BREAKING!
  • MPCCI पदाधिकारी प्रतिनधिमण्डल ने CM शिवराज से की मुलाकात
  • ठाठीपुर चौराहा पर कांग्रेस कमेटी आईटी सेल के जिला अध्यक्ष ने धरना दिया
  • यूपी एसटीएफ ने विकास दुबे के दो साथियों को ग्वालियर से उठाया
  • राज्य मंत्री भदौरिया ने माधवराव सिंधिया की प्रतिमा पर श्रृद्धा-सुमन अर्पित किए
  • स्मार्ट सिटी परियोजना से शहरवासियों को जोड़ा जाए: सांसद शेजवलकर
  • मुख्यमंत्री चौहान आज ग्वालियर व मुरैना प्रवास पर रहेंगे
  • सेवापथ की ओर बढ़ते सिंधिया समर्थकों के काफिले.......!
  • थाना स्तर पर व्यापारिक समितियां बनायेगा कैट : भूपेन्द्र जैन
  • इंतहा हो गई विभाग वितरण में .........?
  • अब ओपीएस भी सेवा पथ में

Sandhyadesh

आज की खबर

शिक्षा विभाग ने 16 शिक्षकों को दी अनिवार्य सेवानिवृत्ति

01-Dec-19 201
Sandhyadesh

   भोपाल। शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला लेते हुए खराब प्रदर्शन करने वाले 16 शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी के मुताबिक यह पहली बार है, जब खराब प्रदर्शन के आधार पर शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई है। खराब प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को बाहर करने के लिए 20-25 का फॉर्मूला लागू किया गया, जिसमें 20 वर्ष की सेवा अवधि पूरी करने वाले या 50 वर्ष की उम्र पार करने वाले शामिल हैं। इस फॉर्मूले के तहत आने वाले दो अन्य शिक्षकों के नियुक्ति संबंधी दस्तावेज न मिलने के कारण छानबीन समिति उनकी विभागीय जांच कर रही है। वहीं 20-50 के फॉर्मूले में फिट ना बैठने वाले 20 शिक्षकों के खिलाफ भी विभागीय जांच शुरू कर दी गई है। 20 अन्य शिक्षक जो आदिवासी विभाग के थे, उन पर कार्रवाई करने के लिए विभाग से सिफारिश की है।
 काम में बेहतर प्रदर्शन न करने वाले अधिकारी-कर्मचारी हटाये जायेंगे
मध्य प्रदेश सरकार द्वारा सभी विभागों को निर्देश दिए गए हैं कि सरकारी काम में बेहतर प्रदर्शन न करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों को हटाया जाना चाहिए। इसके लिए 20-50 का फॉमूर्ला लागू किया गया, जिसमें 20 वर्ष सरकारी नौकरी पूरी कर चुके या 50 वर्ष की उम्र पूरी के अधिकारियों और कर्मचारियों के काम की समीक्षा की जाएगी। जो इस फॉर्मूले के तहत काम में फिट नहीं बैठेगा उसे हटा दिया जाएगा।

2020-07-12aaj