BREAKING!
  • विधायक डाॅ. सिकरवार ने वार्ड 18, 22 एवं 23 में सड़क निर्माण के लिए किया भूमिपूजन
  • भाजपा की जिला सूची आज देर सायं घोषित हो सकती है...?
  • प्रभारी मंत्रियों की प्रभार जिलों में अब रूचि नहीं
  • सांसद शेजवलकर ने संपर्क अभियान के तहत वरिष्ठ चिकित्सकों से भेंट की
  • मुख्यमंत्री चौहान बेहट में विकास कार्यों की बड़ी-बड़ी सौगातें देने पहुँचेंगे, अधिकारियों ने तैयारियों का लिया जायजा
  • मुख्यमंत्री चौहान 8 जून को ग्वालियर व चंबल संभाग के प्रवास पर
  • लोकायुक्त ने पटवारी को रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा
  • कृषि विश्वविद्यालय में कृषक जागरूकता सह प्रशिक्षण कार्यक्रम हुआ
  • श्री गंगादास की बडी शाला में संगीत समारोह एवं श्रीमदभागवत 10 जून से 17 जून तक
  • युवा खेलों को गेम चेंजर बनायेंः अनुराग ठाकुर

Sandhyadesh

ताका-झांकी

जन सेवा अभियान की जमीनी हकीकत जानने ग्रामीण पहुँचे कलेक्टर

24-May-23 45
Sandhyadesh

ग्वालियर| कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने गलियों-गलियों जाकर और चौपाल लगाकर ग्रामीणों की कठिनाईयाँ व परेशानियाँ जानी। साथ ही पैदल-पैदल लम्बी दूरी तय कर सरकार के अनुदान से एक प्रगतिशील किसान द्वारा स्थापित बकरी व मुर्गी पालन केन्द्र का जायजा लिया। वे बुधवार को मुरार जनपद पंचायत के ग्राम बिजौली और शहर के वार्ड-62 से जुड़े ग्राम मैथाना में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान – द्वितीय चरण एवं मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में पंजीकृत महिलाओं के डीबीटी कार्य की जमीनी हकीकत जानने पहुँचे थे। 
कलेक्टर सिंह ने ग्राम बिजौली की चौपाल में ग्रामीणों के बीच बैठकर उनकी समस्यायें सुनीं। साथ ही उन्हें रचनात्मक कार्यों के लिये प्रेरित किया। उन्होंने ग्रामीणों से आग्रह किया कि वे गाँव में पनप रही गाजर घास का मिलजुलकर खात्मा करें। इसी तरह गाँव की गलियों में चौक हो चुकीं नालियों को साफ करने में ग्राम पंचायत की मदद करें। उन्होंने इस अवसर पर स्थानीय किसानों को भरोसा दिलाया कि आपके क्षेत्र की नहर की मरम्मत की पहल की जायेगी। ग्राम बिजौली के अंतर्गत प्रगतिशील किसान राजेन्द्र सिंह पाल द्वारा राष्ट्रीय पशुधन विकास मिशन के तहत एक करोड़ रूपए की लागत से स्थापित किए गए बकरी फार्म का जायजा भी कलेक्टर सिंह ने इस दौरान लिया। यह फार्म स्थापित करने के लिये सरकार द्वारा 50 लाख रूपए का अनुदान प्रदान किया गया है। राजेन्द्र सिंह इस फार्म में सफलतापूर्वक मुर्गी पालन का काम भी कर रहे हैं। 
शासकीय सेवाओं की जमीनी हकीकत के संबंध में ग्रामीणों से चर्चा के बाद कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने ग्राम मैथाना में अनौपचारिक माहौल में ग्रामीणों से सुख-दु:ख व शांति-सुकून की बातें की। एक आम आदमी की तरह कलेक्टर सिंह ने जब शांति-सुकून की बातें कीं, तो एक प्रकार से आध्यात्मिक माहौल बन गया और ग्रामीण यह भूल गए कि हम सब अपने जिले के जिलाधीश से रूबरू हैं। कार्यक्रम के बाद जब कलेक्टर अगले गाँव के दौरे पर जाने लगे तो गाँव के देव सिंह, कप्तान सिंह, रामसिंह, जगपाल व लक्ष्मीनारायण सहित अन्य बुजुर्गों ने उनका रास्ता रोक लिया और कहा कि सरोफा (स्वाफा) पहनाए बगैर हम आपको अपने गाँव से जाने नहीं देंगे। कलेक्टर सिंह उनके आग्रह को टाल नहीं पाए उन्होंने सरोफा पहनने के बाद पुष्पाहारों से बुजुर्गों व महिलाओं का स्वागत किया। 
सफल दुग्ध उत्पादन से जुड़े मैथाना गाँव के मेहनतकश किसानों ने आस-पास के गाँव के लिये मिसाल कायम की है। लगभग 50 घरों वाले इस गाँव के लगभग एक दर्जन घरों में उन्नत नस्ल की 20 – 20 भैंसों की डेयरी स्थापित है। गाँव के शेष घरों में भी 2 से लेकर 5 भैंसें ग्रामीणों ने पाल रखी हैं। गाँववासी प्रतिदिन सुबह-शाम अपना दूध लेकर ग्वालियर जाते हैं। इससे उन्हें अच्छी खासी आमदनी हो रही है। सबसे बड़ी बात यह भी है कि गाँव का कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार का नशा नहीं करता। ग्रामीणों का यह भी कहना है कि जब से यह गाँव बसा है तब से अब तक कभी भी पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई है। छोटे-मोटे आपसी मन-मुटाव गाँव के बुजुर्ग पंचायत में निपटा लेते हैं। 

Popular Posts