BREAKING!
  • कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन
  • बिजली बिल भुगतान हेतु चैक स्वीकार किए जाएं : एमपीसीसीआई
  • हमें धर्म के चक्कर लगाकर धर्म को भीतर बसाने का प्रयास करना है-शास्त्री
  • नगर निगम द्बारा तलघरों में की जा रही तोड़फोड़ को रोका जाए : एमपीसीसीआई
  • कोरोना वैक्सीन वितरण के लिए राज्य योजना बनाएं - प्रधानमंत्री मोदी
  • खाद्य सुरक्षा विभाग के दलों ने छापामार कार्रवाई कर लिए खाद्य पदार्थों के नमूने
  • बालिका विवाह 18 या 21 वर्ष? महिलाओं में मतैक्य नही..
  • एसडीएम बनवारिया ने कोरोना की पीड़ा भोगी है, कोरोना रोकने में जोशीला होना क्या उनकी गलती हैं?
  • रागिनी फाउंडेशन और मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड की कार्यशाला संपन्न
  • साईं लीला सेवा संस्था का दीपावली मिलन समारोह संपन्न

Sandhyadesh

ताका-झांकी

अब नेताओं की किस्मत चेतेगी

06-Mar-20 775
Sandhyadesh

मध्यप्रदेश में पिछले 15 वर्षों के बाद लगभग सवा साल पहले आई कांग्रेस सरकार के नेताओं की किस्मत अब एक बार फिर चेतने वाली है। राज्य में कांग्रेस सरकार के थोडा अस्थिर होते ही अब जो फार्मूला वरिष्ठ नेताओं ने तैयार किया है उसमें मंत्रियों के विभागों को कम कर मंत्रिमंडल के सदस्यों की संख्या बढाना और पिछले सवा साल से इंतजार कर रहे निगम मंडलों पर नेताओं को काबिज करना है। इसे देख लगता है कि निगम मंडलों में एक बार फिर से नेताओं की किस्मत का ताला खुलने वाला है वहीं सरकार को बचने का इंतजार करे बिना ही छुटभय्ये नेता अब राजधानी की दौड लगा गये हैं। 
मध्यप्रदेश में बीते तीन दिनों से चल रहे राजनैतिक घटना क्रम के बाद से कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने सरकार को बचाने के लिए जहां कवायद तेज की है। वहीं एक फार्मूला भी तय किया है जिसमें राज्य में खाली पडे निगम मंडलों पर जल्द ही नियुक्तियां दी जायेंगी इससे पार्टी में असंतोष को जहां कम किया जा सकेगा वहीं कई नेताओं के पठठे भी निगम मंडलों पर काबिज होकर अपने आका का और अपना रूतवा कार्यकर्ताओं लोगों को दिखायेंगे। अब देखना है कि राजनैतिक घटनाक्रम की परिणिति क्या होती है और उसके बाद कब तक नये फार्मूले के तहत निगम मंडलों पर नियुक्तियां होंगी इसका इंतजार रहेगा। 
दरबारीलाल.................

Popular Posts