BREAKING!
  • शहीद ज्योति यात्रा व 61 चौराहे पर दीपदान के साथ आज शुरू होगा बलिदान मेला
  • कोविड टीकाकरण के साथ आम जनों को शासन की योजनाओं का लाभ भी समय पर मिले :कलेक्टर
  • जिला पंचायत के सीईओ कान्याल ने बैठक लेकर की तैयारियों की समीक्षा
  • महाराष्ट्रः बस सेवा स्थगित करना परिवहन विभाग का सराहनीय फैसला
  • बरौनी - गोंदिया ट्रेन रुट परिवर्तन पर सांसद ने जताई आपत्ति
  • यूपी, राजस्थान, छत्तीसगढ़ के बीच बस सेवा 16 से; महाराष्ट्र के लिये रोक
  • सुशांत सिंह अध्याय
  • विक्टोरिया मार्किट के दुकानदारों की अस्थाई दुकानों को स्थाई बनाया जाए
  • डीआरडीई झांसी रोड की मेन लेब की बाउण्ड्रीवाल से 50 मीटर की दूरी तय की जाए : एमपीसीसीआई
  • जनता को राहत दिलाओ, बिजली के दाम मत बढ़ाओ: डॉ. देवेन्द्र शर्मा

Sandhyadesh

ताका-झांकी

माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी

15-May-21 521
Sandhyadesh

अंचल में दोनों दिग्गज दल बिना कार्यकारिणी के चल रहे है। लगता है भाजपा - कांग्रेस को कार्यकारिणी की जरूरत भी नहीं, क्योंकि जिलाध्यक्षद्वय संगठन को खूब अच्छे से चला रहे है। दोनों ही एकला चलो की नीति पर है।
हम आपको बता दें कि कांग्रेस जिलाध्यक्ष डा. देवेन्द्र शर्मा को आम चुनावों से पहले जिला कांग्रेस की बागडोर सौंपी गई थी। लगभग दो साल से ज्यादा का समय उन्हें कुर्सी पर बैठे हुये हो गया है। वहीं जिला भाजपा प्रमुख कमल माखीजानी को भी एक वर्ष हो गया है। परंतु मजे की बात यह है कि दोनों ही जिला प्रमुख अपनी कार्यकारिणी का गठन अब तक नहीं कर पाये है। दरबारीलाल के सूत्रों की माने तो उन्हें एकला राज रास आ रहा है और संगठन भी चल रहा है। आवाज उठाने वाला भी कोई नहीं, चाहे जैसा जी करें वैसा प्रमुख करें। लेकिन जो भी हो महामारी में दोनों ही अपने-अपने संगठन को अकेले ही खींच रहे है, वहीं कार्यकारिणी में आने के इच्छुक नेता अब अपने जिलाध्यक्षों की मनमानी पर कभी- कभी ग़ुस्सा भी उतारने लगे हैं ।

Popular Posts