BREAKING!
  • दो अप्रैल २०१८ हिंसा के मामले वापस लिये जायें
  • मप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स ने मुख्यमंत्री को पदोन्नति को लेकर ज्ञापन सौंपा
  • ट्रक ड्राइवर के लिए निशुल्क नेत्र परीक्षण शिविर, टोल और नाकों पर चलाया जागरूकता अभियान
  • केन्द्रीय मंत्री तोमर एवं प्रभारी मंत्री सिलावट ने अभय चौधरी के निवास पर पहुँचकर शोक संवेदनाएँ व्यक्त कीं
  • हमारा संकल्प है कि कोई भी गरीब मरीज धन के अभाव में इलाज से वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान
  • संगठित होकर ही कर सकते हैं एक दूसरे की मदद : श्याम श्रीवास्तव
  • राजनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम चोबर के खला मे सिद्ध बाबा के पुण्य स्थान पर हुए यज्ञ मे सम्पूर्ण भारत वर्ष एवं विदेशी श्रद्धालुओं ने दी पूर्ण आहुति
  • रोटरी फाउंडेशन में दान करे : सुधीर त्रिपाठी
  • कमलनाथ और कांग्रेस भाजपा के लिये चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय
  • कैलाश ग्वालियर आये , पूरन भदौरिया की पत्नी को देखने अपोलो पहुंचे

प्रभु नाम का स्मरण करते हुए संसार से विदा लेने में ही मनुष्य जीवन की सार्थकता है-साध्वी सुश्री मंदाकिनी राजे

10-May-22 33
Sandhyadesh

 ग्वालियर  / साध्वी सुश्री मंदाकिनी राजे ने कहा है कि प्रभु नाम का स्मरण करते हुए संसार से विदा लेने में ही मनुष्य जीवन की सार्थकता है। साध्वी सुश्री मंदाकिनी राजे आज श्रीमद भागवत कथा के दूसरे दिन सितारवाली बगिया गीता कालोनी में आयोजित श्रीमद भागवत में श्रद्धालुओं को कथा श्रवण करा रही थीं।
Sandhyadesh
उन्होने कथा के दूसरे दिन सुखदेव और परिक्षित के बीच हुए वार्तालाप के प्रसंग का उल्लेख किया। करते हुये कहा कि प्रभु नाम का स्मरण करते हुए संसार से विदा होना ही जीवन का कर्तव्य है। सुश्री राजे ने कहा कि भगवान की कृपा से ही संत महात्माओं का आगमन होता है। हम जब भी मंदिर संत और गुरू की शरण में जाये तो अपने अहंकार को छोडकर झुककर संत महात्मा एवं मंदिर में विराजित भगवान को प्रणाम करें। इससे मनुष्य का कल्याण का रास्ता दिखलाई पडेगा। उन्होने कहा कहा कि हमारा जीवन श्रेष्ठ विचार और सदाचार वाला होना चाहिये जो दूसरों के लिए जीता है वही श्रेष्ठ मनुष्य है।
इस अवसर पर कथा पारीक्षित एवं आयोजक धर्मशरण त्यागी जी महाराज, रावगोपाल सिंह, लाल सिंह, सुजान सिंह, हुकम सिंह, विजय सिंह एवं गणमान्य बंधू उपस्थित रहे।

Popular Posts