विकास कार्यों की सफलता के लिए आम जन का सहयोग जरूरी : बिसेन

2018-05-17 20:01:40 61
Sandhya Desh


* कृषि मंत्री ने किया विकास कार्यों का शिलान्यास एवं लोकार्पण 
ग्वालियर । सरकार द्वारा लिए गए निर्णय तभी सफल होते हैं जब उनमें आम जन की भागीदारी हो। विकास कार्यों की सफलता के लिये जनता का सहयोग होना आवश्यक है। किसी भी समस्या के निराकरण के लिये सभी को मिलकर प्रयास करना है। यह बात मध्यप्रदेश के किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री तथा ग्वालियर जिले के प्रभारी मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कही। बिसेन गुरूवार को विकास यात्रा के तहत भितरवार विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न ग्रामों में आयोजित कार्यक्रमों को संबोधित कर रहे थे। मंत्री बिसेन ने विकास कार्यों का शिलान्यास, लोकार्पण व निरीक्षण किया। इसके साथ ही जन समस्या निवारण शिविर का शुभारंभ भी किया। 

प्रदेशभर में विकास यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। इसके तहत जनप्रतिनिधि क्षेत्र में भ्रमण करके विकास कार्यों की प्रगति व शासन की योजनाओं की जनता तक पहुँच आदि का अवलोकन कर रहे हैं। इसी क्रम में मंत्री बिसेन ग्वालियर जिले के तीन दिवसीय प्रवास पर हैं। ग्वालियर प्रवास के दूसरे दिन मंत्री बिसेन भितरवार विधानसभा क्षेत्र के भ्रमण के लिये पहुँचे। इस अवसर पर ग्वालियर ग्रामीण विधायक भारत सिंह कुशवाह, भाजपा ग्रामीण जिला अध्यक्ष वीरेन्द्र जैन सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, प्रशासनिक अधिकारी एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे। मंत्री बिसेन ने घाटीगाँव जनपद पंचायत के बरई ग्राम में गरौली की तलैया में श्रमदान किया। उन्होंने कहा प्रकृति में असंतुलन के कारण पानी की कमी आ रही है। पेड़ों के काटने से पहाड़ियां वीरान हो गई हैं। पौधे वातावरण को ठंडा करने व पानी की आपूर्ति का काम करते हैं। इसलिए जल संरक्षण के लिये पेड़ पौधों को काटने से रोकना है एवं नए पौधे लगाना है। उन्होंने कहा जल संकट पूरे क्षेत्र में ही बडी समस्या है। इसका कारण वर्षा के जल का रीचार्ज न होना है। तालाब एवं तलैया पानी के स्टोरेज का माध्यम है। इसलिए जन सहयोग से इस कार्य को पूरा करें। उन्होंने जल समस्या को लेकर पीएचई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सर्वे कराकर पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। 

प्रभारी मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने विकास यात्रा के दौरान विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण किया। उन्होंने लगभग पौने सात करोड़ की लागत से बनने वाले सिमरिया पंचायत में सिमरिया से चैत पहुँच मार्ग एवं 2.71 करोड़ की लागत से बनने वाली मिलघन से कोसा रोड़ का शिलान्यास किया। इसके साथ ही बनवार में 50 लाख रूप्ए की लागत से निर्मित ग्रामीण हाट बाजार का लोकार्पण किया। इसी क्रम में मंत्री श्री बिसेन ने चीनौर में विकास कार्यों का निरीक्षण किया। उन्होंने चीनौर मंडी में खरीदी कार्य का जायजा लिया और निर्देश दिए कि किसानों को खरीदी में किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसके लिये आवश्यक होने पर तौल कांटों की सख्या भी बढ़ाई जाए। मंत्री बिसेन ने विकास यात्रा के दौरान आमजन की समस्यायें सुनी और उनके निराकरण का आश्वासन दिया। उन्होंने आवेदन लेकर संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि नागरिकों की समस्याओं का निराकरण किया जाए। उन्होंने घाटीगाँव जनपद पंचायत के ग्राम बरई और भितरवार के ग्राम चीनौर में जन समस्या निवारण शिविर का शुभारंभ किया। शिविर में विभिन्न विभागों द्वारा स्टॉल लगाए गए और लोगों के आवेदन लिए गए। 

इस अवसर पर मंत्री बिसेन ने सभी नागरिकों से कहा कि किसी भी समस्या के निराकरण के लिये आमजन का जागरूक होना अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा कई कल्याणकारी योजनायें संचालित की जा रही हैं। योजनाओं का क्रियान्वयन सही ढ़ंग से होगा, तभी विकास संभव होगा। उन्होंने गरीब मजदूरों के लिये  असंगठित श्रमिक कल्याण योजना, विधवा पेंशन के लिये कल्याणी योजना, कृषक समृद्धि योजना आदि की जानकारी दी। प्रभारी मंत्री बिसेन ने कहा कि प्रदेशभर में लोगों की समस्याओं के निराकरण के लिये जिला स्तर से लेकर ग्राम पंचायत स्तर तक शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा आवास के लिये भू-खण्ड का अधिकार देने के लिये विधानसभा में कानून बनाया गया है और प्राकृतिक आपदा में मृत्यु होने पर सरकार आर्थिक सहायता दे रही है। उन्होंने कहा सरकार किसी भी परेशानी, आपदा की स्थिति में लोगों को सहायता दे रही है। इसमें किसी प्रकार की देरी न हो। इसलिए प्राकृतिक आपदा में राशि स्वीकृति का अधिकार अनुविभागीय अधिकारी को दिया गया है। जन समस्या निवारण शिविर के दौरान मंत्री श्री बिसेन ने कहा कि समस्या और निवारण सतत चलने वाली प्रक्रिया है। हमें समस्याओं के निराकरण के लिए सचेत होकर कार्य करना है। 
मंत्री बिसेन ने कहा कि मध्यप्रदेश किसानों का प्रदेश है। इसलिए सरकार किसानों के हितों को ध्यान में रखकर कार्य कर रही है। इसीलिए कृषक समृद्धि योजना लाई गई है। इसके तहत आगामी 10 जून को सरकार उन किसानों के खाते में 265 रूपए प्रति क्विंटल के हिसाब से धनराशि जमा करने जा रही है, जिन्होंने इस वर्ष समर्थन मूल्य पर गेहूँ बेचा है। उन्होंने कहा खेती को लाभ धंधा बनाना होगा और इसके लिये हमें कम लागत और नई तकनीक को अपनाने का प्रयास करना होगा, जिससे उत्पादन बढ़े। यह भी आवश्यक है कि किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य मिले, इसके लिये समर्थन मूल्य पर उनकी फसलें खरीदी जा रही हैं। भितरवार विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत विकास यात्रा के दौरान आयोजित कार्यक्रमों में ग्रामीण जिला अध्यक्ष वीरेन्द्र जैन, अशोक पटसारिया सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने भी अपने विचार व्यक्त किए और कहा कि वर्तमान समय में सभी को किसी न किसी प्रकार से सरकार सहयोग कर रही है। कई कल्याणकारी योजनायें चलाई जा रही हैं। पिछड़े व कमजोर वर्गों को मुख्यधारा से जोड़ने के लिये निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं और इसके अच्छे परिणाम भी देखे जा रहे हैं कि प्रदेश निरंतर विकास कर रहा है। 

Latest Updates