BREAKING!
  • दो अप्रैल २०१८ हिंसा के मामले वापस लिये जायें
  • मप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स ने मुख्यमंत्री को पदोन्नति को लेकर ज्ञापन सौंपा
  • ट्रक ड्राइवर के लिए निशुल्क नेत्र परीक्षण शिविर, टोल और नाकों पर चलाया जागरूकता अभियान
  • केन्द्रीय मंत्री तोमर एवं प्रभारी मंत्री सिलावट ने अभय चौधरी के निवास पर पहुँचकर शोक संवेदनाएँ व्यक्त कीं
  • हमारा संकल्प है कि कोई भी गरीब मरीज धन के अभाव में इलाज से वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान
  • संगठित होकर ही कर सकते हैं एक दूसरे की मदद : श्याम श्रीवास्तव
  • राजनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम चोबर के खला मे सिद्ध बाबा के पुण्य स्थान पर हुए यज्ञ मे सम्पूर्ण भारत वर्ष एवं विदेशी श्रद्धालुओं ने दी पूर्ण आहुति
  • रोटरी फाउंडेशन में दान करे : सुधीर त्रिपाठी
  • कमलनाथ और कांग्रेस भाजपा के लिये चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय
  • कैलाश ग्वालियर आये , पूरन भदौरिया की पत्नी को देखने अपोलो पहुंचे

आनंद नहीं मिला कुलपति बनने का

14-Dec-21 581
Sandhyadesh

ग्वालियर चंबल अंचल के उच्च शिक्षा जगत में मशहूर दादा आनंद को कुलपति बनने का आनंद नहीं मिला। छोटे दादा ने भी भरपूर जोर लगाया, लेकिन उनकी आवाज नक्कार खाने की तूती बनकर रह गई। आखिर दादा की ताजपोशी जे यू में नहीं हो पाई।
हालांकि दादा उच्च शिक्षा जगत में अपनी भरपूर प्रतिष्ठा रखते थे और कई पदों पर दमदारी से कार्य भी किया लेकिन रजिस्ट्रार के बाद अपने नाम के आगे कुलपति नहीं लगा पाये।
दादा अब फ्री होकर अपने पुत्र को राजनीति में उतारने की कवायद में लगे हैं, उन्होंने अपने विवेक से उसको सेट करने की प्लानिंग भी कर ली है।

Popular Posts