BREAKING!
  • दो अप्रैल २०१८ हिंसा के मामले वापस लिये जायें
  • मप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स ने मुख्यमंत्री को पदोन्नति को लेकर ज्ञापन सौंपा
  • ट्रक ड्राइवर के लिए निशुल्क नेत्र परीक्षण शिविर, टोल और नाकों पर चलाया जागरूकता अभियान
  • केन्द्रीय मंत्री तोमर एवं प्रभारी मंत्री सिलावट ने अभय चौधरी के निवास पर पहुँचकर शोक संवेदनाएँ व्यक्त कीं
  • हमारा संकल्प है कि कोई भी गरीब मरीज धन के अभाव में इलाज से वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान
  • संगठित होकर ही कर सकते हैं एक दूसरे की मदद : श्याम श्रीवास्तव
  • राजनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम चोबर के खला मे सिद्ध बाबा के पुण्य स्थान पर हुए यज्ञ मे सम्पूर्ण भारत वर्ष एवं विदेशी श्रद्धालुओं ने दी पूर्ण आहुति
  • रोटरी फाउंडेशन में दान करे : सुधीर त्रिपाठी
  • कमलनाथ और कांग्रेस भाजपा के लिये चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय
  • कैलाश ग्वालियर आये , पूरन भदौरिया की पत्नी को देखने अपोलो पहुंचे

आईटीएम यूनिवर्सिटी ग्वालियर में दो दिवसीय इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस 14 से

12-May-22 33
Sandhyadesh

-’डिजीटल ट्रांसफॉर्मेशन एंड डिजीटल इंटरप्रिन्योरशिप: स्ट्रेटजीस फॉर रिवाइवल ऑफ  ग्लोबल इकोनॉमी पोस्ट कोविड-19’ विषय पर होगी चर्चा व पेपर प्रजेंटेशन
ग्वालियर । डिजीटल ट्रांसफॉर्मेशन और डिजीटल इंटरप्रिन्योरशिप कंपनियों के व्यवधान को दूर करने के लिए टेक्नोलॉजी का लाभ लेने के लिए मदद करती है। साथ ही नए सामान्य पोस्ट कोविड 19 के लिए  डिजीटल रूप से सक्षम बनाने में सहयोग करती है। इसी संदर्भ में आईटीएम यूनिवर्सिटी ग्वालियर का स्कूल ऑफ मैनजमेंट 14 व 15 मई को दो दिवसीय इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस का आयोजन कर रहा है।
 इस कॉन्फ्रेंस का विषय ’डिजीटल ट्रांसफॉर्मेशन एंड डिजीटल इंटरप्रिन्योरशिप: स्ट्रेटजीस फॉर रिवाइवल ऑफ ग्लोबल इकोनॉमी पोस्ट कोविड-19’ है, जो डिजीटल ट्रांसफॉर्मेशन और डिजीटल इंटरप्रिन्योरशिप के अवसरों के माध्यम से नई ग्लोबल इकोनोमी और बिजनेस एनवायरमेंट को फिर से बेहतरीन बनाने के लिए विभिन्न पोस्ट कोविड 19 स्ट्रेटजी के आइडियाज और एनालाइसिस करने में भूमिका निभाएगी।
आईटीएम यूनिवर्सिटी ग्वालियर के वाइस चांसलर डॉ एसएस भाकर, चेयरमैन स्कूल ऑफ  मैनेजमेंट की डीन डॉ वंदना भारती, कन्वेनर एसोसिएट प्रो डॉ शिल्पा भाकर ने पत्रकारों को बताया कि इस इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस के लिए अब तक विश्व भर से 110 रजिस्ट्रेशन हुए हैं। जिनमे ज्यादातर इंडस्ट्रिलिस्ट, एकेडेमिशियन, रिसर्च स्कॉलर्स एंड स्टूडेंट्स शामिल हैं। उन्होने बताया कि अभी तक नेपाल, ओमान, नाइजीरिया, श्रीलंका, कतर, तुर्की व यूएस आदि देशों से रिसर्च पेपर्स प्राप्त हुए है। भारत में पुणे, जयपुर, मुम्बई, हिसार, उत्तराखंड, दिल्ली, कोची, आगरा, नागपुर, प्रयागराज, गोवा, झारखंड, गुजरात, कर्नाटका आदि से पेपर्स प्राप्त हुए हैं।
इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस का शुभारंभ 14 मई को सुबह 10 बजे से होगा। उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि राजस्थान भीलवाड़ा की संगम यूनिवर्सिटी के  वाइस चांसलर डॉ करूणेश सक्सेना व  विप्रो के ग्लोबल हेड राजीव कुमार मुख्य वक्ता के रूप में मौजूद रहेंगे। ट्रैरिटी कंसल्टिंग ग्रुप के पूर्व सीईओ अरूप मजूमदार विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे।  वहीं 15 मई को समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बिलासपुर की गुरू घासीदास सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो डॉ आलोक चक्रावल मौजूद रहेंगे। विशिष्ट अतिथि के रूप में टीसीएस के कंट्री हेड गोपाल कृष्णा व गोदरेज के एसोसिएट वाइस प्रेसीडेंट एचआर अविनाश मिश्रा उपस्थित रहेंगे।
दो दिवसीय कॉन्फ्रेंस में रहेंगे 5 सेशन्स
ये इंटरनेशनल कॉन्फ्रेस पांच मुख्य सेशन में रखी गई है। जिसमें चर्चा की जाएगी कि डिजीटलाइजेशन ने किस तरह मैनेजमेंट के विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित किया है। पहले दो सेशन 14 मई को व 3 सेशन 15 मई को होंगे।
। इस कांफ्रेंस में इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस की आर्गेनाइजिंग सेकेट्री डॉ पूजा जैन, कोआर्गेनाइजिंग सेकेट्री असिस्टेंट प्रो डॉ सोनल सक्सेना, नेक्स्ट को आर्गेनाइजिंग सेकेट्री डॉ शाहिद भाट उपस्थित रहे।

Popular Posts