BREAKING!
  • पवैया अयोध्या निकले, चंबल का जल व मिट्टी ले गये
  • कमिश्रर का ज्यादा काम करना ही परेशानी
  • क्या पवैया का नया अवतार हिन्दू नेता के रूप में .....?
  • राष्ट्रीय बाल आयोग 24 घण्टे सेवा और मार्गदर्शन में सलंग्न:प्रियंक क़ानूनगो
  • नव युवकों ने अशोक शर्मा के नेतृत्व में ली कांग्रेस की सदस्यता
  • बजरंग दल सौंपेगा पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष जयभान सिंह पवैया को चम्बल नदी का पवित्र जल कलश एवं मिट्टी
  • गोहद में संजू, डबरा में सत्यप्रकाशी , भांडेर में फूलसिंह , यह हैं कांग्रेस के तारणहार
  • 120 इलेक्ट्रीकल साईकिल प्रतिवर्ष मिलेंगी प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को
  • उपभोक्ता के अधिकारों का संरक्षण करता है उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम- डॉ वी. के. श्रोत्रीय
  • अधिकारों की रक्षक है रिट- एडवोकेट विवेक जैन

Sandhyadesh

आज की खबर

विभाग बांटने में बेबस हुये शिवराज दिल्ली दरबार मे नतमस्तक

05-Jul-20 862
Sandhyadesh

भोपाल । सिंधिया समर्थकों युक्त राज्य का शिवराज मंत्रीमंडल अब विभागों के पेंच को लेकर संशय में है। विभाग के लिये अब दिल्ली दरबार फाइनल निर्णय होगा। अब मंत्री बनने के बाद पूर्व कांग्रेसी लेकिन अब भाजपाई भी दमदार विभागों के लिये अड़ गये हैं। जिससे भाजपा के कोटे से बने प्रमुख वरिष्ठ मंत्रियों को अपने मन पसंद विभाग के लाले पड गये हैं। स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह भी उलझन में पड गये हैं। 
लगातार दमदारी से एक तरफा ३ बार राज्य का मंत्रीमंडल संम्हालने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के लिये इस बार पूर्व कांग्रेसी गले की फांस बनते जा रहे हैं। पहले दबाब में निर्धारित कोटे से ज्यादा मंत्री बनाने पडे ,अब विभाग भी उन्हें महत्वपूर्ण विभाग देने का दबाब बढता ही जा रहा है। 
इस दबाब के कारण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह स्वयं निर्णय नहीं ले पा रहे हैं। इसके लिये अब उन्हें दिल्ली दरबार की शरण लेनी पडी है। जबकि यह बात तय है कि मंत्री बनाना व विभाग देना मुख्यमंत्री का सबसे बडा अधिकार है, इस अधिकार का उन्हें स्वयं अपने विवेक से निर्णय करना चाहिये। 

2020-08-03aaj