असंगठित श्रमिकों के लिए बहुत बड़ा अधिकार पत्र है पंजीयन कार्ड : पवैया

2018-06-13 20:18:38 93
Sandhya Desh


ग्वालियर । असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए आज का दिन खुशियों के नए पैगाम लेकर आया है। मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना के तहत आज श्रमिकों के हाथों में जो पंजीयन कार्ड सौंपे गए है, वह कोई साधारण कागज भर नहीं, अपितु बहुत बड़े अधिकार पत्र हैं। यह बात उच्च शिक्षा एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कही। पवैया मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल) योजना के तहत ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 7 स्थानों पर आयोजित हुए हितलाभ वितरण कार्यक्रमों में मौजूद असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को संबोधित कर रहे थे। शब्दप्रताप आश्रम क्षेत्र में आयोजित हुए कार्यक्रम की अध्यक्षता महापौर विवेक नारायण शेजवलकर ने की। 
उच्च शिक्षा मंत्री पवैया और महापौर शेजवलकर ने यहाँ शब्दप्रताप आश्रम क्षेत्र में आयोजित हुए कार्यक्रम में असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को संबल योजना के पंजीयन कार्ड सौंपे। साथ ही लाड़ली लक्ष्मी योजना, मातृ वंदना योजना, कौशल उन्नयन प्रशिक्षण इत्यादि योजना के हितग्राहियों को हितलाभ वितरित किए। ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत नगर निगम के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों पर आयोजित हुए कार्यक्रमों के माध्यम से कुल मिलाकर 4 हजार 403 हितग्राहियों को हितलाभ वितरित किए गए। इसमें संबल योजना के तहत असंगठित श्रमिकों को दिए गए 3 हजार 318 पंजीयन प्रमाण-पत्र और लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत दिए गए 50 प्रमाण-पत्र शामिल हैं। लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत कन्या एवं उनकी माता को एक लाख 18 हजार रूपए का प्रमाण-पत्र दिया गया है। पवैया ने दो असंगठित श्रमिक परिवारों के कमाऊ सदस्य की मृत्यु पर 6 लाख रूपए की अनुग्रह राशि के चैक भी प्रदान किए। इस अवसर पर उन्होंने विकास कार्यों का लोकार्पण भी किया। 
मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना के हितलाभ वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए   पवैया ने कहा कि पंजीकृत असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को अब मात्र 200 रूपए मासिक बिजली बिल देना होगा। श्रमिक परिवारों की गर्भवती महिलाओं को प्रसूति सहायता के रूप में सरकार कुल मिलाकर 16 हजार रूपए की राशि पोषण आहार के लिये देगी। साथ ही श्रमिक परिवारों के युवाओं को स्वरोजगार के लिए ऋण-अनुदान मुहैया कराया जायेगा। सरकार साइकिल रिक्शा, ई-रिक्शा और हाथ ठेला चलाने वालों को ई-लोडर मालिक बनायेगी। इतना ही नहीं श्रमिक परिवार के घर के मुखिया की सामान्य मृत्यु पर 2 लाख तथा दुर्घटना में मृत्यु होने पर 4 लाख रूपए की अनुग्रह सहायता सरकार देगी। इसी तरह नि:शुल्कु इलाज की सुविधा भी श्रमिक परिवारों को मुहैया कराई जायेगी। श्रमिक परिवारों के बच्चों की पहली कक्षा से लेकर पीएचडी तक की फीस भी सरकार भरेगी। साथ ही नि:शुल्क कोचिंग सुविधा भी मुहैया कराई जायेंगीं। पवैया ने कहा पिछले साढ़े 14 साल के दौरान मध्यप्रदेश सरकार ने गरीबों की जिंदगी में सुखद बदलाव के लिये क्रांतिकारी कदम उठाए हैं। इसी कड़ी में बेटी के जन्म से लेकर उसकी पढ़ाई और विवाह तक का इंतजाम सरकार ने किया है। उन्होंने कहा ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में पेयजल समस्या के स्थायी समाधान के लिये 17 बडी टंकियां तथा पेयजल लाईन बिछाई जा रही हैं। 
महापौर विवेक नारायण शेजवलकर ने शब्दप्रताप आश्रम में आयोजित हुए कार्यक्रम में कहा कि असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को जल्द ही एटीएम कार्ड की तर्ज पर संबल योजना का कार्ड मिलेगा। जिसके आधार पर वे तमाम सेवाएं प्राप्त कर सकेंगे। उन्होंने कहा शहर की पेयजल समस्या के स्थायी समाधान के लिये टंकियों का सर्किट तैयार किया जा रहा है, जिससे बिना टिल्लूपम्प लगाए घरों में पानी पहुँच सकेगा। पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लक्ष्मीपुरम में इसकी ट्रायल शुरू हो चुकी है। जल्द ही आनंदनगर में भी यह व्यवस्था लागू हो जायेगी। 

यहाँ हुए कार्यक्रम और बटे हितलाभ 
उच्च शिक्षा मंत्री पवैया ने बुधवार को प्रात:काल शब्दप्रताप आश्रम क्षेत्र में वार्ड-2, 3, 33 व 36 के असंगठित श्रमिकों को हितलाभ वितरण कराया। इसके बाद नौमहला (वार्ड-6, 9 व 10), बहोड़ापुर (वार्ड-1, 4 व 5) तथा दोपहर 12 बजे लूटपुरा (वार्ड-7, 8 व 15) में पहुँचकर श्रमिकों को पंजीयन कार्ड तथा अन्य योजनाओं के हितग्राहियों को हितलाभ वितरित किया। इसी तरह बुधवार के सायंकाल तानसेननगर शिविर में वार्ड-11, 13 व 14 तथा कांचमिल शिविर में वार्ड-12, 16 व 17 तथा पड़ाव क्षेत्र में आयोजित हुए शिविर में वार्ड-31 व 32 के श्रमिकों को मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना के पंजीयन कार्ड तथा अन्य हितलाभ वितरित किए। 

अनुग्रह राशि मिली तो छलक आईं आंखें 
किरार भवन न्यू रेलवे कॉलोनी निवासी पारीक्षित सिंह और मेवाती मोहल्ला निवासी  अख्तर खान को जब उच्च शिक्षा मंत्री पवैया ने अनुग्रह राशि के चैक सौंपे तो इन दोनों की आंखें छलक आईं। पारीक्षित सिंह की पत्नी श्रीमती कमलेश राजपूत और अख्तर खान के कमाऊ सपूत श्री जीतान खान का निधन हो गया था। मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना के तहत पारीक्षित को 2 लाख रूपए और अख्तर खान को 4 लाख रूपए का चैक मिला है। साथ ही अंत्येष्टि सहायता के रूप में भी 5 – 5 हजार रूपए की राशि दी गई है। 

जगह – जगह हुआ आत्मीय स्वागत 
असंगठित श्रमिकों को सौगातें बांटने आए उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया का स्थानीय श्रमिकों एवं युवाओं ने जगह-जगह आत्मीय स्वागत किया गया। साथ ही प्रदेश सरकार के जयकारे भी लगाए गए। 

पवैया ने इन कार्यों का किया लोकार्पण 
उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कांचमील पार्क में आयोजित हुए कार्यक्रम में एक करोड़ 80 लाख रूपए लागत के कार्यों का लोकार्पण किया। इनमें एक करोड़ 60 लाख की लागत से सैय्यद बाबा दरगाह से कांचमिल तक बनी सीसी रोड़, 8 लाख 28 हजार रूपए लागत से आरामिल रोड़ के किनारे-किनारे की गई इंटरलॉकिंग, 8 लाख रूपए की लागत से कांचमिल की विभिन्न गलियों में नाली निर्माण और 3 लाख रूपए की लागत से रामजानकी मंदिर के समीप सामुदायिक भवन का निर्माण शामिल है। 

Latest Updates