्रामीण युवा कार्यकर्ताओं की एवं महिला स्वयं सेवकों की सराहनीय भूमिका रहीं | यज्ञ परिसर मे पुराण का आयोजन भी किया गया | यज्ञ स्थल पर कन्याओं को कन्या भोज कराया गया एवं विशाल भंडारे का आयोजन किया गया | कुछ राजनैतिक लोगो के द्वारा यज्ञ मे विघ्न डालने की कोशिश की गई ज्ञात हो कि आज से तीस वर्षो पूर्व भी इसी प्रकार की कोशिशे की गईं थी कि दोनों बार पूर्णतः विफल रहीं क्योंकि कहाँ गया है कि यज्ञ मे विघ्न डालने के लिए हमेशा राक्षस प्रवत्ती के लोग आते है पर विफल होते है | इस तरह के आध्यात्मिक कार्यों मे राजनैतिक दलों के लोगो को आकर एक स्वयं सेवक कि भावना से कार्य करना चाहिए ना कि अपने राजनैतिक लाभ के लिए अपनी उपस्थित दर्ज करने कि भावना से |

Popular Posts