दस्तक अभियान का प्रथम चरण 14 जून से 31 जुलाई तक

2018-06-12 18:25:12 61
Sandhya Desh


* बच्चों की सेहत की बेहतरी के लिये घर-घर दी जायेगी दस्तक 
ग्वालियर । दस्तक अभियान का प्रथम चरण 14 जून से 31 जुलाई तक आयोजित होगा। इस अभियान के तहत घर-घर दस्तक देकर पाँच वर्ष से कम आयु के बच्चों को स्वास्थ्य एवं पोषण सेवाऐं मुहैया कराई जायेंगीं। साथ ही इस उम्र के बच्चों को होने वाली बीमारियों की पहचान एवं उनका निदान किया जायेगा। कलेक्टर अशोक कुमार वर्मा ने इस अभियान को सुव्यवस्थित ढंग से आयोजित करने के निर्देश दिए हैं। 
बच्चों की सेहत की बेहतरी और बाल मृत्यु दर को कम करने के मकसद से  आयोजित हो रहे अभियान के तहत लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा एकीकृत बाल विकास सेवाएं के संयुक्त दल घर-घर दस्तक देंगे। इन दलों में खासतौर पर एएनएम, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता शामिल रहेंगीं। जिले में इस अभियान से लगभग दो लाख बच्चे लाभान्वित होंगे। अभियान को सुव्यवस्थित ढंग से अंजाम देने के लिये मैदानी अमले को प्रशिक्षित किया जा चुका है। 
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मृदुल सक्सेना ने बताया कि दस्तक अभियान के तहत बाल्यकालीन बीमारियों का समुदाय स्तर पर त्वरित निदान किया जायेगा। खासतौर पर निमोनिया जैसी बीमारियों पर फोकस रहेगा। अभियान के दौरान ओआरएस एवं जिंक के उपयोग संबंधी समझाइश दी जायेगी। कुपोषित बच्चों की पहचान, रेफरल एवं प्रबंधन का काम भी प्रमुखता से होगा। बच्चों में एनीमिया की स्क्रीनिंग व प्रबंधन किया जायेगा। इसके अलावा बच्चों में होने वाली जन्मजात विकृतियों की पहचान की जायेगी। नौ माह से पाँच वर्ष तक के बच्चों को विटामिन-ए की खुराक दी जायेगी। टीकाकरण से वंचित रह गए बच्चों को चिन्हित कर टीकाकरण किया जायेगा। बाल आहार पूर्ति के उपाय बताए जायेंगे। एसएनसीयू एवं एनआरसी से छुट्टी प्राप्त बच्चों में बीमारी की स्क्रीनिंग एवं फोलोअप का काम भी इस दौरान होगा। 
दस्तक अभियान के अंतर्गत आंगनबाड़ी व आशा कार्यकर्ताओ के सहयोग से सर्वेक्षण कर जन्म से पाँच वर्ष तक के बच्चो की नामवार सूची तैयार कर उसे ऑनलाइन पोर्टल पर अपलोड किया जायेगा।  
 

Latest Updates