BREAKING!
  • दो अप्रैल २०१८ हिंसा के मामले वापस लिये जायें
  • मप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स ने मुख्यमंत्री को पदोन्नति को लेकर ज्ञापन सौंपा
  • ट्रक ड्राइवर के लिए निशुल्क नेत्र परीक्षण शिविर, टोल और नाकों पर चलाया जागरूकता अभियान
  • केन्द्रीय मंत्री तोमर एवं प्रभारी मंत्री सिलावट ने अभय चौधरी के निवास पर पहुँचकर शोक संवेदनाएँ व्यक्त कीं
  • हमारा संकल्प है कि कोई भी गरीब मरीज धन के अभाव में इलाज से वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान
  • संगठित होकर ही कर सकते हैं एक दूसरे की मदद : श्याम श्रीवास्तव
  • राजनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम चोबर के खला मे सिद्ध बाबा के पुण्य स्थान पर हुए यज्ञ मे सम्पूर्ण भारत वर्ष एवं विदेशी श्रद्धालुओं ने दी पूर्ण आहुति
  • रोटरी फाउंडेशन में दान करे : सुधीर त्रिपाठी
  • कमलनाथ और कांग्रेस भाजपा के लिये चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय
  • कैलाश ग्वालियर आये , पूरन भदौरिया की पत्नी को देखने अपोलो पहुंचे

जुबान पर आ ही गई इमरती की पीडा

09-Jan-22 1421
Sandhyadesh

अपनी साहिबा इमरती देवी की पीडा है कि उन्होने पार्टी बदल ली इसलिये हार गई। यानि इमरती कांग्रेस से भाजपा में नहीं आती तो कभी नहीं हारती। उन्हें आज भी भाजपा से ज्यादा कांग्रेस पर ही जीत का भरोसा है।
इमरती की पीडा बीते दिवस डबरा में एक स्वागत समारोह में जुबान पर आ ही गई जब निगम का अध्यक्ष बनने व कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिलने पर उनका स्वागत हो रहा था। इमरती जी की पीडा को सुनकर लोग हंस पडे, इमरती भी स्वयं हंस पडी । अब इमरती जी को भूली बिसरी बातें भूलकर अपनी नई पारी खेलने में लगना चाहिये। 2022 लग चुका है और 2023 में चुनाव भी है।
यदि इमरती जी को संदेह है तो भाजपाईयों को लग रही है कि कहीं वह वापस तो नहीं जा रहीं..?

Popular Posts