Recent Posts

ताका-झांकी

कला अजर अमर:डोना गांगुली

2018-06-22 21:10:34 106
Sandhya Desh

विनय अग्रवाल
ग्वालियर। कला की कोई निश्चित उम्र नहीं होती,कला अजर अमर है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है कला और कलाकार दोनों ही परिपक्व हो जाते है। उक्त उद्गार विश्वविख्यात ओडिसी नृत्यांगना एवं भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली की पत्नी डोना गांगुली ने व्यक्त किये।
बीती रात उन्होंने इस प्रतिनिधि से चर्चा में कहा कि भारतीय संगीत,कला और संंस्कृति का परचम दुनिया भर में है और कला की कोई उम्र नहीं है। यह हमेशा हर व्यक्ति के दिलो दिमाग में रहती है,बस जरूरत इसे जागरूक करने की है। डोना गांगुली ने कहा कि वह देश भर में कलाकारों को यह दिखाने के लिये स्वयं निकली है और स्टेज प्रोग्राम भी कर रही है। उन्होंने कहा कि उन्होंने इस  दीक्षा मजंरी नामक संस्था भी बनाई है और नृत्य के क्षेत्र में बच्चों को पारंगत कर रही है।
डोना गांगुली ने ग्वालियर में अपनी प्रस्तुति को यादगार बताया उन्होंने कहा कि उनके  पति यहां मैच खेलने आ चुके है,लेकि न वह अब आई है। डोना ने ग्वालियर की गर्मी को बेहद तीखी बताया उन्होंने कहा कि वह गर्मी के कारण स्टेज प्रोग्राम  वाले दिन ग्वालियर इसलिये नहीं आयी की क हीं तबियत न खराब हो जाये,लेकिेन आज २२ जून को वह ग्वालियर पैलेस, फोर्ट नगर निगम म्यूजियम ,सूर्य मंदिर आदि स्थानों पर गई। 
डोना आज सायं फ्लाईट से दिल्ली के लिये रवाना हो गई वहां से वह देर सायं कोलकात्ता पहुंचेंगी।

Latest Updates