BREAKING!
  • बाबरी विध्वंस के प्रमुख आरोपी पवैया कल सुबह लखनऊ जायेंगे
  • कैलाश विजयवर्गीय का जेके टायर गेट पर स्वागत
  • भाजपाई दिग्गज कैलाश -नरेन्द्र की मुलाकात हुई
  • कैलाश विजयवर्गीय बीडी शर्मा के पैत्रक गांव पहुंचे
  • महिला बाल विकास विभाग इस बार पोषण माह मनायेगा, मॉनीटरिंग पर जोर रहेगा: राजीव सिंह
  • भारतीय जैन मिलन की द्वितीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की ऑनलाइन बैठक संपन्न
  • चुनरी बाई पर कलेक्टर ने दिखलाई संवेदना, 24 घंटे में मिलेगी महीनों से लंबित अनुग्रह राशि.
  • कर्मचारी एकता से ही मांगों का हो सकता है निराकरण: राजेन्द्र शर्मा
  • झूठ, फरेब के बूते बनी थी कमलनाथ की सरकार: रामलाल रौतेल
  • अपने धर्म और भगवान पर विश्वास और आस्था होना बहुत जरूरी है-मुनिश्री

Sandhyadesh

ताका-झांकी

शिवराज ने विश्वास मत जीता,फ्लोर टेस्ट में कांग्रेस का एक भी विधायक नहीं पहुंचा

24-Mar-20 106
Sandhyadesh

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को विश्वास मत हासिल कर लिया। सुबह 11 बजे विधानसभा की कार्यवाही शुरू हुई। चूंकि कोरोना की वजह से कांग्रेस का एक भी विधायक सदन में नहीं पहुंचा, इसलिए शिवराज ने सर्वसम्मति से विश्वास मत जीत लिया। सभी विधायकों ने ‘हां’ कहकर विश्वास मत प्रस्ताव पारित कर दिया। इससे पहले स्पीकर एनपी प्रजापति ने इस्तीफा दे दिया था। इस वजह से विधायक जगदीश देवड़ा ने कार्यवाही पूरी कराई। इसके बाद विधानसभा का सत्र 27 मार्च सुबह 11 बजे तक स्थगित कर दिया गया। मध्य प्रदेश विधानसभा में विधायकों की संख्या 206 है। बसपा के 2, सपा का 1 और 2 निर्दलीय विधायक हाजिर थे। अगर कांग्रेस के 92 और 2 निर्दलीय भी हाजिर रहते तो वोटिंग होती और बहुमत साबित करने के लिए भाजपा को 104 वोटाें की जरूरत पड़ती। अभी भाजपा के पास 107 विधायक हैं। शिवराज ने विश्वास मत पेश करते हुए कहा कि राज्यपाल ने सरकार को 15 दिन में बहुमत साबित करने को कहा है, इसलिए वे विश्वास मत पेश कर रहे हैं। चौथी बार मप्र के सीएम बनने वाले पहले नेता एक साल, 3 महीने और 6 दिन बाद शिवराज सिंह चौहान फिर से प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए। उन्हें राज्यपाल लालजी टंडन ने राजभवन में हुए एक सादे समारोह में राज्य के 19वें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। शिवराज चौथी बार इस पद पर काबिज होने वाले प्रदेश के एक मात्र नेता हैं। कोरोना संकट को देखते हुए शपथ कार्यक्रम में सिर्फ 40 लोगों को बुलाया गया था। उनके बैठने की व्यवस्था भी ऐसे की गई, ताकि प्रत्येक के बीच कम से कम एक मीटर की दूरी रहे।

Popular Posts