BREAKING!
  • पवैया अयोध्या निकले, चंबल का जल व मिट्टी ले गये
  • कमिश्रर का ज्यादा काम करना ही परेशानी
  • क्या पवैया का नया अवतार हिन्दू नेता के रूप में .....?
  • राष्ट्रीय बाल आयोग 24 घण्टे सेवा और मार्गदर्शन में सलंग्न:प्रियंक क़ानूनगो
  • नव युवकों ने अशोक शर्मा के नेतृत्व में ली कांग्रेस की सदस्यता
  • बजरंग दल सौंपेगा पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष जयभान सिंह पवैया को चम्बल नदी का पवित्र जल कलश एवं मिट्टी
  • गोहद में संजू, डबरा में सत्यप्रकाशी , भांडेर में फूलसिंह , यह हैं कांग्रेस के तारणहार
  • 120 इलेक्ट्रीकल साईकिल प्रतिवर्ष मिलेंगी प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को
  • उपभोक्ता के अधिकारों का संरक्षण करता है उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम- डॉ वी. के. श्रोत्रीय
  • अधिकारों की रक्षक है रिट- एडवोकेट विवेक जैन

Sandhyadesh

आज की खबर

मुख्यमंत्री खरीदी केंद्र पहुंचे, धान की गुणवत्ता परखी, किसानों को सुविधा देने के निर्देश

01-Dec-19 193
Sandhyadesh

रायपुर।छत्तीसगढ़ में रविवार से धान खरीदी की सरकारी प्रक्रिया शुरू हो गई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहले दिन  दुर्ग जिले के पाटन विकासखंड की सहकारी समिति औंधी और जामगांव एम जाकर जायजा लिया। सीएम ने  किसानों से कहा- आपके लिए खरीदी केंद्रों में जरूरी सुविधाएं देखने आया हूँ। आपकी सभी सुविधाओं का सरकार ध्यान रखेगी। यहां सरना प्रजाति का धान था। मुख्यमंत्री ने रगड़कर देखा। कहा इसकी गुणवत्ता अच्छी है। मुख्यमंत्री ने धान खरीदी के लिए सभी जरूरी इंतजाम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा है कि किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हो और खरीदी केन्द्रों में पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाए।
राज्य में धान खरीदी 
राज्य के सभी जिलों में धान का उपार्जन छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ (मार्कफेड) द्वारा किया जा रहा है। पहले से मौजूद 1 हजार 995 खरीदी केन्द्रों सहित इस वर्ष शुरू किए गए 33 नए खरीदी केन्द्रों में किसानों का धान लिया जा रहा है। खरीफ वर्ष 2019-20 में प्रदेश के 19 लाख 56 हजार किसानों ने पंजीयन कराया। पिछले साल से यह संख्या 16 लाख 97 हजार थी। धान की खरीदी एक दिसम्बर से 15 फरवरी 2020 तक की जाएगी। इस बार राज्य के किसानों से 85 लाख मैट्रिक टन धान खरीदी करने का अनुमान है। 





2020-08-03aaj