BREAKING!
  • दो अप्रैल २०१८ हिंसा के मामले वापस लिये जायें
  • मप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स ने मुख्यमंत्री को पदोन्नति को लेकर ज्ञापन सौंपा
  • ट्रक ड्राइवर के लिए निशुल्क नेत्र परीक्षण शिविर, टोल और नाकों पर चलाया जागरूकता अभियान
  • केन्द्रीय मंत्री तोमर एवं प्रभारी मंत्री सिलावट ने अभय चौधरी के निवास पर पहुँचकर शोक संवेदनाएँ व्यक्त कीं
  • हमारा संकल्प है कि कोई भी गरीब मरीज धन के अभाव में इलाज से वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान
  • संगठित होकर ही कर सकते हैं एक दूसरे की मदद : श्याम श्रीवास्तव
  • राजनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम चोबर के खला मे सिद्ध बाबा के पुण्य स्थान पर हुए यज्ञ मे सम्पूर्ण भारत वर्ष एवं विदेशी श्रद्धालुओं ने दी पूर्ण आहुति
  • रोटरी फाउंडेशन में दान करे : सुधीर त्रिपाठी
  • कमलनाथ और कांग्रेस भाजपा के लिये चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय
  • कैलाश ग्वालियर आये , पूरन भदौरिया की पत्नी को देखने अपोलो पहुंचे

लॉक डाउन में महाराज का नया रूप,समर्थकों में जोश भर गया

04-Jun-20 5468
Sandhyadesh

विनय अग्रवाल
ग्वालियर। कोविड-19 के कहर में पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का नया रूप देखने को मिला। महाराज यानि सिंधिया जी ने इस दौरान अपने समर्थकों व खास लोगों को लगातार सेवा अभियान चलाने के लिये उत्साहित किया, वहीं सेवा अभियान से जुडे कार्यकर्ताओं से भी मोबाइल पर सीधा संवाद किया। 
उनका फोन जब कार्यकर्ताओं पर आया तो कार्यकर्ताओं को सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि महाराज का फोन है। महाराज ने कार्यकर्ताओं से कहा कि आप हैरान न हों मैं ज्योतिरादित्य बोल रहा हूं, आप कैसे हैं परिवार के लोग कैसे हैं के साथ सबकी कुशलक्षेम पूछी । महाराज के फोन से कार्यकर्ताओं का जोश चौगुना हो गया। वह शहर भर में अपने समर्थकों को बताते हुये घूमे भी कि महाराज ने उनसे बात की। 
वैसे सिंधिया जी लॉक डाउन अवधि में ग्वालियर तो नहीं आये, लेकिन उन्होंने कार्यकर्ताओं से क्षेत्र विशेष का भी नाम लेकर गरीबों में खाद्यान्न सामग्री व खाना बांटने के लिये नियमित जुट जाने का आव्हान किया। महाराज के फोन से अति उत्साहित कार्यकर्ताओं ने इसके बाद न तो दिन देखा और न रात, बस जुट गये सेवा कार्य में। 
एक कार्यकर्ता सत्येन्द्र शर्मा ने तो लगातार ७१ दिन से भूखों को और प्रवासी लोगों को भोजन बांटने की मुहिम ही चला रखी है। स्वयं महाराज ने उनसे तो बात की , बल्कि उनके साथ सेवा कार्य में लगे अन्य साथियों से बात कर उनकी भी हौसला अफजाई की। 
वैसे महाराज का यह रूप निराला ही है, इससे भाजपा के उन बडे नेताओं को भी कुछ सीख लेना चाहिये जो अपने ही खास कार्यकर्ताओं सहित अंचल के लोगों से दूरियां बनाये हुये हैं। 

Popular Posts