BREAKING!
  • MPCCI पदाधिकारी प्रतिनधिमण्डल ने CM शिवराज से की मुलाकात
  • ठाठीपुर चौराहा पर कांग्रेस कमेटी आईटी सेल के जिला अध्यक्ष ने धरना दिया
  • यूपी एसटीएफ ने विकास दुबे के दो साथियों को ग्वालियर से उठाया
  • राज्य मंत्री भदौरिया ने माधवराव सिंधिया की प्रतिमा पर श्रृद्धा-सुमन अर्पित किए
  • स्मार्ट सिटी परियोजना से शहरवासियों को जोड़ा जाए: सांसद शेजवलकर
  • मुख्यमंत्री चौहान आज ग्वालियर व मुरैना प्रवास पर रहेंगे
  • सेवापथ की ओर बढ़ते सिंधिया समर्थकों के काफिले.......!
  • थाना स्तर पर व्यापारिक समितियां बनायेगा कैट : भूपेन्द्र जैन
  • इंतहा हो गई विभाग वितरण में .........?
  • अब ओपीएस भी सेवा पथ में

Sandhyadesh

आज की खबर

संभाग आयुक्त ओझा ने कोविड-19 पर प्रकाशित पुस्तक का किया विमोचन

02-Jun-20 58
Sandhyadesh


ग्वालियर । संभाग आयुक्त एम बी ओझा ने डॉ. एस के भदकारिया द्वारा कोविड-19 पर लिखी गई पुस्तक “बायोकैमीकल एण्ड क्लीनिकल रिपोर्ट ऑन कोविड-19” का विमोचन कर उन्हें बधाई देते हुए कहा कि प्रकाशित पुस्तक  “बायोमेडीकल एण्ड क्लीनिकल रिपोर्ट ऑन कोविड-19” की संक्रमण को रोकने एवं कोविड के प्रति बचाव हेतु लोगों को जागरूक करने में अहम भूमिका रहेगी। 
संभाग आयुक्त कार्यालय के सभाकक्ष में मंगलवार को पुस्तक के विमोचन के मौके पर संयुक्त संचालक स्वास्थ्य डॉ. ए के दीक्षित, उप संचालक भोपाल डॉ. वीरेन्द्र कुमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर सी वर्मा सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारीगण उपस्थित थे। पुस्तक में कोविड-19 के उपचार के पूर्व बचाव व रोकथाम के उपायों पर जानकारी देने के साथ मास्क का उपयोग, बार-बार साबुन से हाथ धोना, डीसेनेटाइजेशन, भौतिक दूरी (2 मीटर या 6 फीट), सम्पूर्ण लॉकडाउन, होम क्वारंटाइन व प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों के पालन की समझाइश दी गई है। 
पुस्तक में बताया गया है कि कोविड-19 बीमारी का कारण विषाणु के विभिन्न अध्ययनों के आधार पर मानव शरीर पर होने वाले प्रभाव संबंधी विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों के अभिमत, विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं भारतीय राष्ट्रीय अनुसंधान परिषद द्वारा समय-समय पर जारी दिशा-निर्देश के साथ रोकथाम के उपाय एवं उपचार संबंधी विभिन्न अभिमतों का समावेश पुस्तक में किया गया है। पुस्तक में बताया है कि विषय विशेषज्ञों के मतानुसार कोविड-19 अपने आप में इतना जानलेवा नहीं है, जैसे कि आमजन में इसका भय व्याप्त है। इसकी वैश्विक मृत्युदर 7 प्रतिशत है, जबकि भारत में 2 – 3 प्रतिशत है। लेकिन सहरोगियों (को-मोर्विडीज) जैसे 60 वर्ष से अधिक आयु वाले हृदय रोगी, डायबिटीज, किडनी, फैंफडों की बीमारी से ग्रसित एवं कैंसर रोगियों में इसकी संक्रामकता अधिक व मृत्यु दर भी लगभग 75 प्रतिशत पाई गई है क्योंकि इस समूह में मरीज की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी कम होती है। 
उल्लेखनीय है कि डॉ. एस के भदकारिया द्वारा वर्ष 1984 में भोपाल में हुई गैस त्रासदी पर भी शोघ पत्र प्रकाशित हुआ था। इस शोध पत्र की विभाग एवं शासन द्वारा काफी प्रशंसा की गई थी। वर्तमान में डॉ. भदकारिया अपनी 67 वर्ष की आयु पूर्ण कर आज भी इंटीग्रेटेड कमांड कंट्रोल सेंटर में अपनी सेवाएं एवं अनुकरणीय योगदान कोविड-19 के मरीजों के परीक्षण, चिकित्सा परामर्श व कांउसलिंग में निष्ठा पूर्वक दे रहे हैं। 

2020-07-12aaj