BREAKING!
  • नन्हीं बच्ची और 350 किलोमीटर का सफर देख निगम कमिश्रर माकिन रो पडे
  • ताराविद्यापीठ की तरफ से 71 हजार रूपये की राशि रेडक्रास को भेंट की
  • कर्मों का फल प्राप्त किए बिना कोई नहीं हो सकता मुक्त: मुनिश्री
  • नन्हीं बच्ची और 350 किलोमीटर का सफर देख निगम कमिश्रर माकिन रो पडे
  • कोरोना संकट में अभी क्या विश्वस्त सहयोगी बनेंगे मंत्री ....?
  • फर्जी समाज सेवी और संस्थाओं के पदाधिकारी घरों में दुबके
  • यशोधरा राजे सिंधिया ने फिर की जनता से अपील,घरों में रहे लॉक डाउन का करें पालन
  • BSNL की पहलः कोरोना के चलते Validity बढ़ाई, बैलेंस भी दिया
  • केंद्रीय मंत्री तोमर ने प्रधानमंत्री राहत कोष में 1 माह का वेतन दिया
  • जेके टायर जरूरतमंदों के लिए आगे आया, खाद्यान्न सामग्री बांटी

Sandhyadesh

आज की खबर

शिवराज ने विश्वास मत जीता,फ्लोर टेस्ट में कांग्रेस का एक भी विधायक नहीं पहुंचा

24-Mar-20 29
Sandhyadesh

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को विश्वास मत हासिल कर लिया। सुबह 11 बजे विधानसभा की कार्यवाही शुरू हुई। चूंकि कोरोना की वजह से कांग्रेस का एक भी विधायक सदन में नहीं पहुंचा, इसलिए शिवराज ने सर्वसम्मति से विश्वास मत जीत लिया। सभी विधायकों ने ‘हां’ कहकर विश्वास मत प्रस्ताव पारित कर दिया। इससे पहले स्पीकर एनपी प्रजापति ने इस्तीफा दे दिया था। इस वजह से विधायक जगदीश देवड़ा ने कार्यवाही पूरी कराई। इसके बाद विधानसभा का सत्र 27 मार्च सुबह 11 बजे तक स्थगित कर दिया गया। मध्य प्रदेश विधानसभा में विधायकों की संख्या 206 है। बसपा के 2, सपा का 1 और 2 निर्दलीय विधायक हाजिर थे। अगर कांग्रेस के 92 और 2 निर्दलीय भी हाजिर रहते तो वोटिंग होती और बहुमत साबित करने के लिए भाजपा को 104 वोटाें की जरूरत पड़ती। अभी भाजपा के पास 107 विधायक हैं। शिवराज ने विश्वास मत पेश करते हुए कहा कि राज्यपाल ने सरकार को 15 दिन में बहुमत साबित करने को कहा है, इसलिए वे विश्वास मत पेश कर रहे हैं। चौथी बार मप्र के सीएम बनने वाले पहले नेता एक साल, 3 महीने और 6 दिन बाद शिवराज सिंह चौहान फिर से प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए। उन्हें राज्यपाल लालजी टंडन ने राजभवन में हुए एक सादे समारोह में राज्य के 19वें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। शिवराज चौथी बार इस पद पर काबिज होने वाले प्रदेश के एक मात्र नेता हैं। कोरोना संकट को देखते हुए शपथ कार्यक्रम में सिर्फ 40 लोगों को बुलाया गया था। उनके बैठने की व्यवस्था भी ऐसे की गई, ताकि प्रत्येक के बीच कम से कम एक मीटर की दूरी रहे।

2020-03-31aaj