BREAKING!
  • माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी
  • पत्रकार की परिभाषा तय किया जाना चाहिए: शारदा
  • वैक्सीन के बाद भी मास्क लगाना जरूरी: डाॅ.राहुल भार्गव
  • सकारात्मक जीवन जीने के लिए प्रेरित करने वेबिनार आयोजित
  • MP ने UP, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से 23 तक बस परिवहन रोका
  • जल्द ही प्रदेश के दो बड़े नेता केन्द्रीय मंत्री बनेंगे ?
  • एमपी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन की मांग CM शिवराज ने मानी, अब सभी मीडिया कर्मियों का इलाज कराएगी सरकार
  • आपदा में अवसर न समझे वह साक्षात भगवान का स्वरूप है - गोविंद भैया
  • म प्र डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन ने अभियंताओं को मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में सम्मिलित किए जाने की मांग की
  • राजनीतिक संरक्षण के बिना नकली दवा का कारोबार संभव नहीं : अजय सिंह

Sandhyadesh

ताका-झांकी

बीमा से वंचित रहे पत्रकारों को कोरोना महामारी के चलते एक और अवसर मिले

15-Apr-21 117
Sandhyadesh

एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ने की सीएम से अपील
ग्वालियर। कोरोनो महामारी से पीडित होकर कई पत्रकार भी जूझ रहे है ऐसे में कोरोना और आर्थिक संकट पत्रकारों के लिए बडी परेशानी का कारण बना हुआ है। हांलाकि प्रदेश सरकार ने पत्रकारों के हित के लिए एमआईडी इँडिया बीमा योजना शुरू की है। जिसका लाभ कई पत्रकारों ने उठाया है लेकिन कई पत्रकार ऐसे  भी है जो किसी कारणवश बीमा कराने से वंचित रह गए है अब ऐसे में जब वो कोरोनो पीडित हो रहे है और बीमा योजना में शामिल नही है तो इलाज में होने वाले खर्च के चलते वो बेहद नाजुक दौर में पहुंच रहे है। ऐसे में एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के अध्यक्ष राधावल्लभ शारदा, सहप्रदेश अध्यक्ष विनय अग्रवाल, प्रेस क्लब सचिव सुरेश शर्मा, जिलाध्यक्ष अजय मिश्रा, कार्यकारी अध्यक्ष धीरज बंसल, महासचिव श्याम श्रीवास्तव, जितेंद्र पाठक, विवेक श्रीवास्तव, प्रदीप गर्ग. अनिल शर्मा, संजय तोमर, रामकिशन कटारे, हेमंत शर्मा, अजय शर्मा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और आयुक्त जनसंपर्क डॉ. सुदाम खाडे,संचालक आशुतोष प्रताप सिंह  से अपील की है बीमा से वंचित रहे पत्रकारों को इस दौर में बीमा कराने के लिए एक अवसर और प्रदान करें। क्योंकि पत्रकारों के लिए एमआईडी इंडिया बीमा योजना में पुरानी बीमारियों के साथ ही कोरोना का इलाज भी कवर होता है ऐसे में अगर कोई पत्रकार कोरोना पीडित होता है तो कम से कम उसे इलाज के लिए आर्थिक परेशानी से नही जूझना पडेगा।  
 

Popular Posts