Recent Posts

ताका-झांकी

माया का मायाजाल....

2018-08-06 09:04:38 364
Sandhya Desh


आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com
वाह! कहते है जहां माया का जाल होता है वहां जनता के फंसने का पूरा चांस होता है। बस कुछ ऐसे ही मायाजाल में पूर्व की जनता है। उनको मायाजाल में अपनापन और विकास के सपने दिखते है। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com
हम बात कर रहे है ग्वालियर की पूर्व विधानसभा की। यहां जनता ऐसे मायाजाल में फंस चुकी है कि विकल्प पर मोहर लगायेगी कहना मुश्किल है। वैसे भी माया के अपनेपन, घर-घर पकड़ और विकास पर बात प्रमुख अस्त्र है। मायाजाल से जनता को बाहर निकालने के लिए घर के ही कुछ लोग काम कर रहे है। परंतु यह मायाजाल है घर वालों को समझना चाहिये और खुद को परखना चाहिये कि वह जुबानी जहर से कैसे मायाजाल काट पायेंगे, क्योंकि यहां तो प्यार का मायाजाल है। सिर्फ अब माया का ही राज है। इसे काटना तेड़ी खीर है। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com फिर चाहे आप जहर उगलो और चाहे उन पर हवाई नेता का तंज कसो जनता को कुछ फर्क नहीं पड़ने वाला। अब तो वैसे भी जनता पीतांबर रंग को पसंद करने लगी है। इसलिए हम तो कहेंगे मायाजाल तो मायाजाल है इससे काट पाना आपके बस में नहीं। मुंह बंद रखने में भलाई है बापू जी नहीं तो ना घर के रहोगे और ना...! अरे बाबा ये मायाजाल है.... आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com

Latest Updates