Recent Posts

ताका-झांकी

युवा तय करें व्यक्ति आधारित पार्टी या विचार आधारित पार्टी : अमित शाह

2018-10-09 21:56:39 251
Sandhya Desh

ग्वालियर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि आने वाले चुनावों में युवाओं को यह तय करना होगा कि वह व्यक्तियों के आधार वाली पार्टी को पसंद करें या फिर विचार के आधार वाली पार्टी को। उन्होंने यह भी कहा कि देश की सबसे बडी पार्टी रही कांग्रेस में स्वयं लोकतंत्र नहीं है , ऐसी पार्टी देश में लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकती है। वह देश का विकास नहीं कर सकती है वह तो केवल अपनी कुर्सी बचाने में लगी रहती है। 
भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आज यहां भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा आयोजित युवा सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश में आगामी चुनावों में शिवराज सरकार के १४ साल और केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार के साढे चार साल का कार्यकाल पिछली सरकारों के कार्यकाल पर भारी है। इस सरकारों में देश प्रदेश में विकास गति बढी है। गांवों में २४ घंटे बिजली, गरीबों को गैस चूल्हा , आवास हीनों को मकान देने की योजनाओं पर अमल हुआ है। इससे पूर्व की सरकारों में गैस के कूपन सांसदों को कितने दिये जाएं, कितने गांवों में बिजली पहुंचाई जाए ऐसे लक्ष्य निर्धारित किये जाते थे। अमित शाह ने कहा कि २०२२ में आजादी के ७५ वीं वर्षगांठ पर ऐसा कोई गरीब का घर नहीं होगा जिसमें गैस चूल्हा ना हो। हर गरीब के लिए शौचालय होगा। घुसपैठिये देश से बाहर होंगे। 
अमित शाह ने कहा कि इससे पहले घुसपैठियों को कांग्रेस से लेकर ममता की सरकारें वोट बैंक समझती थी। वहीं घुसपैठियों के आने पर संसद तक में इन सरकार के नुमांइंदों ने रोना रोया , लेकिन प्रधानमंत्री ने आसाम में एनआरसी के बाद घुसपैठियों को पहचान कर बाहर करने का रास्ता मजबूत किया है। उन्होंने कहा कि २०१९ में भाजपा की नरेन्द्र मोदी की सरकार सत्ता में आने पर एक एक घुसपैठियों को बाहर निकाला जाएगा। 
अमित शाह ने कहा कि ग्वालियर की धरती वीरांगनाओं और वीरों की धरती है। यहां से आजादी की लडाई में लडी वीरांगना लक्ष्मीबाई का कर्मक्षेत्र है वहीं पंडित रामप्रसाद बिस्मिल ने भी यहां से आजादी की लडाई का सूत्रपात किया। इन लोगों ने अपने वारे में नहीं देश के बारे में सोचा और आज इतिहास में इनमा नाम अमिट है और आने वाली पीढियां भी इन्हें याद करती रहेंगी, यह लोग युवाओं के प्रेरणा स्त्रोत की तरह काम करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि १९७५ में इंदिरा गांधी ने आपात काल लगाया उसके बाद ७७ में हुए चुनाव में युवाओं ने एक बडा परिवर्तन कर लोकतंत्र को मजबूत करने का मेंडेट दिया। यदि इंदिरा जी फिर से १९७५ में चुनाव जीत जातीं तो लोकतंत्र की बात सोचना भी बेमानी होती।  उन्होंने कहा कि भाजपा और अन्य पार्टियों में इंतना अंतर है कि भाजपा में लोकतंत्र जिंदा है। अन्य पार्टियों में परिवार के सदस्य ही सर्वेसर्वा हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का ५५ वर्ष तक शासन रहा फिर दस साल शासन रहा। भाजपा की सरकार बनते ही १२ सैनिकों को पाकिस्तान ने जला दिया। देश में गुस्सा था। लेकिन केन्द्र में भाजपा सरकार थी और नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने सैनिकों के कमांडरों को बुलाया और दस दिन में सर्जीकल स्ट्राइक कर पाकिस्तान में घुसकर बदला लिया। राहुल बाबा इसके बारे में प्रधानमंत्री से पूछते रहे । सर्जीकल स्ट्रइक के बाद भारत का नाम भी अपने सैनिकों की मौत का बदला लेने वालों में अमेरिका इजराइल के बाद शुमार होगया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विदेशों में भी भारत का नाम ऊंचा किया है। वह जहां जाते हैं मोदी मोदी के नारे लगते हैं। दाहोद का उदाहरण है कि अमेरिका के ट्रंप के बाद भी उदघाटन भाषण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिया। 
इससे पूर्व युवा सम्मेलन को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने संबोधित किया। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, भाजपा के महामंत्री संगठन रामलाल, उपाध्यक्ष एवं मप्र के प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे,उपाध्यक्ष प्रभात झा, केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धमेन्द्र प्रधान, अनिल जैन , मप्र के मंत्री गण जयभान सिंह पवैया, नरोत्तम मिश्रा श्रीमती माया सिंह, नारायण सिंह कुशवाह, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, महापौर विवेक शेजवलकर, भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अभिलाष पांडे, प्रदेश उपाध्यक्ष विनय जैन, जिलाध्यक्ष विवेक चौहान, संयोजक विवेक शर्मा, जिला महामंत्री निर्दोष शर्मा आदि मौजूद थे। 

Latest Updates