BREAKING!
  • दो अप्रैल २०१८ हिंसा के मामले वापस लिये जायें
  • मप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स ने मुख्यमंत्री को पदोन्नति को लेकर ज्ञापन सौंपा
  • ट्रक ड्राइवर के लिए निशुल्क नेत्र परीक्षण शिविर, टोल और नाकों पर चलाया जागरूकता अभियान
  • केन्द्रीय मंत्री तोमर एवं प्रभारी मंत्री सिलावट ने अभय चौधरी के निवास पर पहुँचकर शोक संवेदनाएँ व्यक्त कीं
  • हमारा संकल्प है कि कोई भी गरीब मरीज धन के अभाव में इलाज से वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान
  • संगठित होकर ही कर सकते हैं एक दूसरे की मदद : श्याम श्रीवास्तव
  • राजनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम चोबर के खला मे सिद्ध बाबा के पुण्य स्थान पर हुए यज्ञ मे सम्पूर्ण भारत वर्ष एवं विदेशी श्रद्धालुओं ने दी पूर्ण आहुति
  • रोटरी फाउंडेशन में दान करे : सुधीर त्रिपाठी
  • कमलनाथ और कांग्रेस भाजपा के लिये चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय
  • कैलाश ग्वालियर आये , पूरन भदौरिया की पत्नी को देखने अपोलो पहुंचे

भागवत कथा के श्रवण मात्र से मनुष्य को वैभव और पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है : साध्वी सुश्री मंदाकिनी राजे

13-May-22 39
Sandhyadesh

ग्वालियर/ साध्वी सुश्री मंदाकिनी राजे ने कहा है कि जब जीव ईश्वर तक नहीं पहुंच पाता है तो ईश्वर ही जीव तक पहुंच जाते हैं। इसी चमत्कार को ईश्वरीय अवतार कहते हैं। वात्सल्य रस की धारा बहाते हुए उन्होने भगवान के जन्म की कथा बताते हुए लीला पुरूषोत्तम भगवान कृष्ण की बाल लीलाओं की मोहक झांकी का वर्णन कर श्रद्धालु भक्तजनों का मन मोह लिया।
Sandhyadesh
सितार वाली बगिया नाट्य कला मंदिर के पास गीता कालोनी लश्कर ग्वालियर में चल रही संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा के पांचवे दिन व्यास पीठ से कथावाचक सुश्री साध्वी मंदाकिनी राजे ने भगवान के अवतार की विस्तृत चर्चा की इस अवसर पर कृष्ण जन्म होते ही उपस्थित धर्मप्रेमी श्रद्धालुओं ने हाथी घोडा पालकी, जय कन्हैया लाल की के जयकारे लगाये तथा इस अवसर पर माखन मिश्री बांटी गई तथा बधाई न्यौछावर की गई। तत्पश्चात गोर्वधन पर्वत की विस्तृत कथा का वृतांत सुश्री मंदाकिनी राजे ने सुनाया। उन्होने श्री मद् भागवत की महत्ता बताते हुए कहा कि भागवत हमें निष्काम भक्ति करने का संदेश देती है। भगवान के नाम का जप करने से मनुष्य का मोह छूट जाता है तथा श्रीमद् भागवत कथा के श्रवण मात्र से मनीष्य को वैभव और पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है।
कार्यक्रम में कथा पारीक्षत श्रीमती सोनम हुकुम सिंह परिहार, श्री 108 महंत धर्मषरण त्यागी जी महाराज, राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश खंगार, हाकिम सिंह परिहार, राव गोपाल खंगार, लाल सिंह, संजू खंगार, मनोज सिंह, चरण सिंह, सोनू सिंह, विजय सिंह, बनवारी सिंह, अंकुर सिंह, नरेश सिंह, विक्की प्रशांत डॉ. राकेश सिंह परिहार सहित अनेकों श्रद्धालु समाज बंधु मांताएं बहिने उपस्थित रही।

Popular Posts