BREAKING!
  • बाबरी विध्वंस के प्रमुख आरोपी पवैया कल सुबह लखनऊ जायेंगे
  • कैलाश विजयवर्गीय का जेके टायर गेट पर स्वागत
  • भाजपाई दिग्गज कैलाश -नरेन्द्र की मुलाकात हुई
  • कैलाश विजयवर्गीय बीडी शर्मा के पैत्रक गांव पहुंचे
  • महिला बाल विकास विभाग इस बार पोषण माह मनायेगा, मॉनीटरिंग पर जोर रहेगा: राजीव सिंह
  • भारतीय जैन मिलन की द्वितीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की ऑनलाइन बैठक संपन्न
  • चुनरी बाई पर कलेक्टर ने दिखलाई संवेदना, 24 घंटे में मिलेगी महीनों से लंबित अनुग्रह राशि.
  • कर्मचारी एकता से ही मांगों का हो सकता है निराकरण: राजेन्द्र शर्मा
  • झूठ, फरेब के बूते बनी थी कमलनाथ की सरकार: रामलाल रौतेल
  • अपने धर्म और भगवान पर विश्वास और आस्था होना बहुत जरूरी है-मुनिश्री

Sandhyadesh

ताका-झांकी

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण प्रबंधन में हमें मुख्य भूमिका दी जाए: निर्मोही अखाड़ा

20-Jan-20 98
Sandhyadesh

ग्वालियर। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बनने वाले ट्रस्ट में निर्मोही अखाड़े को महत्वपूर्ण भूमिका और प्रतिनिधित्व देने की मांग को लेकर प्रमुख साधु-संतों की बैठक हुई। सिद्ध पीठ श्री गंगादास की शाला में हुई इस बैठक में निर्मोही अखाड़े के 15 प्रमुख संत शामिल हुए। इस बैठक में सभी संतों ने निर्णय लिया कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण प्रबंधन में निर्मोही अखाड़े को मुख्य भूमिका दी जाए।
बैठक में फैसला हुआ कि राम मंदिर के शिलान्यास से लेकर निर्माण तक निर्मोही अखाड़े के 15 पंचों को जरूरी निर्णय लेने के लिए उसमें शामिल किया जाए। साथ ही राम मंदिर ट्रस्ट में पदाधिकारी तय करने और रामलला की सेवा पूजा का अधिकार निर्मोही अखाड़े के संतों को दिया जाए।निर्मोही अखाड़ा रामलला के पूजन के अधिकार की मांग करता रहा है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार को ट्रस्ट में निर्मोही अखाड़े को समुचित प्रतिनिधित्व देने के निर्देश दे चुका है।  बैठक में अयोध्या, चित्रकूट, बिंद्रावन, गुजरात, राजस्थान और मध्य प्रदेश के निर्मोही अखाड़े के प्रमुख महंत शामिल हुए।

Popular Posts