BREAKING!
  • माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी
  • पत्रकार की परिभाषा तय किया जाना चाहिए: शारदा
  • वैक्सीन के बाद भी मास्क लगाना जरूरी: डाॅ.राहुल भार्गव
  • सकारात्मक जीवन जीने के लिए प्रेरित करने वेबिनार आयोजित
  • MP ने UP, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से 23 तक बस परिवहन रोका
  • जल्द ही प्रदेश के दो बड़े नेता केन्द्रीय मंत्री बनेंगे ?
  • एमपी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन की मांग CM शिवराज ने मानी, अब सभी मीडिया कर्मियों का इलाज कराएगी सरकार
  • आपदा में अवसर न समझे वह साक्षात भगवान का स्वरूप है - गोविंद भैया
  • म प्र डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन ने अभियंताओं को मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में सम्मिलित किए जाने की मांग की
  • राजनीतिक संरक्षण के बिना नकली दवा का कारोबार संभव नहीं : अजय सिंह

Sandhyadesh

ताका-झांकी

MP सरकार का फैसला: सरकारी स्कूलों में नौवीं-11वीं की मुख्य परीक्षा नहीं होगी

16-Apr-21 201
Sandhyadesh

मध्यप्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से सरकारी स्कूलों में कक्षा 9वीं व 11वीं की मुख्य परीक्षा निरस्त कर दी गई हैं। स्कूल शिक्षा विभाग ने शुक्रवार देर शाम आदेश जारी कर दिया है। आदेश में कहा गया है कि 20 से 29 नवंबर तक लिए गए रिवीजन टेस्ट व 1 से 9 फरवरी तक हुई अर्द्धवार्षिक परीक्षा में से जिसमें बेहतर अंक होंगे, उनके आधार पर 30 अप्रैल तक रिजल्ट घोषित किया जाएगा।

स्कूल शिक्षा विभाग ने 10 दिन पहले आदेश जारी किया था कि स्कूलों के 9वीं-11वीं के मुख्य परीक्षा ओपन बुक सिस्टम से होंगे। लेकिन अब नए आदेश में कहा है कि दोनों मुख्य परीक्षाएं नहीं होंगी। नए आदेश में कहा है कि दोनों परीक्षाओं के लिए बेस्ट- 5 के आधार पर गणना कर रिजल्ट घोषित किया जाएगा। यदि स्टूडेंट 6 में से 5 सब्जेक्ट में उत्तीर्ण है तथा 1 सब्जेक्ट में न्यूनतम 33 अंक नहीं हो सके हों तो भी उसे उत्तीर्ण घोषित किया जाएगा। इसी तरह एक से अधिक सब्जेक्ट में न्यूनतम निर्धारित अंक प्राप्त न करने वाले स्टूडेंट के लिए ग्रेस (कृपांक) के रूप में अधिकतम 10 अंक दिए जा सकेंगे। हालांकि यह अंक एक से अधिक सब्जेक्ट में भी दिए जा सकते हैँ।

स्कूल शिक्षा विभाग का आदेश
स्कूल शिक्षा विभाग का आदेश
स्कूल शिक्षा विभाग का आदेश
स्कूल शिक्षा विभाग का आदेश

दूसरा मौका भी मिलेगा

आदेश में कहा गया है कि ग्रेस अंक के बाद भी यदि स्टूडेंट को 2 अथवा इससे अधिक सब्जेक्ट्स में न्यूनतम निर्धारित अंक प्राप्त नहीं होते हैं तो उसे दूसरी बार परीक्षा देने का अवसर दिया जाएगा। ऐसे सब्जेक्ट जिनमें स्टूडेंट द्वारा पूर्व परीक्षा में न्यूनतम निर्धारित अंक प्राप्त नहीं किए गए थे, उन सब्जेक्ट्स में उसे दोबारा परीक्षा देनी होगी। यह अवसर कोरोना के नियंत्रण में आने के बाद अथवा स्कूल खुलने के पूर्व दिया जाएगा। इसकी सूचना परीक्षा के 15 दिन पहले दी जाएगी।

इन्हें भी मिलेगा मौका

परीक्षा देने का दूसरा अवसर ऐसे स्टूडेंट को भी दिया जाएगा, जो रिवीजन टेस्ट और अर्द्धवार्षिक परीक्षा, दोनों में से किसी भी परीक्षा में शामिल नहीं हुआ था। लेकिन उन्होंने शैक्षणिक सत्र 2020-21 में सरकारी स्कूल में प्रवेश लिया था।

30 अप्रैल तक घोषित हो जाएगा रिजल्ट

सभी स्कूलों से कहा है कि दोनों परीक्षाओं का रिजल्ट 30 अप्रैल 2021 तक घोषित करना सुनिश्चित करें। ताकि विमर्श पोर्टल पर रिजल्ट ऑनलाइन उपलब्ध कराया जा सके।


Popular Posts