Recent Posts

ताका-झांकी

विद्यार्थी लक्ष्य प्राप्ति के लिये मेहनत करें .- माया सिंह

2018-07-11 18:05:20 80
Sandhya Desh

शासकीय एसएलपी कॉलेज में वार्षिकोत्सव का आयोजन 
ग्वालियर । विद्यार्थी अपनी रूचि के अनुसार लक्ष्य निर्धारित करें। अपनी क्षमताओं का आंकलन करें। किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति के लिये जब हम पूरी मेहनत व लगन से प्रयास करते हैं तभी सफलता प्राप्त करते हैं। इसलिए विद्यार्थी लक्ष्य प्राप्ति के लिये निरंतर प्रयास करते रहें और आगे बढ़ें। यह बात प्रदेश की नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने महाविद्यालय में विद्यार्थियों से कही। 
नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह बुधवार को शासकीय श्यामलाल पाण्डवीय महाविद्यालय के वार्षिकोत्सव एवं पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुईं। उन्होंने महाविद्यालय के छात्र.छात्राओं को प्रेरित किया और वर्ष भर अकादमिक तथा अन्य गतिविधियों में अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्र.छात्राओं को पुरस्कार वितरित किए। उन्होंने महाविद्यालय में आधारभूत विकास के लिये विधायक निधि से 15 लाख रूपए देने की घोषणा भी की। 
इस अवसर पर विधायक  भारत सिंह कुशवाह अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा डॉ कौशल जनभागीदारी सदस्य  राकेश शर्मा, महाविद्यालय की प्राचार्य श्रीमती दीप आजाद,  अभिमन्यु सेंगर,  कमल माखीजानी, महाविद्यालय के प्राध्यापकगण, छात्र संघ पदाधिकारी सहित बड़ी संख्या में छात्र.छात्राएं और उनके परिवारजन उपस्थित थे।  माया सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि श्यामलाल पाण्डवीय का स्वाधीनता आंदोलन में महत्वपूर्ण स्थान रहा। उनके नाम पर इस महाविद्यालय का नाम रखा गया है। वे युवाओं को प्रेरणा देने वाले व्यक्ति हैं। उन्होंने कहा विद्यार्थियों को न केवल डिग्री हासिल करना हैए बल्कि शिक्षा के महत्व को समझना है। विद्यार्थियों को शिक्षित होकर परिवारए समाज व देश के विकास में योगदान देना है। 
श्रीमती माया सिंह ने कहा विद्यार्थी शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन करने के साथ.साथ खेलकूद व अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों में भी अच्छा स्थान प्राप्त करें। सभी विद्यार्थी अपनी अभिरूचि के अनुसार विषयों का चयन करते हुए निरंतर आगे बढ़ने के लिये प्रयास करें। उन्होंने कहा कि यदि हमें एक बार प्रयास करने पर सफलता नहीं मिलतीए तो हमें रूकना नहीं है बल्कि और अधिक मेहनत करना है। उन्होंने कहा विद्यार्थी शोध के क्षेत्र में भी रूचि लें।  श्रीमती माया सिंह ने कहा कि विद्यार्थियों को डॉण् एपीजे अब्दुल कलाम और स्वामी विवेकानंद के आदर्शों को अपनाना चाहिए। विद्यार्थी उनकी पुस्तकें पढ़ें। उन्होंने यह भी कहा कि आदर्श विद्यार्थी के जीवन में शिक्षक की अहम भूमिका होती है। शिक्षक अपने ज्ञान से विद्यार्थियों को जीवन की राह दिखाते हैं। इसके साथ ही माता.पिता भी बच्चों की सफलता में विशेष स्थान रखते हैं। माता.पिता को बच्चों की रूचि में सहयोग देना चाहिए। 

Latest Updates