नए एसपी साहब भी आए मैदान में

2018-05-25 16:56:59 533
Sandhya Desh


मुरैना । कलक्टर भरत यादव के बाद अब पुलिस अधीक्षक अमित सांघी भी जिले में अपनी पारी शुरू कर चुके हैं ।चार्ज लेने के तीन दिन बाद आज उन्होंने पत्रकारों से मुलाकात करके अपनी कुछ प्राथमिकताएँ बताई ।
राज्य पुलिस सेवा से पदोन्नति पाकर भारतीय पुलिस सेवा में आये 2010 बैच के आईपीएस अफसर अमित सांघी बालाघाट से मुरैना आए हैं ।आईपीएस बनने का बाद भिंड में उन्होंने प्रोवेशन पीरियड और उसके बाद 2010 में लगभग डेढ़ साल तक वे ग्वालियर में एडिशनल एस पी रहे हैं इंदौर  छिंदबाड़ा कटनी दन्तेबाड़ा में सी एस पी से लेकर एडीशनल एस पी तक रहने के अलाबा लगभग पौने दो  साल बालाघाट एस पी रहने के बाद उन्हें चम्बल भेजा गया है ।
पत्रकारों से बातचीत में सांघी ने कहा कि तीन दिन में उन्होंने इस जिले के कुछ थानों को जांचा परखा तो उन्हें पता चला कि थानों में गम्भीर अपराधों की पेंडेंसी बहुत ज्यादा है महीनों से मामलों की जांच ही चल रही है न मुल्जिमों की गिरफ्तारी है न चालान ही  न्यायालय में प्रस्तुत हो रहे हैं उन्होंने इसे तत्काल ठीक करने को कहा है ताकि थानों में गम्भीर अपराधों की विबेचना गति पकड़ सके ।  2 अप्रेल जैसी घटना का मुख्य कारण इंटेलिजेन्स की कमी था इसको ठीक करके स्थानीय गुप्तचर सेवा को  चुस्त दुरुस्त बनाया जा रहा है ताकि समय पर सटीक सूचनाएं मिल सकें  लोगों से मिलने जुलने उनसे इनपुट लेने की नीति कड़ाई से लागू की जा रही है । शहर के ट्रैफिक को सुधारने के लिए सबसे पहले ठोस रणनीति बनाई जा रही है ।जब यह नीति बन जाएगी तभी इसे लागू किया जाया ताकि वह स्थायी रूप से चल सके आज शुरू करके कल खत्म कर देने बाली कोई नीति वे जिले में लागू नही करना चाहते हैं।कलक्टर की तरह हर समय आमआदमी को उप्लब्ध रहने का कोई दावा पुलिस अधीक्षक ने नही किया । 
पुलिस के सामने बैसे भी कोई बड़ी चुनौतियां नही है अनसुलझे  मामलों में एक मात्र मामला लक्ष्मी का है जिसे पुलिस अभी तक नही खोज सकी है एस पी ने दावा  कि उन्होंने आते ही इस मामले की समीक्षा की है घटना स्थल देखा है जो पुलिस इंस्पेक्टर अब तक इसकी जांच पड़ताल कर रहे थे उनका ट्रांसफर हो गया है फिर भी उम्मीद है कि लक्ष्मी की गुत्थी जल्द सुलझ जाएगी । इसके अलाबा मुरेना पुलिस के सामने कोई बड़ी चुनौती नही है पिछले काफी सालों से चम्बल की नौकरी डकैत न होने के चलते  सुख शांति से कटतीहै आम तौर पर अधिकारी शाम को घर मे बीबी बच्चों के साथ समय बिता लेते हैं पहले ऐसा नही होता था ।

Latest Updates