Recent Posts

ताका-झांकी

जिसका मजाक उड़ाया, उसी दिव्यांग ने इंग्लिश चैनल पार कर रिकॉर्ड बनाया

2018-06-26 08:49:46 189
Sandhya Desh


आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com
ग्वालियर। 2017 में मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह सरकार के खेल विभाग के अफसरों के सामने 75 प्रतिशत तक दिव्यांग सत्येन्द्र सिंह लोहिया खड़ा था। वो 34 किलोमीटर लम्बा इंग्लिश चैनल पार करना चाहता था। वो चाहता था कि मप्र सरकार उसकी मदद करे, लेकिन अधिकारियों ने ना केवल इससे इंकार किया बल्कि उसका मजाक भी उड़ाया। चुनौती दी कि पहले भोपाल का तालाब तो पार करके दिखाओ। आज उसी दिव्यांग दिव्यांग सत्येन्द्र सिंह लोहिया ने 12 घंटे 26 मिनट में 34 किलोमीटर लंबा इंग्लिश चैनल पार कर रिकॉर्ड बनाया है। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com
इंटरनेशनल पैरा स्विमर सत्येंद्र ने रिले की तर्ज पर हुई इस प्रतियोगिता में उनकी टीम में भारत के तीन अन्य तैराक थे। महाराष्ट्र के चेतन राउत, बंगाल के रीमो शाह और राजस्थान के जगदीश चन्द्र के रिले की तर्ज पर तैराकी कर इंग्लिश चैनल पार किया। गौरतलब है कि सत्येन्द्र पहले ऐसे भारतीय हैं जिन्होंने 75 फीसदी दिव्यांग होने के बाद भी ये उपलब्धि पाई है। सत्येन्द्र और उनके साथी इंग्लिश चैनल पार करने वाले एशिया के पहले दिव्यांग बन गए हैं। विक्रम अवॉर्डी सत्येन्द्र अब तक कई तैराकी स्पर्धाओं में 16 मैडल जीत चुके हैं। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com 2017 में पैरा स्वीमर सत्येन्द्र ने अरब सागर में 36 किलोमीटर तैरकर इतिहास रचा था। उन्होंने 5 घंटे 42 मिनट में इस दूरी को पार किया था। कलकत्ता में 2009 में सत्येन्द्र ने पहला मैडल हासिल किया था। वह भारत के पहले ऐसे दिव्यांग है जो 75 फीसदी प्रभावित होने के बाद भी 36 किमी की तैराकी कम समय में पूरी कर पाए। टीम के साथ तैराकी के कोच और दिव्यांग तैराकों के लिए अंतरराष्ट्रीय मंच तैयार करने वाले इंटर नेशनल स्विमिंग ग्वालियर निवासी कोच वीके भी दबास भी गए हैं। आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com

लोग ताने मारते थे
सत्येन्द्र बताते हैं कि उन्हें बचपन से ही ये ताना मिलता था कि ये तो विकलांग है। ये जीवन में कुछ नहीं कर सकता। परिवार के लिए ये बोझ है। इस ताने को सुनकर उनमें संघर्ष करने की ताकत पनपी। मैंने तैराकी को अपना पैशन बनाया और 2009 में कलकत्ता में पहला मैडल जीता। उसके बाद से अब तक मैं 19 मैडल नेशनल और 4 मैडल इंटरनेशनल कांपिटीशन में जीत चुका हूं। 2016 के पैरा ओलंपिक में क्वालीफाई राउंड के लिए कनाडा भी गया लेकिन वहां किन्हीं कारणों वश क्वालीफाई नहीं कर पाया।आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com

सरकारी लापरवाही के कारण हुए थे दिव्यांग
सत्येंद्र बचपन से ही दिव्यांग हैं। जब वह 15 दिन के थे उन्होंने ग्लूकोज ड्रिप के रिएक्शन के चलते अपने पैर खो दिेए। बचपन से ही तैराकी का शौक था, लेकिन दिव्यांगता के चलते शुरुआती दौर में उन्हें खासी समस्याओं का सामना करना पड़ा। सत्येंद्र ने दिव्यांगता को अपनी कमजोरी नहीं बनने दिया और गांव की ही बैसली नदी में तैराकी करने लगे। जिसके बाद तैराकी उनका पैशन बन गया और आज उसी तैराकी ने उन्हें यह मुकाम दिलाया।आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com

सीएम शिवराज ने की तारीफ
सीएम शिवराज ने ट्वीट करके सत्येन्द्र सिंह की हौसला अफजाई की है। उन्होंने लिखा, "हमारी दृढ़ इच्छाशक्ति से ज्यादा ऊंचे सपने कभी भी नहीं हो सकते हैं। मध्य प्रदेश के सपूत सतेन्द्र सिंह ने ये साबित कर दिया है। उन्होंने 4 सदस्यीय भारतीय पैरा-स्विमिंग टीम के एक हिस्से के रूप में इंग्लिश चैनल को तैरकर पार कर लिया है। उन्हें और उनकी टीम को उनकी असाधारण उपलब्धि के लिए सबसे हार्दिक बधाई।"
आप पढ़ रहे हैं www.sandhyadesh.com

Latest Updates