BREAKING!
  • अनहद में संस्कार मंजरी परिवार के कलाकार देंगे प्रस्तुति
  • फ्लैग मार्च निकालकर दिया संदेश : निर्भीक होकर डालें वोट , कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में निकला फ्लैग मार्च
  • दलित समाज को वोट बैंक समझती है कांग्रेसः लाल सिंह आर्य
  • मुख्यमंत्री ही उपचुनावी भाजपा प्रत्याशियों के संकट मोचक
  • संजू कांग्रेस की अघोषित स्टार प्रचारक, दर्जनों सीटों पर जनसंपर्क व सभा की डिमांड
  • डाक मत पत्र से मतदान करने के लिये प्रशिक्षण स्थल पर बने हैं विधानसभा क्षेत्रवार सुविधा केन्द्र
  • किले पर स्टंट करने वालों पर नकेल, सुबह उरवाई गेट पर रोका वाहनों को
  • लुप्त होने की कगार पर है पुरानी परम्पराए
  • विधानसभा के उप चुनाव असत्य पर सत्य की विजय का है: डॉ. पांडेय
  • सिद्धांत विहीन कांग्रेस का हो रहा पतन: राजेन्द्र शुक्ला

Sandhyadesh

ताका-झांकी

लॉक डाउन में महाराज का नया रूप,समर्थकों में जोश भर गया

04-Jun-20 4085
Sandhyadesh

विनय अग्रवाल
ग्वालियर। कोविड-19 के कहर में पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का नया रूप देखने को मिला। महाराज यानि सिंधिया जी ने इस दौरान अपने समर्थकों व खास लोगों को लगातार सेवा अभियान चलाने के लिये उत्साहित किया, वहीं सेवा अभियान से जुडे कार्यकर्ताओं से भी मोबाइल पर सीधा संवाद किया। 
उनका फोन जब कार्यकर्ताओं पर आया तो कार्यकर्ताओं को सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि महाराज का फोन है। महाराज ने कार्यकर्ताओं से कहा कि आप हैरान न हों मैं ज्योतिरादित्य बोल रहा हूं, आप कैसे हैं परिवार के लोग कैसे हैं के साथ सबकी कुशलक्षेम पूछी । महाराज के फोन से कार्यकर्ताओं का जोश चौगुना हो गया। वह शहर भर में अपने समर्थकों को बताते हुये घूमे भी कि महाराज ने उनसे बात की। 
वैसे सिंधिया जी लॉक डाउन अवधि में ग्वालियर तो नहीं आये, लेकिन उन्होंने कार्यकर्ताओं से क्षेत्र विशेष का भी नाम लेकर गरीबों में खाद्यान्न सामग्री व खाना बांटने के लिये नियमित जुट जाने का आव्हान किया। महाराज के फोन से अति उत्साहित कार्यकर्ताओं ने इसके बाद न तो दिन देखा और न रात, बस जुट गये सेवा कार्य में। 
एक कार्यकर्ता सत्येन्द्र शर्मा ने तो लगातार ७१ दिन से भूखों को और प्रवासी लोगों को भोजन बांटने की मुहिम ही चला रखी है। स्वयं महाराज ने उनसे तो बात की , बल्कि उनके साथ सेवा कार्य में लगे अन्य साथियों से बात कर उनकी भी हौसला अफजाई की। 
वैसे महाराज का यह रूप निराला ही है, इससे भाजपा के उन बडे नेताओं को भी कुछ सीख लेना चाहिये जो अपने ही खास कार्यकर्ताओं सहित अंचल के लोगों से दूरियां बनाये हुये हैं। 

Popular Posts