Recent Posts

ताका-झांकी

यज्ञ करने से सुख समृद्धि बढ़ती है- बृजेश शास्त्री

2018-07-22 16:29:17 134
Sandhya Desh

ग्वालियर । खेड़ापति हनुमान मंदिर पर 19 जुलाई से चल रही श्रीमद् भागवत कथा के आयोजन को लेकर कथा व्यास बृजेश पांडे शास्त्री ने पत्रकारों को बताया कि ज्ञान- यज्ञ और हवन- पूजन कराने से हमेशा देवी देवता प्रसन्न हुए हैं और जहां इस तरह के कार्य होते हैं वहां हमेशा सुख समृद्धि ही आती है।
 श्री शास्त्री ने  बताया कि 18 जुलाई  को जब से श्रीमद् भागवत कथा के लिए पंडाल लगाया गया है तभी से आज दिनांक तक नियमित ग्वालियर अंचल में बारिश हो रही है जो ग्वालियर अंचल के लिए सुख समृद्धि प्रदान करेगी कथा  व्यास श्री शास्त्री ने कहा कि इस वर्ष गुरु पूर्णिमा के अवसर पर बड़ा चंद्रग्रहण पढ़ रहा है जो अनेकों तरह की आपदा विपदाओं का संकेत है कहीं बाढ़ आएंगी, तो कहीं अतिवृष्टि या भूकंप आने की संभावना है ऐसे में भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिये  ग्वालियर जो गालव ऋषि की तपोभूमि है यहां शिव के 11 अवतार रूद्र रूप खेड़ापति हनुमान जी महाराज की शरण में जाना ही उचित समझा इसलिए यहां श्रीमद् भागवत कथा पुराण का पाठ किया जा रहा है उनकी ही कृपा से ग्वालियर अंचल जो विगत वर्षों से सूखे की मार झेल रहा था आज लगातार चार दिनों से बारिश होने के कारण सुख- समृद्धि और खुशहाली क्षेत्र में आ रही है जब वर्षा पर्याप्त होगी तो इससे किसानों के चेहरे खेलेंगे और पर्याप्त अन्य भी पैदा होगा उन्होंने बताया कि आनंद रामायण में भी उल्लेख है कि यज्ञ करने से हमेशा वर्षा हुई है जिसका आज हमें साक्षात प्रमाण भी मिल रहा है प्रेस वार्ता के दौरान परीक्षित सियाराम शमार्, सोमनाथ शर्मा ,महंत अनूप दास उपस्थित थे।
 नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की 
 ग्वालियर 22 जुलाई। खेड़ापति हनुमान मंदिर पर श्रीमद् भागवत कथा आयोजन के दौरान ऐसा लग रहा था मानो खेड़ापति मंदिर प्रांगण  मैं स्वयं कृष्ण भगवान ने अवतार लेकर रूद्र रूप हनुमान जी महाराज से भेंट की हो यह दृश्य देख सभी भक्तगण उत्साह से फूले नहीं समाएजा रहे थे।
 श्रीमद् भागवत कथा को पंडित बृजेश पांडे शास्त्री द्वारा प्रहलाद चरित्र के बाद आज की कथा को प्रारंभ करते हुए समुद्र मंथन को विस्तार से सुनाया उन्होंने कहा के जब समुद्र मंथन में विश्व का घड़ा निकला तो सभी देवी-देवता और राक्षस तक विष ग्रहण करने को तैयार नहीं थे लेकिन शिवजी मैं ही वह महान शक्ति थी जो विश् को धारण कर सकते थे और विष धारण कर नीलकंठ कहलाए श्री व्यास जी ने राम जन्म और कृष्ण जन्म की कथा को भी सुनाया कृष्ण जन्म के अवसर पर पंडाल में उपस्थित सभी भक्तजन नाचने गाने लगे नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की यह उत्साह भरा माहौल इतना आनंदित था कि हर व्यक्ति और महिला कृष्ण जन्म के आनंद में विभोर होकर खेड़ापति हनुमान के सामने बधाइयां गा रही थी पटाखे चल रहे थे बाजे बज रहे थे शंख और घंटियों की आवाज खेड़ापति प्रांगण में गूंज रही थी ऐसा लग रहा था कि स्वयं रुद्र अवतार खेड़ापति हनुमान और नंद के लाला कृष्ण का मिलन हो रहा हो आज की महाआरती परीक्षित सियाराम बबीता शर्मा के साथ सोमनाथ शर्मा माखनलाल शर्मा विक्रम ठाकुर राधा कृष्ण शर्मा सुशील अग्रवाल अजय अग्रवाल विक्की गोपी रामकुमार गुरु चरण सहित सैकड़ों भक्तगणों ने आरती की कल 23 जुलाई को कल भगवान श्री कृष्ण की लीलाएं माखन चोरी व गोवर्धन पूजा का पाठ होगा।

Latest Updates