BREAKING!
  • माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी
  • पत्रकार की परिभाषा तय किया जाना चाहिए: शारदा
  • वैक्सीन के बाद भी मास्क लगाना जरूरी: डाॅ.राहुल भार्गव
  • सकारात्मक जीवन जीने के लिए प्रेरित करने वेबिनार आयोजित
  • MP ने UP, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से 23 तक बस परिवहन रोका
  • जल्द ही प्रदेश के दो बड़े नेता केन्द्रीय मंत्री बनेंगे ?
  • एमपी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन की मांग CM शिवराज ने मानी, अब सभी मीडिया कर्मियों का इलाज कराएगी सरकार
  • आपदा में अवसर न समझे वह साक्षात भगवान का स्वरूप है - गोविंद भैया
  • म प्र डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन ने अभियंताओं को मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में सम्मिलित किए जाने की मांग की
  • राजनीतिक संरक्षण के बिना नकली दवा का कारोबार संभव नहीं : अजय सिंह

Sandhyadesh

ताका-झांकी

क्षेत्र और समर्थकों की हालत देख दादा फिर सक्रिय

20-Mar-21 670
Sandhyadesh

अपने बजरंगी दादा अपने क्षेत्र और समर्थकों की खातिर फिर अपने विधानसभा क्षेत्र में एकाएक सक्रिय हो गये हैं। महाराष्ट्र के संगठन सह प्रभारी की जिम्मेदारी बखूबी संम्हालने के साथ ही साथ अपने ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में सतत संपर्क में बने हुये हैं। उन्होंने बीते दिवस एक बडा धार्मिक आयोजन कर संदेश भी दिया है कि उनकी आवाज और भी ज्यादा वजूद में हैं। 
ज्ञातव्य है कि दादा समर्थक भाजपाई पिछले कुछ समय से शांत थे, वह क्षेत्र में अपने समर्थकों व कार्यकर्ताओं को उपेक्षा से बेहद परेशान हैं, क्योंकि उन पर नये मंत्री जी दादा समर्थक होने के कारण विश्वास नहीं कर पा रहे है। अब दादा समर्थक जायें तो कहां जायें। इसी कारण दादा समर्थकों ने अपनी पीडा दादा को बताई तो दादा अब सहानुभूति से उनकी पीडा पर मरहम लगाने के लिये क्षेत्र में सक्रिय हो गये हैं। 
बजरंगी दादा की सक्रियता से पार्टी के दूसरे मंत्री खेमा में हलचल मच गई है। दादा हर छोटे बडे कार्यक्रम में उपस्थिति दर्ज करा करे हैं। अपने सेवापथ पर आने वाले लोगों को भी भरपूर तबज्जो दे रहे हैं। दादा के इस रवैये से अलग खेमों के भी लोग दादा से अन्य खेमों के भी लोग दादा से निकटता बढाने में लग गये हैं। 
सूत्रों की मानें तो वैसे दादा अब पूर्व के लिये भी सटीक बैठते हैं। पूर्व हारने के बाद भाजपा के पास प्रत्याशी नहीं है, इसीलिये पार्टी दादा को भी यहां आगे बढा सकती है। हालांकि अब दादा में महाराष्ट्र में सह प्रभारी बनने के बाद और वहां पार्टी मेें नई जान फूंकने के बाद गजब की कान्फीडेंस देखा जा सकता है। 

Popular Posts