BREAKING!
  • बाबरी विध्वंस के प्रमुख आरोपी पवैया कल सुबह लखनऊ जायेंगे
  • कैलाश विजयवर्गीय का जेके टायर गेट पर स्वागत
  • भाजपाई दिग्गज कैलाश -नरेन्द्र की मुलाकात हुई
  • कैलाश विजयवर्गीय बीडी शर्मा के पैत्रक गांव पहुंचे
  • महिला बाल विकास विभाग इस बार पोषण माह मनायेगा, मॉनीटरिंग पर जोर रहेगा: राजीव सिंह
  • भारतीय जैन मिलन की द्वितीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की ऑनलाइन बैठक संपन्न
  • चुनरी बाई पर कलेक्टर ने दिखलाई संवेदना, 24 घंटे में मिलेगी महीनों से लंबित अनुग्रह राशि.
  • कर्मचारी एकता से ही मांगों का हो सकता है निराकरण: राजेन्द्र शर्मा
  • झूठ, फरेब के बूते बनी थी कमलनाथ की सरकार: रामलाल रौतेल
  • अपने धर्म और भगवान पर विश्वास और आस्था होना बहुत जरूरी है-मुनिश्री

Sandhyadesh

ताका-झांकी

परीक्षा पे चर्चाः सिर्फ परीक्षा के अंक जिंदगी नहीं-पीएम मोदी

20-Jan-20 120
Sandhyadesh

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को परीक्षा पे चर्चा की। तालकटोरा स्टेडियम में पीम मोदी ने छात्रों को परीक्षा के तनाव से बचने के कई टिप्स दिए, जिनमें उन्होंने चंद्रयान-2 से लेकर क्रिकेट तक का जिक्र किया। पीएम मोदी ने चंद्रयान-2 का उदाहरण देकर छात्रों को बताया कि कैसे विफलता से निपटा जाए। इससे पहले पीएम मोदी ने परीक्षा पे चर्चा से पहले प्रदर्शनियों का जायजा लिया। इस कार्यक्रम का मकसद यह सुनिश्चित करना था कि छात्र तनावमुक्त होकर आगामी बोर्ड एवं प्रवेश परीक्षाएं दें। इस कार्यक्रम में करीब 2,000 छात्रों ने भाग लिया, जिनमें से 1,050 छात्रों का चयन निबंध प्रतियोगिता के जरिए किया गया।
पीएम मोदी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि इस देश में अरुणाचल ऐसा प्रदेश है जहां एक दूसरे से मिलने पर जय-हिंद बोला जाता है। ये हिंदुस्तान में बहुत कम जगह होता है। वहां के लोगों ने अपनी भाषा के प्रचार के साथ हिंदी और अंग्रेजी पर भी अच्छी पकड़ बनाई है। हम सभी को नॉर्थ ईस्ट जरूर जाना चाहिए। क्या हम तय कर सकते हैं कि 2022 में जब आजदी के 75 वर्ष होंगे तो मैं और मेरा परिवार जो भी खरीदेंगे वो मेक इन इंडिया ही खरीदेंगे। मुझे बताइये ये कर्त्तव्य होगा या नहीं, इससे देश का भला होगा और देश की इकोनॉमी को ताकत मिलेगी। 
पीएम मोदी ने कहा कि पिछली शताब्दी के आखरी कालखंड और इस शताब्दी के आरंभ कालखंड में विज्ञान और तकनीक ने जीवन को बदल दिया है। इसलिए तकनीक का भय कतई अपने जीवन में आने नहीं देना चाहिए। तकनीक को हम अपना दोस्त माने, बदलती तकनीक की हम पहले से जानकारी जुटाएं, ये जरूरी है। 
उन्होंने आगे कहा कि स्मार्ट फोन जितना समय आपका समय चोरी करता है, उसमें से 10 प्रतिशत कम करके आप अपने मां, बाप, दादा, दादी के साथ बिताएं। तकनीक हमें खींचकर ले जाए, उससे हमें बचकर रहना चाहिए। हमारे अंदर ये भावना होनी चाहिए कि मैं तकनीक को अपनी मर्जी से उपयोग करूंगा। 
पीएम मोदी ने कहा कि आज की पीढ़ी घर से ही गूगल से बात करके ये जान लेती है कि उसकी ट्रेन समय पर है या नहीं। नई पीढ़ी वो है जो किसी और से पूछने के बजाए, तकनीक की मदद से जानकारी जुटा लेती है। इसका मतलब कि उसे तकनीक का उपयोग क्या होना चाहिए, ये पता लग गया। 

Popular Posts