BREAKING!
  • नर ही नारायण है की भावना से ओतप्रोत सत्येन्द्र शर्मा ने 71 वे दिन भी भोजन वितरण किया
  • नियम कायदों को तोडकर कांग्रेस ने की बैठक , एसडीएम ने थमाया नोटिस, मांगा जवाब
  • मण्डी लाइसेंस की नवीनीकरण तारीख को बढ़ाया जाए एवं फीस को यथावत् बनाए रखा जाए : चेम्बर
  • जेके जैन सागर संभाग के नये कमिश्रर होंगे
  • मानवसेवा के 70वे दिन कमल माखीजानी एवं सत्येन्द्र शर्मा ने भोजन वितरण किया
  • चुनावी लोकप्रियता नहीं, जनता की भलाई के लिए काम कर रही मोदी सरकारः नरेंद्रसिंह तोमर
  • रेत की लूट का कम्पन
  • ट्रेनों के आगमन से यात्रियों की आवा-जाही शुरू
  • मंत्री कोटा बढाने की मांग
  • स्व. बांदिल की पुण्यतिथि पर भाजपा नेताओं ने किया याद

Sandhyadesh

आज की खबर

प्रभू भक्ति का धन जो कमा लेता है उसका कल्याण होता है- राष्ट्रसंत

07-Apr-20 33
Sandhyadesh

 राष्ट्रसंत मुनिश्री विहर्ष सागर के शिष्य मुनिश्री विजयेश सागर ने केश लोचन किया  
ग्वालियर-संतो का काम मनुष्य को धर्म का मार्ग दिखाना है। जीवन में धन तो हर कोई कमा सकता है, लेकिन भक्ति करने का सौभाग्य हर किसी के नसीब में नहीं होता है। प्रभू भक्ति का धन जो कमा लेता है उसका कल्याण होता है। यह विचार राष्ट्रसंत मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज ने आज मंगलवार को तानसेन नगर स्थित न्यू कालौनी में धर्मचर्चा में व्यक्त किए।
         राश्ट्रसंत मुनिश्री ने कहा कि संसार में कर्म फल से कोई बच नहीं सकता है। जैसे कर्म करोगे वैसे ही फल मिलेगे। पीडित जीव की सेवा से बढकर कोई धर्म नही है। सेवा और पूजा समझकर किए गए कार्य खुद के लिए तो प्रसन्नता दायक होते ही है इससें भगवान भी खुश होते है। कर्म ऐसे करें कि हमें पछताना न पडे। मुनिश्री ने कहा कि जिसका स्वभाव सरल हो, मन निर्मल हो, और जो मिल जाए उसी में सतोंश हो ऐसे व्यक्ति दुनिया में विरलें ही होते है। भौतिकता की अंधी दौड़ में मनुष्य पाप कर्म करने से जरा भी हिचकता नहीं है। आज युवतियों का धन फैशन और युवकों का धन व्यसन में बर्बाद हो रहा है। धन का हमेशा सदुपयोग करना चाहिये। जिससे अच्छा स्वास्थ्य और सुविधाएं प्राप्त हो सके।
  मंत्रों के बीच मुनिश्री अपने हाथों से केश लोचन किया
          जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन ने बताया किमंगलवार को सुबह मुनि विजयेश सागर महाराज ने केश लोचन शुरू किया। इसके बाद मुनिश्री ने अपने हाथों से सिर, दाढ़ी और मूंछों के बाल उखाड़ फेंके। इस केश लोचन की प्रक्रिया के बीच भक्तों ने जैन मंत्रों का जाप शुरू कर दिया। मुनि की केश लोचन प्रक्रिया करीब तीन घंटे तक चली। मुनिश्री विहर्ष सागर ने अपने हाथो से मुनिश्री विजयेश सागर महाराज के सिर और चेहरे के पूरे बालों को साफ कर दिया।
24 घंटे तक अन्न-जल का त्याग किया, आहार 48 घंटे बाद लेगे, णमोकार मंत्र गंूजे
   जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन ने बताया कि जैन मुनिश्री हर तीन-चार महीने में हाथों से केश लोचन करते हैं। इस प्रक्रिया में किसी जीव को नुकसान नहीं पहुंचता है। इसके अलावा यह बहुत कम होता है, जब जैन मुनि भक्तों के सामने अपना केश लोचन करते हैं। ज्यादातर मुनि एकांत में ही इस प्रक्रिया को करते हैं। वैराग्यमयी क्रिया में केश लोचन के उपरांत मुनिश्री निर्जरा उपवास करते हुए पूरे 24 घंटे तक अन्न-जल का त्याग किया। 48 घंटे बाद मुनिश्री आहार लेगे। केशलोचन के साथ-साथ महामंत्र णमोकार गूंजता रहा।

                                              

2020-06-04