BREAKING!
  • गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर जगमगाता ग्वालियर स्टेशन
  • मंडल रेल प्रबंधक ने विद्युत लोको शेड के अंतर्गत ट्रिप शेड का किया निरीक्षण
  • मोदी जी की तारीफ से गद-गद हो गई उमा भारती , मध्यप्रदेश में कुछ ...?
  • केन्द्रीय बजट में बिजनिसमेन प्रोटेक्शन स्कीम की मांग करेगा चेम्बर ऑफ कॉमर्स
  • महाराणा प्रताप के अपमान को लेकर विद्यार्थी परिषद का विरोध प्रदर्शन
  • लोकतंत्र की मजबूती में निभाएं सहभागिता : मीणा
  • जागरुक एवं सशक्त मतदाता बन लोकतंत्र में निभाएं भागीदारी : जायसवाल
  • बूथ विस्तारक अभियान में डॉ अभिलाश पांडेय शामिल हुये
  • मेला व्यापारी संघ ने राजमाता विजयाराजे सिंधिया की पुण्यतिथि पर फल वितरित किये
  • राष्ट्रोत्थान न्यास में एक्यूप्रेशर शिविर का समापन कल, सांसद करेंगे

वरिष्ठ अधिकारियों को जिला सैनिक कल्याण अधिकारी ने लगाए फ्लैग

07-Dec-21 44
Sandhyadesh

ग्वालियर जिले में भी मना सशस्त्र सेना झण्डा दिवस 

ग्वालियर / ग्वालियर जिले में भी 7 दिसम्बर को “शस्त्र सेना झण्डा दिवस” मनाया गया। मातृ भूमि की रक्षा में अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले अमर शहीदों, उनके परिजनों, सैनिकों व भूतपूर्व सैनिकों को इस अवसर पर नमन किया। Sandhyadesh
 जिले में सशस्त्र सेना झण्डा दिवस के अवसर पर जिला सैनिक कल्याण अधिकारी सेवानिवृत कर्नल  नरेन्द्र सिंह तोमर ने संभाग आयुक्त  आशीष सक्सेना, कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह व पुलिस अधीक्षक  अमित सांघी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को फ्लैग लगाए। इस अवसर पर सभी अधिकारियों ने अपनी तरफ से सैनिकों के कल्याण के लिये अंशदान देकर सदभावनायें व्यक्त कीं। कलेक्टर  सिंह ने सभी शासकीय विभागों, महाविद्यालयों, स्कूलों एवं जन मानस से सैनिकों के हित में बढ़-चढ़कर अपनी ओर से अंशदान देने का आह्वान किया। 

ग्वालियर जिले में सैनिकों के कल्याण के लिए लक्ष्य से अधिक अनुदान 

 सशस्त्र सेना झण्डा दिवस के उपलक्ष्य में जिलेवासियों की ओर से भूतपूर्व सैनिकों के कल्याण के लिये विशेष निधि फण्ड में लक्ष्य से अधिक अंशदान दिया गया है। कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह की पहल पर सभी शासकीय विभागों ने प्रमुखता के साथ अपना-अपना अंशदान दिया है। जिला सैनिक कल्याण अधिकारी  नरेन्द्र सिंह तोमर ने बताया कि जिले में इस साल सशस्त्र सेना झण्डा दिवस पर कुल 11 लाख 20 हजार रूपए का अंशदान प्राप्त हुआ है। जिले में इस साल 10 लाख 53 हजार रूपए का अंशदान संग्रहीत करने का लक्ष्य था। उन्होंने बताया कि यह अंशदान शहीदों, भूतपूर्व सैनिकों एवं उनके आश्रितों के कल्याण व पुनर्वास पर खर्च किया जाता है। साथ ही इन सभी के कल्याण के लिये योजनायें चलाई जाती हैं।

Popular Posts