Recent Posts

ताका-झांकी

नौकरी देने वाले बनिए नौकरी ढूंढ़ने वाले नहीं- डॉ. सूर्या राठौर

2018-09-26 16:07:56 49
Sandhya Desh

ग्वालियर। वर्तमान समय में कृषि का क्षेत्र संभावनाओं से भरा हुआ है। आज खाद्य प्रसंस्करण, खाद्यान इकाई सहित तमाम क्षेत्रों में अपना रोजगार छात्र छात्राएं शुरु करके खुद मालिक बन सकते हैं। आप सब अपने ज्ञान का उपयोग कर नौकरी देने वाले बनिए नौकरी ढूंढ़ने वाले नहीं।
राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय अंतर्गत कृषि महाविद्यालय में आयोजित कार्यशाला में यह बात भारतीय कृषि अनुसंधान प्रबंध अकादमी हैदराबाद की प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. सूर्या राठौर ने कही। यह कार्यशाला कृषि शिक्षा के क्षेत्र में नए आयाम एवं परिप्रेक्ष्य विषय पर आयोजित की जा रही थी।
कार्यशाला में डॉ. सूर्या राठौर ने कहा कि अब परंपरागत खेती पुरानी बात हो चुकी है। देश व विदेश में नवीन तकनीकों से कृषि क्षेत्र को लाभ का क्षेत्र बनाया जा रहा है। आज खेती के क्षेत्र में रोजगार की कई दिशाएं खुली हैं। कृषि शिक्षा पाने वाले छात्र छात्राएं खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में बेहतर सफलता पा सकते हैं। वे फसल को तैयार करने से लेकर फसल के व्यापार और कारोबार की विविध जानकारियां रखते हैं जिससे कृषि क्षेत्र में उद्यमी बनने वे अच्छा काम कर सकते हैं। उन्होंने केन्द्र व राज्य की उन योजनाओं के बारे में बताया जो कृषि उद्यमियों को प्रोत्साहित करती हैं। कार्यशाला में अधिष्ठाता डॉ. एम पी जैन ने कहा कि अब कृषि में रोजगार की कई धाराओं का विकास हुआ है। कृषि के छात्रों के लिए यह सुनहरा मौका है। इस अवसर पर एक प्रजेंटेशन दिया गया साथ ही छात्र छात्राओं से डॉ. राठौर ने सीधा संवाद करके उनकी जिज्ञासाओं का समाधान भी किया। 

Latest Updates