BREAKING!
  • केन्द्रीय मंत्री सिंधिया के प्रथम नगर आगमन में होगा भव्य स्वागत
  • प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट बोले कांग्रेस बची कहाँ है
  • केके उपाध्याय यूपी के वेस्ट एडीटर अवार्ड से सम्मानित
  • यह है स्मार्ट सिटी का रूप
  • आज 20 सितंबर को विपक्षीय दलो का फूलबाग पर धरना
  • बजरंग भक्त मण्डल ने की इस सप्ताह 1600 किलो हरे चारे की गौभोग सेवा
  • रोटरी क्लब ग्वालियर रीगल का शपथ ग्रहण समारोह सम्पन्न
  • झाँसी मंडल स्वच्छता पखवाड़ा–2021 का आयोजन
  • गृह मंत्री डॉ. मिश्र का भ्रमण कार्यक्रम
  • सड़कों की पेंच रिपेयरिंग के साथ-साथ स्ट्रीट लाईट संधारण का कार्य भी प्राथमिकता से किया जाए

Sandhyadesh

ताका-झांकी

बाढ़ प्रभावितों से उनके गाँवों में पहुँचकर अधिकारी एवं क्राइसेस मैनेजमेंट समिति के सदस्य करें संवाद – प्रभारी मंत्री सिलावट

12-Sep-21 15
Sandhyadesh



जिले में 46 प्रभावित गाँवों में अब तक 11 करोड़ 65 लाख रूपए की सहायता वितरित

ग्वालियर / प्रदेश के जल संसाधन, मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री  तुलसीराम सिलावट ने कहा है कि बाढ़ प्रभावितों को प्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने हर संभव सहायता उपलब्ध कराई है। ग्वालियर जिले में भी प्रभावित 46 गाँवों में 11 करोड़ 65 लाख रूपए की सहायता 6 हजार 262 परिवारों को प्रदान की गई है। अति वर्षा के कारण जिन प्रभावितों के खेतों को नुकसान हुआ है उसके सर्वेक्षण का कार्य भी 10 दिन में पूर्ण किया जाए।
    प्रभारी मंत्री  सिलावट ने रविवार को कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभाकक्ष में बाढ़ प्रभावितों को उपलब्ध कराई गई सहायता और टीकाकरण अभियान की समीक्षा में यह बात कही। उनके साथ प्रदेश के ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर, क्षेत्रीय सांसद  विवेक नारायण शेजवलकर, क्राइसेस मैनेजमेंट समिति के सदस्य, भाजपा जिला अध्यक्ष  कमल माखीजानी, जिला ग्रामीण अध्यक्ष  कौशल शर्मा, जिला पंचायत प्रशासकीय समिति के उपाध्यक्ष श्री शांतिशरण गौतम, पूर्व विधायक  मदन कुशवाह,  रामबरन सिंह गुर्जर,  मोहन सिंह राठौर सहित पुलिस अधीक्षक  अमित सांघी, सीईओ जिला पंचायत  किशोर कान्याल, नगर निगम के प्रभारी आयुक्त  आशीष तिवारी, एडीएम  रिंकेश वैश्य सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।
    प्रभारी मंत्री  तुलसीराम सिलावट ने कहा है कि सरकार की ओर से बाढ़ प्रभावितों को हर संभव सहायता उपलब्ध कराई गई है। क्राइसेस मैनेजमेंट समिति के सभी सदस्य और जिले के वरिष्ठ अधिकारी भी प्रभावित गाँवों में जाकर सभी प्रभावितों से संवाद करें। संवाद के दौरान उपलब्ध कराई गई सहायता की जानकारी भी दी जाए। इसके साथ ही अगर कोई व्यक्ति सहायता राशि से वंचित रहने की बात करता है तो उसकी विस्तृत जाँच कराकर अगर प्रभावित है तो सहायता उपलब्ध कराई जाए। जिन लोगों को सहायता उपलब्ध कराई गई है उनकी सूची भी पंचायत कार्यालय पर चस्पा कराई जाए।
    प्रभारी मंत्री  सिलावट ने बैठक में यह भी निर्देश दिए हैं कि अति वर्षा से प्रभावित सभी गाँवों मे बिजली, पानी के साथ ही आवागमन की व्यवस्था सुनिश्चित होना चाहिए। कहीं पर भी अगर ट्रांसफार्मर खराब है तो उसे तत्काल बदला जाए। इसके साथ ही अगर कोई खम्बा क्षतिग्रस्त हुआ है तो उसको भी तत्काल ठीक करने की कार्रवाई की जाए। उन्होंने सीईओ जिला पंचायत  किशोर कान्याल से कहा है कि सभी प्रभावित गाँवों में कृषि सर्वेक्षण का कार्य भी सात दिन में पूर्ण किया जाए। सर्वेक्षण में जो लोग प्रभावित पाए जायेंगे, उन्हें सरकार की ओर से नियमानुसार सहायता उपलब्ध कराई जाएगी।
    ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने बैठक में विद्युत विभाग के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि अतिवर्षा से प्रभावित सभी गाँवों में विद्युत की आपूर्ति बाधित नहीं होना चाहिए। कहीं पर भी अगर ट्रांसफार्मर या विद्युत पोल बदलने की आवश्यकता है तो उसे तत्काल बदला जाए। विद्युत की समस्या की कोई शिकायत प्रभावित गाँवों से नहीं मिलना चाहिए।
    बैठक में सीईओ जिला पंचायत  किशोर कान्याल ने बताया कि ग्वालियर जिले में कुल 46 गाँव प्रभावित हुए हैं। इनमें तहसील डबरा के 18, भितरवार के 23 तथा घाटीगाँव के 5 गाँव शामिल हैं। अतिवर्षा के कारण पूर्ण क्षतिग्रस्त भवन 572 तथा आंशिक क्षतिग्रस्त भवन 3212 हैं। प्रभावित फसल का क्षेत्रफल 877 हैक्टेयर है। जिले में कुल प्रभावितों की संख्या 6262 है। प्रभावितों को अब तक 11 करोड़ 65 लाख रूपए की सहायता राशि उनके खातों में प्रदान कर दी गई है।
    बैठक में यह भी बताया गया कि 15 सितम्बर को विशेष ग्राम सभा का आयोजन किया गया है। जिसमें जिला स्तर के अधिकारियों को तैनात किया गया है। इसके साथ ही क्राइसेस मैनेजमेंट के सदस्यों को भी प्रभावित गाँवों में बुलाया गया है। ग्राम सभा में शासन की ओर से अब तक प्रभावित लोगों को दी गई सहायता की सूची का वाचन भी किया जाएगा। इसके साथ ही प्रभावितों से संवाद कर शासन की योजनाओं के तहत दिए गए लाभ की जानकारी दी जाएगी।

Popular Posts