BREAKING!
  • माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी
  • पत्रकार की परिभाषा तय किया जाना चाहिए: शारदा
  • वैक्सीन के बाद भी मास्क लगाना जरूरी: डाॅ.राहुल भार्गव
  • सकारात्मक जीवन जीने के लिए प्रेरित करने वेबिनार आयोजित
  • MP ने UP, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से 23 तक बस परिवहन रोका
  • जल्द ही प्रदेश के दो बड़े नेता केन्द्रीय मंत्री बनेंगे ?
  • एमपी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन की मांग CM शिवराज ने मानी, अब सभी मीडिया कर्मियों का इलाज कराएगी सरकार
  • आपदा में अवसर न समझे वह साक्षात भगवान का स्वरूप है - गोविंद भैया
  • म प्र डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन ने अभियंताओं को मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में सम्मिलित किए जाने की मांग की
  • राजनीतिक संरक्षण के बिना नकली दवा का कारोबार संभव नहीं : अजय सिंह

Sandhyadesh

ताका-झांकी

हर आपात स्थिति को ध्यान में रखकर कोविड मरीजों के इलाज के पुख्ता इंतजाम रहें – तोमर

11-Apr-21 55
Sandhyadesh

ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर की व्यवस्थाओं की समीक्षा 
भोपाल बात कर जेएएच के लिए अतिरिक्त पैरामेडीकल स्टाफ का कराया इंतजाम 
ग्वालियर / हर आपात स्थिति को ध्यान में रखकर कोविड संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये अस्पतालों में ऑक्सीजन सहित पर्याप्त बैड की व्यवस्था रहे। साथ ही कोविड के इलाज के लिये चिन्हित सभी सरकारी अस्पतालों में प्रशिक्षित पैरामेडीकल स्टाफ की कमी न रहे, इसके भी पहले से ही पर्याप्त इंतजाम किए जाएँ। यह निर्देश ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने दिए। श्री तोमर कोविड संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये जिले में किए गए इंतजामों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कोविड के लिये चिन्हित अस्पतालों में केवल बैड ही नहीं ऑक्सीमीटर, ऑक्सीजन, वेंटीलेटर सहित कोविड के इलाज से संबंधित पर्याप्त दवाएँ भी हर समय उपलब्ध रहें।    
रविवार को यहाँ मोतीमहल स्थित मानसभागार में आयोजित हुई वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने भोपाल में वरिष्ठ अधिकारियों से मोबाइल फोन से चर्चा कर सुपर स्पेशिलिटी सहित जेएएच की अन्य इकाईयों में कोविड संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए आउटसोर्स के जरिए अतिरिक्त पैरामेडीकल स्टाफ तैनात करने की मंजूरी भी दिलाई। समीक्षा के दौरान यह बात सामने आई थी कि जेएएच में प्रतिदिन औसतन लगभग दो से ढ़ाई हजार मरीजों की ओपीडी रहती है। इस बार जेएएच में कोविड के इलाज के साथ-साथ समानांतर रूप से अन्य बीमारियों से ग्रसित  मरीजों का इलाज भी किया जा रहा है। इस वजह से पैरामेडीकल स्टाफ में 100 कर्मचारियों की जरूरत पड़ रही है। मंत्री श्री तोमर से भोपाल में हुई चर्चा के बाद तय किया गया कि जेएएच के अधीक्षक आउटसोर्स से इन कर्मचारियों को नियुक्त करने के लिये भोपाल प्रस्ताव भेजें। इस प्रस्ताव को तत्काल मंजूरी दी जायेगी। तब तक जिला कलेक्टर एक महीने के लिये अपने स्तर से शासन निर्देशों के तहत आउटसोर्स से स्टाफ रखने की अनुमति जारी करेंगे, जिससे कोविड मरीजों के इलाज में कठिनाई न आए। 
बैठक में संभाग आयुक्त श्री आशीष सक्सेना, पुलिस महानिरीक्षक  अविनाश शर्मा, कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक  अमित सांघी, नगर निगम आयुक्त  शिवम वर्मा, जेएएच के अधीक्षक डॉ. आरकेएस धाकड़, स्मार्ट सिटी की सीईओ श्रीमती जयति सिंह, संभागीय उपायुक्त राजस्व  आर पी भारती, अपर कलेक्टर  टी एन सिंह व  रिंकेश वैश्य तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनीष शर्मा सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे। 
 
ऑक्सीजन का पर्याप्त भण्डारण रहे 
ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने जोर देकर कहा कि कोरोना मरीजों के इलाज के लिये ऑक्सीजन की कमी कदापि नहीं पड़ना चाहिए। इसके लिए ऑक्सीजन उत्पादन इकाईयों से सतत संपर्क रखकर पहले से ही ऑक्सीजन का पर्याप्त भण्डारण रखें। उन्होंने कहा इस संबंध में वे स्वयं भी ऑक्सीजन उत्पादन इकाईयों से बात करेंगे। 
कंट्रोल कमाण्ड सेंटर में रात में कम से कम दो चिकित्सकों की ड्यूटी रहे 
होम आईसोलेशन में स्वास्थ्य लाभ ले रहे कोरोना मरीजों को प्रॉपर चिकित्सकीय सलाह और दवाएँ उपलब्ध कराने पर जोर देते हुए ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि कंट्रोल एण्ड कमाण्ड सेंटर में रात के समय कम से कम दो चिकित्सकों की ड्यूटी लगाएँ, जिससे सभी मरीजों को जल्द से जल्द डॉक्टर्स की सलाह मिल सके। 
सरकारी एवं निजी अस्पतालों में उपलब्ध बैड की जानकारी ली 
कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए जिले के सरकारी व निजी अस्पतालों में उपलब्ध बैड की जानकारी भी बैठक में ऊर्जा मंत्री द्वारा ली गई। कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने जानकारी दी कि सरकारी अस्पतालों में 623 ऑक्सीजन व 247 आईसीयू बैड सहित कुल 1370 बैड उपलब्ध हैं। साथ ही निजी अस्पतालों में ऑक्सीजनयुक्त व आईसीयू बैडों को मिलाकर 842 बैड वर्तमान में उपलब्ध हैं। इस प्रकार कुल मिलाकर 2212 बैड हर समय तैयार हैं, जिनकी संख्या जरूरत पड़ने पर तत्काल 2800 तक बढ़ाई जा सकती है। कलेक्टर ने जानकारी दी कि इसके अलावा जिले में संचालित नर्सिंग कॉलेज में भी जरूरत पड़ने पर पर्याप्त संख्या में ऑक्सीजनयुक्त बैड कोरोना मरीजों के इलाज के लिये उपलब्ध हैं। जिन्हें जरूरत पड़ने पर तत्काल उपयोग में लाया जा सकता है। 

Popular Posts