Recent Posts

ताका-झांकी

काकाजी का जीवन था राष्ट्रहितः आर्य

2018-08-19 18:05:10 95
Sandhya Desh


* स्वास्थ्य शिविर लगाकर किया स्व. शेजवलकर को याद
ग्वालियर । समाजसेवी, पूर्व महापौर एवं पूर्व सांसद स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर की स्मृति में रविवार को सिटी सेंटर स्थित गालव रेस्टहाउस में सफाई कामगारों के लिए विशेष रुप से आयोजित निशुल्क स्वास्थ्य शिविर में लगभग 750 सफाई कामगारों ने स्वास्थ्य परीक्षण कराया। स्वास्थ्य परीक्षण शिविर शहर के प्रसिद्व विभिन्न रोगों के विशेषज्ञ 45 चिकित्सकों की टीम द्वारा सफाई कामगारों की स्वास्थ्य परीक्षण कर उनकी आवश्यक जांचे निशुल्क कराई गई तथा सभी मरीजों को दवाएं भी वितरित की गईं।
सिटी सेंटर स्थित गालव रेस्टहाउस में आयोजित निशुल्क स्वास्थ्य शिविर के प्रारंभ में प्रदेश सरकार के नर्मदाघाटी विकास मंत्री लालसिंह आर्य, महापौर विवेक नारायण शेजवलकर, समाजसेवी यशवंत इंदापुरकर, सभापति राकेश माहौर, भाजपा जिलाध्यक्ष देवेश शर्मा, वरिष्ठ समाजसेवी वैद्य गजेन्द्र गडकर एवं उपस्थित नागरिकगणों द्वारा भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी बाजपेयी एवं सुप्रसिद्व समाजसेवी एवं पूर्व सांसद स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर के चित्रों पर माल्यार्पण कर दोनों महापुरुषों को नमन करते हुए श्रद्वासुमन अर्पित किए गए। स्वास्थ्य शिविर के प्रारंभ में नर्मदाघाटी विकास मंत्री लालसिंह आर्य ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी एवं काकाजी स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर जी का जीवन कई मायनों में एक जैसा ही था, उन्होंने हमेशा राष्ट्रहित, समाजहित एवं पीडितजन की सेवा के लिए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया। आज दोनों महापुरुष हमारे बीच नहीं है, लेकिन हमें संकल्प लेना चाहिए कि उन्हीं के बताए मार्ग पर चलकर हमेशा देश के विकास एवं पीडितों की सेवा के लिए हम जो भी कर सकते हैं, वह करेंगे और श्री अटल जी एवं काकाजी को सच्ची श्रद्वांजलि अर्पित करेगें।
महापौर विवेक नारायण शेजवलकर ने अटल जी एवं अपने पिता स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर के चरणों में नमन करते हुए कहा कि अटल जी का व्यक्तित्व ऐसा था कि हर कोई उनसे प्रभावित था। महापौर ने कहा कि पिताजी स्व. शेजवलकर ने हमेशा मुझे समाज में पीडितों की सेवा के लिए प्रेरित किया है तथा उन्ही के बताए मार्ग पर चलकर मैं समाज के लिए जो भी कर सकता हूं करने का प्रयास करता हूं। समाजसेवी यशवंत इंदापुरकर ने भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी एवं काकाजी स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कहा कि अटल जी के सानिध्य में मैने काफी समय कार्य किया है तथा काकाजी को कार्य करते हुए मैने काफी करीब से देखा है। दोनों महापुरुष हमेशा गरीबों के विकास एवं कल्याण के लिए जिए हैं तथा सामान्यजन की सेवा करना ही उनका ध्येय था।  तथा अटल जी ने हमेशा राष्ट्र के विकास को सर्वोपरि रखा तथा काकाजी ने अपना पूरा जीवन पीडितों की सेवा के लिए समर्पित कर दिया।
भाजपा जिलाध्यक्ष देवेश शर्मा ने कहा कि भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी देशभर में आमजनों के इतने प्रिय थे कि उनके निधन का समाचार सुनक पूरे देश में शोक का वातावरण है, देश भर के ग्रामां को एक दूसरे से जोडने के लिए प्रधानमंत्री सडक योजना के कारण ही आज देश के हजारों गांवों के लोगों का सम्पर्क दूर दूर तक सुगम हुआ है। साथ ही काकाजी के सेवाभावी स्वभाव के कारण ही शहर एवं जिले के गरीब एवं आम नागरिकगणों का उनसे आत्मीय लगाव था तथा स्व शेजवलकर भी पूरे दिल से लोगों की सेवा करते थे। 

इन चिकित्सकों ने किया मरीजों का परीक्षण

शिविर में स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ शैला सप्रे, डॉ. विनीता केतकर, डॉ. वृन्दा जोशी, डॉ. मोनिका जैन, डॉ. अंजलि रायजादा, डॉ. वीरा लोहिया, डॉ. पद्मा मजूमदार, डॉ. कीर्ति धोन्डे, ह्रदय एवं मधुमेह रोग विशेषज्ञ डॉ. एस.जी. इन्दापुरकर, डॉ. एस.डी. माखीजा, डॉ. संजय ढवले, डॉ. जे.एस. नामधारी, डॉ. शिल्पा बुचके, डॉ. वी.के. गोवील, डॉ. मृद्ल सक्सेना, डॉ. कुमार संजीव, डॉ. के.के. अग्रवाल, बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. ऊषा घाटगे, डॉ. अनंत केतकर, डॉ. सुहास धोन्डे, डॉ. के.एम. बेलापुरकर, सर्जन एवं हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. ए.वी. सप्रे, डॉ. प्रदीप त्रिवेदी, डॉ. पंकज जैन, डॉ. समीर गोखले, डॉ. आर.के.एस. धाकड़, डॉ. एस.पी. लोहिया, डॉ. मनीष बैरागी, मूत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. नीरजा गुप्ता, चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ. हरीश खुशीरामानी, डॉ. खोजेमा सैफी, दन्त रोग विशेषज्ञ डॉ. हरिमोहन पुरोहित, डॉ. दीपक माखीजानी, डॉ. एस.एस. राजपूत, डॉ. गौरवी त्रिवेदी, डॉ. एस.एस. मित्तल, डॉ. पारूल सिंह, नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. दिनेश मुजुमदार, डॉ. सुनीत बुचके, डॉ. एम.एस. सागर, डॉ. सुजाता बापट, न्यूरॉलोजिस्ट डॉ. अरविन्द्र गुप्ता, मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनील जोशी, नाक, कान, गला रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनील शर्मा, आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. विट्ल सरवईकर, डॉ. प्रदीप घोडके, डॉ. उदय मोघे, डॉ. महेश कुमार श्रीवास्तव, फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. तुषार घोड़के, होम्योपैथी डॉ. सुनील मेवाफरोश आदि चिकित्सकों ने मरीजों का परीक्षण कर दवाएं वितरित कीं।
 

Latest Updates