Recent Posts

ताका-झांकी

जिनालयों में उत्तम क्षमा धर्म की आराधना पूजा कर की साधना

2018-09-14 18:10:07 20
Sandhya Desh


ग्वालियर। दिगम्बर जैन समाज के 14 से 23 सितम्बर तक 10 दिवासिया पर्वाधिराज पर्यूषण महापर्व शुरू हुएं। जिसमे पर्यूषण महापर्व दौरान आज प्रथम दिन उत्तम क्षमा पर जैन मदिरों में भगवान जिनेन्द्र के अभिषेक, शांतिधार, नित्य पूजन कार्यक्रम आयोजित किये गये। 
जैन समाज के लोगों ने प्रातः मदिर पहुंचकर भगवान जिनेन्द्र का संगीतमय भक्तिभाव के साथ अभिषेक व शांतिधार की। वही दस धर्म की विधि विधान के साथ प्रथम उत्तम क्षमा धर्म की अष्ट्र द्रव्य से विशेष पूजा आर्चना कर भगवान को अर्घ समर्पित कर नमन किया। दोपहर में जैन समाज के लोगों ने ध्यान, साधना, तप, संयम की आराधना की और प्रतिक्रमण किया गया। जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन ने बताया कि पर्वाधिराज पर्यूषण महापर्व पर जैन मंदिरों में आकर्षक सजावट एवं विद्युत सज्जा व डेकोरेशन किया गया। 
मंदिरों में भगवान जिनेंद्र की प्रतिमा की वेदी के समाने दस धर्म की पूजन की विशेष रंगोली से सजावट की गई। 85 जैन मदिरों में सायंकाल जैन समाज के लोगों ने भगवान जिनेन्द्र की भव्य आरती उतारी। जैन समाज के विद्वान पंडित के द्वारा अनेकों जैन मदिरों में शास्त्र प्रवचन एवं महिलाओं, पुरूष और बच्चों के लिये रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हुए। 

Latest Updates