BREAKING!
  • ट्रेनों के आगमन से यात्रियों की आवा-जाही शुरू
  • मंत्री कोटा बढाने की मांग
  • स्व. बांदिल की पुण्यतिथि पर भाजपा नेताओं ने किया याद
  • सिंधिया जानते थे भारतीय जनता पार्टी विकास के लिए प्रतिबद्ध है इसलिए भाजपा में आए: शेजवलकर
  • संभाग आयुक्त ओझा ने कोविड-19 पर प्रकाशित पुस्तक का किया विमोचन
  • बीएसएनएल को पटरी पर लाने की कवायद
  • मंत्रीमंडल विस्तार कब करें, यह गेंद अब शिवराज के पाले में
  • जिसे यश मिलना होता है, माता सेवा का अवसर सिर्फ उसे देती है--- जितेन्द्र जामदार
  • कोरोना पाजिटिव होना, भय का कारण नहीं -- डा जितेन्द्र जामदार
  • मजबूत युवा भारत के आगे घुटने टेकता कोरोना. कमजोर कोरोना के तेज फैलाव से डरने की जरुरत नहीं

Sandhyadesh

आज की खबर

जैन समाज ने महावीर स्वामी जन्मोत्सव घरो पर मनाया

06-Apr-20 53
Sandhyadesh


 ग्वालियर- 14 अप्रैल तक लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए जैन धर्म के चैबीसवें तीर्थंकर भगवान महावीर का 2619 वां जन्म कल्याणक दिवस आज सोमवार को मनाया गया। महावीर जयंती को एक अलग रूप से भगवान महावीर का जन्मोत्सव घर-घर बडे धूमधाम व उत्सव कव साथ मनाया गया। मुनिश्री विहर्श सागर महाराज ने सकल सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए भगवान का अभिशेक औन पूजन के साथ जन्मोत्सव भी मनाया।

महावीर का अभिशेक कर आरती उतारी, मुनिदीक्षा पर 500 पैकेट राषन वितरण किए

   राश्ट्रसंत मुनिश्री विहर्श सागर महाराज एवं मुनिश्री विजयेष सागर महाराज ने मंत्रो के साथ भगवान महावीर स्वामी का अभिशेक और षांतिधार अजय कुमार जैन विजय कुमार जैन परिवार ने की। भगवान की दीपो से आरती की गई। जन्मकल्याणक एवं आचार्यश्री प्रसंन्न सागर महाराज के 31 वां मुनिदीक्षा पर गुरूभक्त महेषचंद्र जैन विमल जैन पुजा जैन जनकगंज परिवार की ओर से 500 किरान रार्षन के पैकेट गरीब जररूरंतमदो को वितरण किया।

सुबह घरों में वाद्ययंत्र गूंजे, महावीर की पूजा व घर में नृत्य कर पालना झूलाया

   जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन आदर्ष कलम ने बताया कि 6 अप्रैल सोमवार सुबह पुरुष वर्ग श्वेत परिधान व महिला वर्ग केसरिया वस्त्र पहनकर प्रातः 8ः 00 बजे अपने घरों की छत, बालकनी में पहुंच कर घण्टा नाद कर थाली, ताली व वाद्ययंत्रों के साथ भगवान महावीर जन्मउत्सव के साथ भगवान के सदेंष के जय जयकार गूजेगे और लोगो ने भजन व बधाई गीतो पर डाडिया नृत्स कर ’महामंत्र णमोकार मंत्र का जाप भी ंिकया। घर में एक चैकी पर भगवान महावीर स्वामी की तस्वीर विराजमान कर रंगोली से सज्जवाट कर मंगल कलष स्थापित ंिकए। समाजजनो ने दीप प्रज्वलित कर अश्टद्रव्य से पूजन कर महावीर अश्टक व चालीस का पाठ ंिकया। शाम को बच्चे, युवा, महिलायें और बुजुर्ग अपने घरो में भगवान के पालना झूलने के साथ दीपक जलाकर भगवान की आरती और भक्तामर का पाठ ंिकया। घर केमुख्य दरवाजे के बाहर रंगोली पर दीपको रखकर दीपो जन्मोत्सव मनाया। 

महावीर मानव सेवा भोजनशाला 3100 सौ पैकेट भोजन के वितरण करें

   24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी जन्म कल्याणक पर जैन मिलन ग्वालियर एवं श्री महावीर जयंती महोत्सव समिति अखिल जैन समाज वृहत्तर ग्वालियर ने राष्ट्रसंत मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज की प्रेरणा आशीर्वाद से सोशल डिस्टेंडिंग का ध्यान रखते हुए 3100 सौ (छोले-पूडी बूंदी-सेव के) भोजन के पैकेट श्री भगवान महावीर मानव सेवा भोजनशाल चंम्पाबाग धर्मशाला नई सड़क पर तैयार कर स्थानीय प्रशासन के माध्यम से गरीब बतिस्यो में वितरण ंिकया। बालचंद्र जैन, विकास गंगवाल, अध्यक्ष संजीव अजमेरा, सचिव योगेष बोहार, विनय कासलीवाल आदि मौजूद थे। उधर राजेष जैन लाला मित्र मडल की ओर से 3100 सौ भोजन के पैकेट तैयार कर गरीव झोपडी में वितरण करे। जैन समाज के लोगा जीव रक्षा के लिए गो शालाओं में और अपने घरो के बाहर आवार पषु पक्षियो का भोजन व दानपानी देगे।

गोपाचल, स्वर्ण मंदिर और 85 मंदिर मे सुबह पूजारी अभिशेक किए 

जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन आदर्ष कलम ने बताया कि 14 अप्रैल तक लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए जैन समाज के 85 जैन मदिर में केवल पूजारी भगवान महावीर स्वामी का अभिशेक ंिकया। मंदिर में किसी को प्रवेष नही दिया गया। 

सब जीने की इच्छा रखते हैं इसलिए किसी को मारना या कष्ट पहुंचाना उचित नहीं है-मुनिश्री

मुनिश्री विहर्श सागर महाराज ने कहा ंिक भारत एक धर्म प्रधान देश है। इस देश में अनेक महापुरुषों ने जन्म लिया है। जिनमें जैन धर्म के 24 वे तीर्थंकर भगवान महावीर है जिन्होंने पूरे विश्व को जियो और जीने दो का संदेश दिया है। आज उनका जन्म कल्याणक महोत्सव पूरा विश्व मना रहा है। उन्होंने अपने जीवन व विचारों से पूरे विश्व को जग के हित के मार्ग का प्रवर्तन किया है। इस कारण भारत की पावन धरा अहिंसा एवं करुणा की जन्मभूमि मानी जाती है। इनके उपदेशों के अनुसार अपने जीवन को पावन बनाते हुए हम स्वकल्याण के साथ सुख में समाज और सब उन्नत राष्ट्र के निर्माण में सहकारी बन सकते हैं। आज का मानव महापुरुषों की शिक्षाओं को भूलता जा रहा है। अहिंसा जीवन की जान है,।
                                    

2020-06-03