BREAKING!
  • माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी
  • पत्रकार की परिभाषा तय किया जाना चाहिए: शारदा
  • वैक्सीन के बाद भी मास्क लगाना जरूरी: डाॅ.राहुल भार्गव
  • सकारात्मक जीवन जीने के लिए प्रेरित करने वेबिनार आयोजित
  • MP ने UP, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से 23 तक बस परिवहन रोका
  • जल्द ही प्रदेश के दो बड़े नेता केन्द्रीय मंत्री बनेंगे ?
  • एमपी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन की मांग CM शिवराज ने मानी, अब सभी मीडिया कर्मियों का इलाज कराएगी सरकार
  • आपदा में अवसर न समझे वह साक्षात भगवान का स्वरूप है - गोविंद भैया
  • म प्र डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन ने अभियंताओं को मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में सम्मिलित किए जाने की मांग की
  • राजनीतिक संरक्षण के बिना नकली दवा का कारोबार संभव नहीं : अजय सिंह

Sandhyadesh

ताका-झांकी

बढ़ता कोरोना, मेला के लिए खतरे की घंटी

26-Feb-21 1012
Sandhyadesh

ग्वालियर अंचल में अचानक बढ़े कोरोना केस से व्यापार मेला आयोजन पर संकट के बादल मंडरा गये है। हालांकि मेला अब संपूर्ण लगने को है और मार्च के प्रथम सप्ताह में अपने शबाब पर आ जायेगा। मंगलवार और बुधवार को मेला में बंपर भीड़ उमड़ी थी। जिसके बाद गुरूवार को रिकार्ड 18 कोरोना के मामले ग्वालियर में लंबे अरसे के बाद दर्ज किये गये। कोरोना का ग्राफ बढ़ने के बाद से लोगों में दहशत का माहौल जरूर बना है, परंतु व्यापारी कोरोना के सुरक्षा उपायों के साथ 2021 मेला के लिए तैयार है। प्रशासन ने मेला में सात गेटों से एन्ट्री की बात कही है। साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग के बाद मेला में सैलानी के प्रवेश का आदेश दिया है, वही मास्क को भी अनिवार्य कर दिया है। इन सब उपायों से व्यापारी मेला घूमने और खरीददारी के लिए सेफ बता रहे है। लेकिन बीते रोज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने अपने संदेश में कोरोना से बचाव के लिए हर कदम उठाने की बात कही है। महाराष्ट्र से सटे जिलों में नाइट कफ्र्यू लगने का अंदेशा है। इधर ग्वालियर चंबल अंचल में कोरोना ग्राफ के बढ़ने के बाद मेला आयोजन पर जहां प्रश्नचिन्ह लग रहा है। वही इससे कोरोना फैलने का भी खतरा बढ़ गया है। 

Popular Posts