BREAKING!
  • नेशनल हेल्थ मिशन का पेपर लीक, गिरोह के आठ सदस्य दबोचे, मास्टर माइंड प्रयागराज का
  • बदलते ग्वालियर में आप सभी का सहयोग जरूरी: ऊर्जा मंत्री
  • निगम अधिकारियों ने सुनी आमजन की समस्यायें
  • वार्ड समिति 3 की ज्योति एवं 4 के विवेक बने अध्यक्ष
  • विकास यात्रा में हितग्राहियों को किया हितलाभ का वितरण
  • स्त्री राष्ट्र की आधार शक्ति
  • कार्यों का हिसाब-किताब व विकास की सौगातें लेकर हम आपके गाँव आए हैं : कुशवाह
  • श्रीकृष्ण ने पढ़ाया था सच्ची मित्रता का पाठ, वर्तमान में बदल गयी परिभाषा:घनश्याम शास्त्री
  • मुख्यमंत्री जी बताये विकलांगजनों का कितना विकास कियाः जौहरी
  • विकास यात्रा के दौरान कलेक्टर ने किया विभिन्न शासकीय संस्थाओं का निरीक्षण

Sandhyadesh

ताका-झांकी

पुण्यतिथि पर अर्जुन सिंह को याद किया

05-Nov-22 99
Sandhyadesh

दाऊ साहब श्री अर्जुन सिंह जी की आज जयंती है उनको हम याद करते उनकेद्वारा किये गए कार्यो के लिए उन्होंने देश की राजनीति को एक अलग ऐसी पहचान दी जो सर्व धर्म की रक्षक है। 

पूज्य दाऊ साहब के नाम मैं सर्वधर्म समभाव देखने को मिलता है उनके नाम हिंदू, मुस्लिम ,सिख ,इसाई समाहित है। उनके नाम के प्रथम अक्षर अ से मुसलमान का अल्लाह, र से हिन्दू का राम ,ज से ईसाई का जॉन और न से सिखों का नानक बन जाता हैं।
आदरणीय दाऊ साहब चारो धर्म के ही नही विश्व के समस्त धर्मों के प्रति अटूट श्रद्धा रखते थे।
 सत्य सनातन धर्म के सबसे बड़े हितचिंतक थे।आदरणीय दाऊसाहब का एक ही संकल्प था जनमानस की सेवा। उनके लिये हम ये कह सकते है "जन सेवा किए बिना मोए कहां विश्राम"
वो कहते थे ।
" सांई इतना दीजिये तामे कुटुम्ब समाय में भी भूखा ना रहूँ और साधु भी भूखा न जाये "। 
ऐसे थे परम आदरणीय दाऊ साहब श्री अर्जुन सिंह जी।

भारतीय राजनीति में इन दिनों बड़बोलेपन का दौर चला है। उसको देखकर आश्चर्य होता है। कि अभी कुछ समय पहले तक इस राजनीति के परिदृश्य में आदरणीय दाऊ साहब श्री अर्जुन सिंह जैसे राजनेता मौजूद थे।जो बात कम और काम ज्यादा के सिद्धांत में भरोसा रखते थे। उनसे मिलने वालों को अक्सर इस बात से असुविधा होती थी। कि उनके साथ कैसे संवाद स्थापित किया जाए, लेकिन जिन्होंने परम आदरणीय दाऊ साहब श्री अर्जुन सिंह को कुछ निकट से देखा है वे बता सकते हैं कि वे जितना भी बोलते थे उसमें वजन बहुत ज्यादा होता था। और मुझे ये सौभाग्य प्राप्त है कि उनका स्नेहिल प्यार और आशीर्वाद मुझ जैसे एक छोटे कार्यकर्ता को मिला और उन से ही मैने राजनीति का ककहारा सीखा है। और उन से ही मैने एकनिष्ठा व समर्पण और मानवता की सेवा की सीख ली है।
उनकी विशेष उपलब्धियों में चम्बल से डाकुओं का सफलता के साथ आत्मसमर्पण, जिस समय पंजाब सुलग रहा था तब उन्होंने पंजाब राज्यपाल के रूप पंजाब में शांति स्थापित की और राजीव गाँधी व लोंगोवाल समझौता करवाया, गरीबों की भरपूर मदद करने में सदैव आगे रहें और मध्यप्रदेश के समस्त झुग्गीवासियों को मालिकाना हक दिया , बिजली, पानी, गरीब
Sandhyadesh
आदिवासी भाइयों को तेंदुपत्ता का उचित मूल्य दिलाने, गरीब रिक्शा चालकों को आत्मनिर्भर बनाने जैसे कामों को अंजाम दे कर हर वर्ग का ध्यान रखा परम आदरणीय दाऊ साहब श्री अर्जुन सिंह की योजनाओं को आज भी देश प्रदेश के आमजन भूले नहीं हैं। उनकी देश के मानव संसाधन मंत्री के रूप में जो शिक्षा की नीति बनी वो सर्वहारा वर्ग के लिए आज भी बहुत प्रभावी है, संचार मंत्री के रूप में जो नीति बनी वो आज देश मे संचार क्रांति की जनक है देश में उस समय के तत्कालीन प्रधानमंत्री आदरणीय श्री राजीव जी ने अपनी सबसे महत्व पूर्ण इस योजना का भार उन्ही के ऊपर सोंपा और उस पर वो खरे उतरे उनका जीवन उतार चढ़ाव से परिपूर्ण था लेकिन वो सही मायनों में कर्मयोद्वा थे जो विपत्तियों में भी हिमत्त नही हारते थे,ना मुस्कराना भूलते थे उनके चेहरे के तेज देखते ही बनता था। उन्होंने महात्मा गाँधी जी, पँडित जवाहर लाल नेहरू जी,श्रीमती इंदिरा गांधी जी, श्री राजीव गाँधी जी, श्री पी वी पी नरसिम्हाराव जीऔर श्री मनमोहन सिंह जी के साथ अपने लंबे राजनीतिक जीवन की पारी का सफलता पूर्वक निर्वाहन किया और सदैव सर्वहारा वर्ग व मातृशक्ति, शोषित पीड़ितों और युवाओं के हित का ध्यान रखा।
उन्हें पढ़ने और लिखने का बहुत शौक था। जब उनका स्वस्थ खराब था और उस समय जब वो एस्कोर्ट हार्ट अस्पताल में भर्ती थे उस समय भी वे देश की चिंता में व्यस्त रहते थे। अस्पताल से उनका यह पत्र उनके पीड़ा की गहराई को स्पष्ट करता है। उन्होंने लिखा था - ‘‘मेरे राम, रहीम और ईशा तुम कहां हो’’ आज वे सशरीर तो मौजूद नहीं रहे हैं किंतु उन्होंने जो जनहित के कार्य किए हैं ये सब उनकी उपस्थिति को सदैव प्रमाणित करते रहेंगे।
 उनको उनकी जयंती पर ही नही उनको तो प्रतिदिन ही स्मरण और नमन करने का दिन है।
परमआदरणीय दाऊ साहब के चरणों मे सादर शत शत नमन।
उनको श्रद्धाजंलि देने बालों में मध्यप्रदेश काँग्रेस कमेटी के सचिव भानूप्रताप सिंह तोमर, राममंदिर ब्लाक काँग्रेस ग्वालियर के कार्यवाहक अध्यक्ष राजीव दीक्षित, किसान काँग्रेस के देवेंद्र पाठक, रामवीर सिंह गुर्जर, शैलेन्द्र उपाध्याय, युवक कांग्रेस के विकाश खरे,उपभोक्ता काँग्रेस के हिमांशु अर्स, समाज सेवी डॉ रविन्द्र सिंह राजावत, काँग्रेस के बरिष्ठ नेता विजय सिंह पाल,पप्पू पाल, विजय सिंह सखवार, अभय प्रताप सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।
दाऊ साहब को याद करते हुए गरीबो फल व मिष्ठान का वितरण किया गया।

Popular Posts