BREAKING!
  • ट्रेनों के आगमन से यात्रियों की आवा-जाही शुरू
  • मंत्री कोटा बढाने की मांग
  • स्व. बांदिल की पुण्यतिथि पर भाजपा नेताओं ने किया याद
  • सिंधिया जानते थे भारतीय जनता पार्टी विकास के लिए प्रतिबद्ध है इसलिए भाजपा में आए: शेजवलकर
  • संभाग आयुक्त ओझा ने कोविड-19 पर प्रकाशित पुस्तक का किया विमोचन
  • बीएसएनएल को पटरी पर लाने की कवायद
  • मंत्रीमंडल विस्तार कब करें, यह गेंद अब शिवराज के पाले में
  • जिसे यश मिलना होता है, माता सेवा का अवसर सिर्फ उसे देती है--- जितेन्द्र जामदार
  • कोरोना पाजिटिव होना, भय का कारण नहीं -- डा जितेन्द्र जामदार
  • मजबूत युवा भारत के आगे घुटने टेकता कोरोना. कमजोर कोरोना के तेज फैलाव से डरने की जरुरत नहीं

Sandhyadesh

आज की खबर

केवल हाथ पर हाथ रखकर, आसन जमाकर बैठने से ध्यान नहीं होता

28-Mar-20 51
Sandhyadesh

ग्वालियर--: धर्म ध्यान केवल एकाग्रता से किया जा सकता है क्यो कि ध्यान का अर्थ भावना और विचार की एकाग्रता है। शुभ भावनाओं और शुभ विचारों से धर्म ध्यान होता है, जबकि अशुभ भावों एवं बुरे विचारों से अशुभ ध्यान होता है। ध्यान का अर्थ भावना और विचारों की एकाग्रता है। यह बात मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज की साधना अनुष्ठान में  आज शनिवार को तानसेन नगर स्थित न्यू कालोनी में व्यक्त किए! मुनिश्री विजयेश सागर महाराज भी मोजूद थे! 

मुनिश्री ने कहा कि केवल आसन लगाने से धर्म ध्यान नहीं होगा। इसके लिए मन पर विजय प्राप्त करना होगी। बुरी भावनाओं एवं अशुभ विचारों से बचने के लिए हम एक निश्चित समय में उचित स्थान पर विशेष आसन में बैठकर ध्यान लगाते हैं, लेकिन मन को तत्व चिंतवन में लगाना आवश्यक है, क्योकि जिसने मन को नियंत्रित कर लिया उसी ने सबकुछ पाया है।

*जब संस्कारों का क्षरण होता है, तभी संस्कृति होती है लुप्त*

मुनिश्री ने कहाकि संस्कार और संस्कृति के महत्व पर प्रकाश डाला। जब संस्कारों का क्षरण होता है, तभी संस्कृति लुप्त होती है। यदि संस्कार पावन बने रहे तो फिर संस्कृति की महानता सबको सुख-शांति देती रहेगी। अच्छे संस्कारों से ही संस्कृति को बचाया जा सकता है, इसलिए इसकी रक्षा करें। महाराज ने कहा कि चाहे भगवान आदिनाथ के जन्म हो या श्रीराम का हो, हमें उनके जीवन से कुछ ना कुछ अच्छाइयां जरूर गृहण करनी चाहिए।

*कोरोना से बचने के लिए मंत्रो से हवन ओर अभिषेक कर आरती उतारी*

*कोरोना वायरस से मुक्ति दिलाने के लिए प्रतिदिन अनुष्ठान चल रहे है!*

 जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन ने बताया कि मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज 25 से 2 अप्रेल तक साधन, अखण्ड मौन, उपवास एवं अनुष्ठान कोरोना वायरस मुक्ति दिलाने के लिए  आज प्रातः मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज ने  ॐ ह्रीं नमः मंत्रो का उच्चारण कर भगवन आदिनाथ का अजय जैन व विजय जैन ने अभिषेक किया! आदिनाथ भगवन की शांतिधारा कोरोना वायरस से बचाने की!  प्रतिदिन हवन कुंड में विश्व मे कोरोना वायरस से बचाने के लिए मंत्रो का उच्चारण कर आहुतिया दी जा रही है!

2020-06-03