Recent Posts

ताका-झांकी

भाजपा के इन सांसदों को रास नहीं आ रही दिल्ली, लड़ेंगे विधानसभा

2018-07-10 09:10:15 491
Sandhya Desh


आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com
2014 का लोकसभा चुनाव जीतने वाले भाजपा के कई सांसदों को दिल्ली की राजनीति अब रास नहीं आ रही है। ऐसे में बहुत से सांसद आगामी विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाने की तैयारी करते नजर आ रहे हैं। क्योंकि उनको उम्मीद है कि अगर प्रदेश में पार्टी चौथी बार सरकार बनाने में कामयाब होती है, तो उनको सरकार में मंत्री पद से नवाजा जा सकता है। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com
प्रदेश भाजपा के कई सांसद जो 2014 में लोकसभा चुनाव जीतकर केंद्र की मोदी सरकार का हिस्सा बने थे, उन्हें शायद अब दिल्ली की राजनीति रास नहीं आ रही है। क्योंकि राष्ट्रीय राजनीति का हिस्सा बनते ही नेताओं का कद बौना हो गया और यह खुद को प्रदेश की राजनीती में उपेक्षित महसूस करने लगे। ऐसे में ये नेता एक बार फिर विधानसभा का चुनाव लड़कर प्रदेश की राजनीति में अपनी पकड़ बनाने की कोशिश में जुटे है। साथ ही अगर ये चुनाव जीतते है और प्रदेश में भाजपा की चौथी बार सरकार बनती है, तो फिर ये सभी मंत्री पद की दावेदारी ठोंकेगे। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com ऐसे सांसदों में सबसे पहला नाम आता है राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राज्यसभा सांसद प्रभात झा का। इनके बाद पूर्व प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार चौहान, अनूप मिश्रा, फग्गन सिंह कुलस्ते और भागीरथ प्रसाद ये सभी विधानसभा लड़ने के इच्छुक है। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com
दरअसल, दिल्ली की गुमनामी भरी राजनीति छोडकर मप्र की राजनीति में सियासत चमकाने का सपना देख रहे इन सांसदों की दिलचस्पी की सबसे बडी वजह ये बतायी जा रही है कि सांसद बनने के बाद प्रदेश की राजनीति में लौटे कई चेहरों को भाजपा राज में बड़े बड़े मंत्री पद से नवाजा गया हैं। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com जिनमें मौजूदा मंत्री भूपेन्द्र सिंह, माया सिंह, गौरीशंकर बिसेन और यशोधरा राजे सिंधिया के नाम शामिल है। गौरतलब है कि ये नेता वर्तमान में अपने आप को पार्टी में उपेक्षित महसूस कर रहे है। जिसके चलते वे एक बार फिर विधानसभा चुनाव लड़कर अपनी सक्रियता बढ़ाकर प्रदेश की राजनीति में सेट होने की कवायद में जुटे हैं। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com

Latest Updates