BREAKING!
  • बाबरी विध्वंस के प्रमुख आरोपी पवैया कल सुबह लखनऊ जायेंगे
  • कैलाश विजयवर्गीय का जेके टायर गेट पर स्वागत
  • भाजपाई दिग्गज कैलाश -नरेन्द्र की मुलाकात हुई
  • कैलाश विजयवर्गीय बीडी शर्मा के पैत्रक गांव पहुंचे
  • महिला बाल विकास विभाग इस बार पोषण माह मनायेगा, मॉनीटरिंग पर जोर रहेगा: राजीव सिंह
  • भारतीय जैन मिलन की द्वितीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की ऑनलाइन बैठक संपन्न
  • चुनरी बाई पर कलेक्टर ने दिखलाई संवेदना, 24 घंटे में मिलेगी महीनों से लंबित अनुग्रह राशि.
  • कर्मचारी एकता से ही मांगों का हो सकता है निराकरण: राजेन्द्र शर्मा
  • झूठ, फरेब के बूते बनी थी कमलनाथ की सरकार: रामलाल रौतेल
  • अपने धर्म और भगवान पर विश्वास और आस्था होना बहुत जरूरी है-मुनिश्री

Sandhyadesh

ताका-झांकी

अधिकारों की रक्षक है रिट- एडवोकेट विवेक जैन

02-Aug-20 48
Sandhyadesh


मध्य भारत शिक्षा समिति द्वारा संचालित माधव विधि महाविद्यालय में आयोजित दो दिवसीय वेबीनार के दूसरे दिन एडवोकेट विवेक जैन  ने अपने उद्बोधन में कहा कि राजा अगर राजधर्म का पालन न करे तो जनता के पास उपचार का होना आवश्यक है वर्तमान में रिट के माध्यम से जनता के अधिकारों की रक्षा की जाती है। उच्चतम न्यायालय एवं उच्च न्यायालय द्वारा जारी विभिन्न रिटो से न्यायालय जनता के अधिकारों की रक्षा करते हैं। उच्चतम न्यायालय द्वारा अनुच्छेद 32 के अंतर्गत, अधिकार प्रच्छ परमादेश, बंदी प्रत्यक्षीकरण, उत्प्रेषण एवं प्रतिषेध रिट जारी की जाती है लेकिन रिट क्षेत्राधिकार के संबंध में उच्च न्यायालय के पास उच्चतम न्यायालय से भी ज्यादा अधिकार है चुकी उच्च न्यायालय किसी अन्य विषय पर भी रिट जारी कर सकता है।
न्यायालयों द्वारा अधिकार की रक्षा के लिए अलग-अलग रिट जारी की जाती है। रिट का फायदा यह है कि इसमें साक्ष्य नहीं कराने होते। हाई कोर्ट रिट जारी कराने से मना भी कर सकता है यदि आपके पास अन्य कोई उपचार प्राप्त है।
वेबीनार में अतिथि परिचय प्राचार्य डॉ नीति पांडेय द्वारा किया गया। स्वागत भाषण शासी निकाय सदस्य एडवोकेट  विवेक खेड़कर  द्वारा दिया गया। आभार प्रदर्शन शासी निकाय अध्यक्ष एडवोकेट श्री प्रवीण नेवासकर जी द्वारा दिया गया।वेबीनार का संचालन प्रोफेसर भारतेन्दु चौधरी द्वारा किया गया। वेबीनार में समस्त महाविद्यालय स्टाफ एवं विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Popular Posts