BREAKING!
  • वीरेन्द्र कुमार श्रम विभाग के उपसचिव बने
  • महापौर ने किया वार्ड 60 के सिंधिया नगर में निरीक्षण, अधिकारियों को दिए समस्या निराकरण के निर्देश
  • ग्वालियर स्टार्टअप मीट 2022 से शहर के युवाओं को मिला अंतरर्राष्ट्रीय प्लेटफार्म: महापौर
  • सौ अश्वमेघ यज्ञ से भी नहीं हटेगा कन्याभ्रूण हत्या का पाप: समीक्षा गुप्ता
  • अकेले पड़े मुन्नालाल डिफेंस मोड में, महापौर के पैलेस पर धरने की बात सिंधिया तक पहुंची
  • ग्वालियर पुलिस ने सेवानिवृत्त हुए पुलिस अधिकारी व कर्मियों को दी विदाई
  • महाराजा अग्रसेन मेला 1 अक्टूबर से, सजेगा विशाल दरबार
  • मासिक दिव्यांग मिलन बैठक का आयोजन किया
  • कैट का दीपावली मिलन समारोह 1 नवम्बर को
  • अग्रसेन जयंती के अवसर पर निकले चल समारोह का पुष्प वर्षा से स्वागत किया

Sandhyadesh

ताका-झांकी

जुबान पर आ ही गई इमरती की पीडा

09-Jan-22 1728
Sandhyadesh

अपनी साहिबा इमरती देवी की पीडा है कि उन्होने पार्टी बदल ली इसलिये हार गई। यानि इमरती कांग्रेस से भाजपा में नहीं आती तो कभी नहीं हारती। उन्हें आज भी भाजपा से ज्यादा कांग्रेस पर ही जीत का भरोसा है।
इमरती की पीडा बीते दिवस डबरा में एक स्वागत समारोह में जुबान पर आ ही गई जब निगम का अध्यक्ष बनने व कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिलने पर उनका स्वागत हो रहा था। इमरती जी की पीडा को सुनकर लोग हंस पडे, इमरती भी स्वयं हंस पडी । अब इमरती जी को भूली बिसरी बातें भूलकर अपनी नई पारी खेलने में लगना चाहिये। 2022 लग चुका है और 2023 में चुनाव भी है।
यदि इमरती जी को संदेह है तो भाजपाईयों को लग रही है कि कहीं वह वापस तो नहीं जा रहीं..?

Popular Posts