नई संभावनाएं खोजकर करें अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन

2018-04-26 18:09:27 48
Sandhya Desh


ग्वालियर। वर्तमान समय में वैश्वीकरण के युग में हर क्षेत्र में ज्ञान अर्जित करने के बेहतर अवसर सामने आ रहे हैं। शिक्षकों एवं छात्रों को फुलब्राइट फैलोशिप्स जैसे सभी अवसरों के बारे में अद्यतन जानकारी रखते हुए अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करना चाहिए। इससे उनके द्वारा उनका एवं उनके शैक्षणिक संस्थान का नाम रोशन होगा। 
कृषि महाविद्यालय ग्वालियर के सभागार में कृषि शिक्षा, अनुसंधान तथा शिक्षण  क्षेत्र में विदेश में उपलब्ध अवसरों की विस्तृत जानकारी देने के लिए आयोजित कार्यक्रम में यह बात राजमाता विजयराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय  की अधिष्ठाता कृषि संकाय डाॅ. मृदुला बिल्लौरे ने कही। यूनाइटेड स्टेट्स इंडिया एजुकेशनल फाउंडेशन द्वारा अमेरिका में भारतीय नागरिकों को अध्ययन के लिए दी जाने वाली फुलब्राइट फैलोशिप्स के बारे में प्रचार प्रसार के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में फाउंडेशन की ओर से फुलब्राइट फैलोशिप्स की जानकारी देने विशेषज्ञ के रुप में  डाॅ. सुदर्शन दास एवं मुम्बई से आई डाॅ. सुरंजना दास मंचासीन थे।  प्रारंभ में अतिथि स्वागत के बाद विशेषज्ञों ने पावर पाइंट प्रजेन्टेशन के जरिए भारतीयों को अमेरिका में अध्ययन के लिए दी जाने वाली फुल ब्राइट फेलोशिप के बारे में पूरी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि भारत में फुल ब्राइट नेहरू व फुल ब्राइट कलाम फेलोशिप दी जाती है। इस हेतु दोनों देशों के मध्य हुए करार के द्वारा विभिन्न क्षेत्रों मे शिक्षा अनुसंधान एवं शिक्षा के लिए इच्छुक एवं योग्य व्यक्तियों के चुनाव किया जाता है। कार्यक्रम में इस फेलोशिप के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया के बारे में शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं को सरलतम ढंग से बताया गया।
इस क्रम में अध्यक्षता कर रही  डाॅ. मृदुला बिल्लौरे ने विद्यार्थियों से कहा कि बदलते समय में शिक्षा का क्षेत्र वैश्विक रुप से खुल चुका है। लगातार ज्ञान अर्जित करना हर शिक्षक और छात्र के लिए बहुत जरुरी है। वर्तमान समय में विद्यार्थियों के लिए देश ही नहीं बल्कि विदेशों में बेहतर अवसर खुल रहे हैं। हम कृषि में ΄स्टार्ट अप΄ तथा नवाचार की दिशा में भी नये कदम उठा सकते हैं। विश्वविद्याालय के छात्र तथा वैज्ञानिक इस फेलोशिप के द्वारा कई नये अनुसंधान कर सकते हैं। इस कार्यक्रम में अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय डाॅ. एम.पी. जैन, अधिष्ठाता छात्र कल्याण डाॅ. एस.पी.एस. तोमर सहित कृषि विश्वविद्यालय के अधिकारीगण सहित कृषि महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापकों व विभिन्न संकायों के विद्यार्थियों ने भाग लिया।

Latest Updates